शीना बोरा हत्याकांड: पीटर मुख़र्जी और इंद्राणी पर हत्या का आरोप निश्चित हरमनप्रीत कौर पर आचार संहिता का उल्लंघन करने का लगा आरोप साइकिल गंवाने के बाद अब यह हो सकती है मुलायम की अगली चाल बॉलीवुड ने किया इस 'दंगल' गर्ल को सपोर्ट Renault ने भारत में 2.93 लाख रूपये में पेश किया Kwid का स्पेशल एडिशन NSG मामला : भारत की सदस्यता को लेकर चीन-अमेरिका में हुई बयानबाजी अयोध्या: सड़क किनारे अलाव तापते लोगों पर पलटा ट्रक, 2 की मौत इस्तीफे की झूठी अफवाहों का खंडन करते हुए विजय ने कहा- पार्टी से कोई नाराजगी नहीं आस्ट्रेलियाई ओपन टूर्नामेंट में सेरेना और नडाल ने किया शानदार प्रदर्शन आखिर कैसे हुआ घूंघट उठाने से महिलाओ के जीवन स्तर में सुधार कांग्रेस और सपा में कभी भी हो सकता है गठबंधन का ऐलान: गुलाब नबी BSF जवान वीडियो मामला: खाने की क्वालिटी पर दिल्ली हाईकोर्ट ने BSF से मांगी रिपोर्ट Kawasaki जल्द लॉन्च करेगी पावरफुल Bike बिग बैश लीग: ब्रैड हॉज के हाथ से छूटा बल्ला, विकेटकीपर का टूटा जबड़ा ये एयरलाइन्स कंपनी लेकर आई है 99 रुपए में हवाई सफर करने का मौका, ये है शर्ते रातों रात लाइमलाइट में आ गई ये पाक सिंगर, 42 मिलियन से ज्यादा मिले यू-ट्यूब व्यूज Samsung ने पेश किया गैलेक्सी J3 इमर्ज स्मार्टफोन यूपी चुनाव: 17वीं विधानसभा के प्रथम चरण की अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन शुरू Sanjeevni Today: Top Stories of 1pm NSG मामला : चीन ने किया अमेरिका के बयान का विरोध, अमेरिका ने चीन को बताया था भारत का अवरोधक
देश के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले सभी शहीद: अदालत
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 08:53:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सूत्रों के अनुसार  उच्च न्यायालय ने आज कहा कि देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी शहीद हैं जिसे समाज द्वारा याद किया जाता है और सरकार से ‘शहीद’ के प्रमाणपत्र जैसी किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है। न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति वी कामेश्वर राव की पीठ ने कहा, ‘‘कोई भी जो अपने प्राण न्यौछावर करता है या देश के लिए किसी कार्रवाई के दौरान मारा जाता है उसे शहीद घोषित होने के लिए किसी प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं होती है।’’

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

 पीठ ने कहा, ‘‘किसी व्यक्ति द्वारा इस तरह के बलिदान को बड़े रूप से समाज द्वारा याद रखा जाता है। आपने प्राण न्यौछावर किये, इसलिए आप शहीद हैं, किसी से किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है।’’ अदालत ने यह मौखिक टिप्पणी एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान की जिसमें सेना, नौसेना और वायुसेना की तरह ड्यूटी करते हुए बलिदान देने वाले अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों के लिए ‘शहीद’ के दर्जे की मांग की गई थी।

पीठ ने कहा कि सरकार के अनुसार, तीनों सेनाओं में ‘शहीद’ शब्द का कहीं प्रयोग नहीं हुआ है और रक्षा मंत्रालय द्वारा ड्यूटी करते हुए मारे गये सदस्यों को शहीद घोषित करने के लिए ऐसा कोई आदेश, अधिसूचना नहीं है।

यह भी पढ़े : अगर आप भी खाते हैं ये दवाएं तो संभले, हो रही है "Sex Life" ख़तम !

यह भी पढ़े: आ रहा है "Porn Star" बनाने वाला रियलिटी शो !

यह भी पढ़े: शर्मनाक: 'छात्रा' को बंधक बनाकर 'प्रोफेसर' ने किया बलात्कार, क्या ऐसे हो गए है हमारे आदरणीय गुरु?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.