यहां लुक नही है मायने, है एक-दूसरे से बिल्कुल अलग फिर भी है साथ, ऐसे है यह कपल..! 7वां वेतन आयोग: बढ़ेगा कर्मचारियों का महंगाई भत्ता और एचआरए..! यूपी चुनाव में सबसे खूबसूरत उम्मीदवार, जो है काफी चर्चा में, तस्वीरें वायरल यहां बीमारी से पीड़ित लोगों को किडनैप कर, उनकी बॉडी पार्ट्स से बनाई जाती हैं दवाइयां..! संभल मे दस वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म, पुलिस मामला दबाने मे जुटी मुख्यमंत्री को जब स्कूली बच्चों ने ’शिक्षक’ बनकर पढ़ाया... ट्रेन से कटकर वृद्ध की मौत गोमती नदी में डूबा छात्र, हंगामा नोटबंदी राष्ट्रहित में एक बड़ा फैसला : मनोज सिन्हा संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत, दहेज हत्या का आरोप शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स में 100 अंकों का उछाल सपा-बसपा ने राजनीति में फैलाया कीचड़, अब खिलेगा कमल: राजनाथ मुख्यमंत्री के साथ दिव्यांग बच्चों ने साझा किए अपने बड़े सपने एक साल में 82000 धनाढ्यों ने छोड़ा देश पुलिस व सीआरपीएफ ने डकैत को दबोचा विजय माल्या को भारत लाने की मुहिम तेज एचआईएल : रांची ने मेजबान दिल्ली को 6-2 से हराया झांसा देकर शादीशुदा का यौन शोषण 19 वाहन प्रदूषण जांच केन्द्रों की मान्यता रद्द ओवैसी ने भाजपा पर मुसलमानों से भेदभाव का लगाया आरोप
आज सुप्रीम कोर्ट करेगा तय, शहाबुद्दीन को मिलेगा बिहार या जायेंगे तिहाड़ जेल
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 11:53:33 AM
1 of 1

पटना। बिहार के आरजेडी के बाहुबली नेता मोहम्म्द शहाबुद्दीन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त होता जा रहा है। कोर्ट ने साफ पूछा है कि शहाबुद्दीन को क्यों न सीवान जेल से सीधा तिहाड़ ट्रांसफर कर दिया जाए? उसके सभी मामले भी दिल्ली ट्रांसफर हो सकते हैं। इन मामलों में आज सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई होनी है जिसके बाद तय हो जाएगा कि शहाबुद्दीन तिहाड़ जाएंगे या नही?

उनके खिलाफ चल रहे मुकदमों को चंदा बाबू के बेटे की हत्या के मामले की जांच सीबीआई से कराने, उन्हें दिल्ली की जेल में ट्रांसफर करने की मांग और शहाबुद्दीन पर बिहार की अदालतों में चल रहे विभिन्न केसों के गवाहों की सुरक्षा से संबंधित मामलों पर सुप्रीम कोर्ट एक साथ सुनवाई कर रहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने राजद के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन मामले में सुनवाई के दौरान सोमवार को टिप्पणी की कि हमारा हमेशा प्रयास रहता है कि आपराधिक मामलों में निष्पक्ष सुनवाई हो। शहाबुद्दीन का मामला गवाहों की सुरक्षा निष्पक्ष सुनवाई के सिद्धांत पर विचार के लिए एक टेस्ट केस की तरह है। यह टिप्पणी जस्टिस दीपक मिश्रा ने शहाबुद्दीन को सीवान जेल से दिल्ली की तिहाड़ जेल में शिफ्ट करने और उसके खिलाफ 45 अन्य मामलों से संबंधित याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान की।

शहाबुद्दीन के वकील ने दर्ज करवाई आपत्ति
इस दौरान कोर्ट ने कहा कि क्यों शहाबुद्दीन को सीवान जेल से दिल्ली की तिहाड़ जेल में स्थानांतरित करने के साथ-साथ उसके सभी केसों की सुनवाई भी दिल्ली में स्थानांतरित कर दी जाए? इस पर शहाबुद्दीन के वकील ने आपत्ति जताते हुए कहा कि उस पर दर्ज सभी मामले राजनीति से प्रभावित और झूठे हैं। मीडिया ने उन्हें आपराधिक पृष्ठभूमि का साबित कर दिया है। ज्यादातर केस तो तब दर्ज किए गए जब वे जेल में थे। केसों को दिल्ली ट्रांसफर नहीं किया जाना चाहिए।

चंदा बाबू के वकील ने कहा- जेल में रहते हुए ही किया सब
इस पर याचिकाकर्ता चंदा बाबू की ओर से पेश वकील ने कहा कि जेल में रहते हुए ही उन्होंने यह सब किया। ऐसे में जेल से बाहर रहने पर वह बहुत कुछ कर सकते हैं। शहाबुद्दीन से बिहार की पुलिस इस कदर खौफजदा है कि उसने चंदाबाबू के तीसरे बेटे की हत्या में शहाबुद्दीन को नामजद तक नहीं किया है।

शहाबुद्दीन के खिलाफ गवाही देने वाले की हत्या कर दी जाती है। ऐसे में शहाबुद्दीन को केवल दिल्ली की तिहाड़ जेल में ट्रांसफर किया जाना चाहिए, बल्कि चंदा बाबू के तीसरे बेटे की हत्या के मामले में बिहार पुलिस द्वारा की गई जांच को दरकिनार कर सीबीआई को मामले की दोबारा से जांच के आदेश दिए जाने चाहिए।

इससे पहले सीबीआई की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता पीके डे और पी नरसिम्हन ने पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड मामले में स्टेटस रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट के समक्ष एक सीलबंद लिफाफे में पेश की।

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़किया- सड़क किनारे मिनी स्कर्ट में अपना बिजनेस चला रही हैं।

यह भी पढ़े: यहां लॉटरी जीतने के बाद, पैसों के बजाए मिलती हैं लड़कियां।

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़की बिना अंडरवियर के शोरूम में शॉपिंग करने पहुंची

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.