loading...
महमूद मदनी का बड़ा बयान, जिस घर में न हो शौचालय, वहां मौलवी न पढ़ें निकाह कुख्यात अपराधी सनातन मड़ैया गिरफ्तार शिखा की शानदार गेंदबाजी ने दिलाई भारत को लगातार तीसरी जीत तम्मा तम्मा अगेन बादशाह के साथ किम जोंग के भाई की हत्या में उ. कोरिया का हाथ: दक्षिण कोरिया बाबुल के घर से विदा होने के बाद सीधे पोलिंग बूथ पहुंची दुल्हन आतंकवाद के खात्मे के लिए जयपुर से वाघा बॉर्डर तक 'हुंकार दौड़' रंगदारी मामले में आरोपी नक्सली गिरफ्तार मेकअप के दौरान कुछ एेसी दिखती है बॉलीवुड एक्ट्रैसेस, देखें तस्वीरें डोनाल्ड ट्रंप के बाद व्हाइट हाउस के अधिकारी राज शाह ने भी की मीडिया की आलोचना सोशल मीडिया पर धोनी के समर्थन में आये प्रशंसक OMG: ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जहां एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं कैदी यूपी विस चुनाव 2017 : तीसरे चरण का मतदान समाप्त, 55 से 60 फीसदी के बीच रहा मतदान सीपीडब्ल्यूडी में कॉर्पोरेट वर्क कल्चर योजना के विरोध में उतरे कर्मचारी दरगाह हमले के बाद पाकिस्तान ने आतंवादियो पर तेज की कार्यवाही श्रीलंका ने दूसरे टी-20 में ऑस्ट्रेलिया को 2 विकेट से हराया VIDEO: करिश्मा कपूर के बॉयफ्रेंड से मिले पापा रणधीर कपूर नेत्रहीन टी-20 विश्व कप विजेता भारतीय टीम को सम्मानित करेंगे गोयल सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कबीर का निधन, अपोलो अस्पताल ने की पुष्टि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु का हिस्सा नहीं होंगे स्टार्क
न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया नहीं की जा सकती ‘हाईजैक’ : CJI
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 12:17:44 AM
1 of 1

नयी दिल्ली। न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच भारत के प्रधान न्यायाधीश टी एस ठाकुर ने आज कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया ‘‘हाईजैक’’ नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि ‘‘निरंकुश शासन’’ के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है। ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी ‘‘बेमतलब’’ होंगे।

Image result for The process of appointment of judges can not be hijacked CJI

स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़
प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां ‘स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़’ विषयक 37वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को ‘लक्ष्मणरेखा’ में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.