संजीवनी टुडे

News

जनधन खातों से एक माह में केवल 10 हजार रूपए ही निकाले जा सकेंगे

Sanjeevni Today 30-11-2016 13:32:46

नई दिल्ली। जनधन खातों से धन निकासी की सीमा को घटा दिया गया है| अब महीने में केवल 10 हजार रुपये ही निकाले जा सकते हैं वह भी उन खातों से जिनका अपने ग्राहक को जानें (केवाईसी) संबंधित सभी शर्ते पूरी की हों। आरबीआई ने कहा है कि प्रधानमंत्री जनधन योजना (पीएसजेडीवाई) के तहत निर्दोष किसानों और ग्रामीण खाताधारकों को बेनामी संपत्ति लेन-देन और धन शोधन कानून के तहत कालेधन को वैध करने की गतिविधियों से होने वाले कानूनी परिणामों से बचाने के लिए ऐसा किया जा रहा है। 

नए निर्देशों के मुताबिक केवाईसी से जुड़ी सभी प्रक्रिया पूरी करने वाले खाताधारक महीने में 10 हजार रुपए ही निकाल पाएंगे। इससे ज्यादा निकालने के लिए बैंक के शीर्ष अधिकारियों को इसका उचित कारण बताना होगा जिसे निकासी प्रक्रिया में लिखित तौर पर देना होगा। वहीं जिनकी केवाईसी प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है और नौ नवम्बर के बाद उसमें धन जमा कराया गया है, ऐसे खाताधारक केवल पांच हजार रुपये निकाल सकते हैं। आरबीआई ने कहा है कि इसको देखते हुए नोटबंदी के बाद से इन खातों में जमा हुए धन को लेकर यह तात्कालिक उपाय किए गए हैं। 

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, निजी क्षेत्र के बैंकों, विदेशी बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, शहरी सहकारी बैंकों, राज्य सहकारी बैंक, जिला केंद्रीय सहकारी बैंकों के अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी को संबोधित करते हुए यह पत्र लिखा है। उल्लेखनीय है कि 10 से 27 नवम्बर तक जनधन खातों में 27000 करोड़ रुपये के पुराने नोट जमा कराए गए हैं| इसके अलावा किसानों के भी खातों में भी भारी संख्या में पुराने नोट जमा कराए जा रहे हैं। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि कालेधन को सफेद बनाने के लिए इनका उपयोग किया जा रहा है। 

यह भी पढ़े: रातों रात करोड़पति बना यह गांव... जानिए इसकी वजह!

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े:सपने में भी कांपता था अकबर इस भारतीय योद्धा के नाम से ...

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज

Watch Video

More From national

Recommended