जब बढ़ने लगे वर्कलोड, तो ऐसे करें हैंडल चमेली के फूल से निखारें अपनी सुंदरता अधिक समय तक काम करना सेहत के लिए नुकसानदायक इस गणेश चतुर्थी पर अपने हाथों से बनाएं मोदक सूखा नारियल स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद 18 एईएस रोगी मिलने के बाद स्वास्थ्य महकमा सतर्क जिला अस्पताल में खामियां मिलने पर एडी ने जताई नाराजगी डीसी ने कहा- मौसमी बीमारियों को लेकर सावधानी बेहद जरूरी बाढ़ के बाद महामारी का खतरा, स्वास्थ्य अमला अलर्ट रॉबर्ट वाड्रा के बीकानेर जमीन घोटाले की CBI करेगी जांच नवाज़ुद्दीन ने कहा,चित्रांगदा को 'बाबूमोशाय बंदूकबाज़' की स्क्रिप्ट से थी परेशानी भारतीय जूनियर पुरुष हॉकी टीम की कमान फेलिक्स को सौंपी मॉल में महिला ने लगाई तीसरी मंजिल से छलांग, CCTV कैमरे में कैद हुई घटना नागौर तांगा दौड़ से हटेगी रोक, हाईकोर्ट में दायर होगी याचिका: अजय सिंह एक बार फिर कोहली-स्मिथ में होगी कड़ी जंग: माइक हसी गोदाम विहीन जीएसएस एवं केवीएसएस में होगा गोदामों का निर्माण आमिर ने कहा, सिर्फ खान अभिनेता ही नहीं बॉलीवुड में स्टारडम ड्रेस को लेकर कमेंट करने वाले का मिताली ने किया मुँह बंद शिक्षक नहीं रहेंगे अप्रशिक्षित, डीएलएड कोर्स के लिए 15 Sep. तक करे आवेदन जिस बच्ची का वीडियो देख खफा थे विराट-धवन, वो निकली सिंगर शरीब साबरी की भांजी
लोकसभा में मजदूरी संहिता विधेयक 2017 पेश, तनख्वाह कम दी तो 50 हजार तक का जुर्माना
sanjeevnitoday.com | Friday, August 11, 2017 | 04:50:55 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सरकार ने आज लोकसभा में मजदूरी संहिता विधेयक 2017 पेश किया जिसमें केंद्र को सार्वभौम न्यूनतम मजदूरी तय करने का अधिकार दिया गया है और इससे असंगठित क्षेत्र के 40 करोड़ श्रमिकों को लाभ होने की उम्मीद है। लोकसभा में श्रम एवं रोजगार मंत्री बंडारु दत्तात्रेय ने मजदूरी संहिता विधेयक 2017 पेश किया। इसके माध्यम से चार कानूनों - मजदूरी संदाय अधिनियम 1936, न्यूनतम मजदूरी अधिनियम 1948, बोनस संदाय अधिनियम 1965 और समान पारिश्रमिक अधिनियम 1976 को मिलाकर उसे सरल और सुव्यवस्थित बनाने का प्रस्ताव किया गया है। 

इस बिल का खास प्रावधान यह है कि किसी मजदूर को तनख्वाह कम दी गई तो उसके नियोक्ता पर 50 हजार रुपए जुर्माना लगेगा। पांच साल के दौरान ऐसा फिर किया तो 1 लाख जुर्माना या 3 माह की कैद या दोनों सजाएं एक साथ देने का प्रावधान भी है। हालांकि विपक्ष ने इस बात पर विरोध जताया कि सरकार ने अल्प सूचना पर बिल पेश कर दिया।उधर, श्रम मंत्री का कहना था कि अभी बिल पेश किया गया है, इस पर चर्चा बाद में होगी।

दत्तात्रेय ने कहा, 'इसका मकसद श्रम अधिनियमितियों को सुसंगत, सरल और व्यवस्थित बनाना है। किसी भी स्थिति में श्रमिकों के अधिकारों का हनन नहीं होगा। यह श्रमिकों की मजदूरी के संदर्भ में ऐतिहासिक बदलाव लाने वाला होगा और देश में पहली बार सार्वभौम न्यूनतम मजदूरी लागू होने का मार्ग प्रशस्त होगा।' 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.