लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़, गहरी नींद में स्वास्थ्य विभाग किसानों को मिलेगा फायदा, जीएसटी के तहत उर्वरकों कीमतों में आई कमी प्रो कबड्डी लीग: यू-मुंबा ने यूपी योद्धा को 37-34 से दी मात प्रेगनेंसी में सोहा को इस तरह हेल्दी गिफ्ट्स भेज रही हैं भाभी करीना कोटा में अभय कमाण्ड सेंटर का हुआ उद्घाटन, स्मार्ट बनी राजस्थान पुलिस छात्रा की गला घोटकर कर दी हत्या, आरोपी को किया गिरफ्तार 15 साल के इस लड़के की फेरारी कार देख एक्साइटेड हुए सलमान कोच विमल कुमार ने कहा- साइना नेहवाल के लिए सुर्खियों से दूर रहना ठीक अकमल ने कोच आर्थर पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप, PCB ने दिया नोटिस शहरी व ग्रामीण इलाकों में अब मिलेगा एक समान केरोसीन फिल्म 'जुडवां 2' का नया पोस्‍टर हुआ जारी, इस दिन रिलीज होगा फिल्म का ट्रेलर शूटिंग रेंज में ततैयों का हमला, शूटर लवलीन कौर घायल मेट्रो में सफर करने वाली एक युवती का बनाया वीडियो, आरोपी के खिलाफ दर्ज FIR कोटा का हवाई सपना साकार, कोटा से जयपुर इंट्रा स्टेट हवाई सेवा शुरू अवार्ड के लिए कई कोचों की सिफारिश करने वाले एथलीट हो दंडित: अखिल MI के फ़ोन में फिर हुआ धमाका, पूरा परिवार सदमे में बोल्ड ड्रेस में डायरेक्टर के पास पहुंची सारा, इस फिल्म से करेगी बॉलीवुड में डेब्यू पद्म पुरस्कारों के लिये नामांकन की अंतिम तारीख 15 सितंबर नोटों को बिस्तर पर बिछाकर ये बॉक्सर करता है नींद पूरी अगर आपको आधार कार्ड में कुछ अपडेट करने है तो ये तरीके अपनायें
देश के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले सभी शहीद: अदालत
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 08:53:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सूत्रों के अनुसार  उच्च न्यायालय ने आज कहा कि देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी शहीद हैं जिसे समाज द्वारा याद किया जाता है और सरकार से ‘शहीद’ के प्रमाणपत्र जैसी किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है। न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति वी कामेश्वर राव की पीठ ने कहा, ‘‘कोई भी जो अपने प्राण न्यौछावर करता है या देश के लिए किसी कार्रवाई के दौरान मारा जाता है उसे शहीद घोषित होने के लिए किसी प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं होती है।’’

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

 पीठ ने कहा, ‘‘किसी व्यक्ति द्वारा इस तरह के बलिदान को बड़े रूप से समाज द्वारा याद रखा जाता है। आपने प्राण न्यौछावर किये, इसलिए आप शहीद हैं, किसी से किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है।’’ अदालत ने यह मौखिक टिप्पणी एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान की जिसमें सेना, नौसेना और वायुसेना की तरह ड्यूटी करते हुए बलिदान देने वाले अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों के लिए ‘शहीद’ के दर्जे की मांग की गई थी।

पीठ ने कहा कि सरकार के अनुसार, तीनों सेनाओं में ‘शहीद’ शब्द का कहीं प्रयोग नहीं हुआ है और रक्षा मंत्रालय द्वारा ड्यूटी करते हुए मारे गये सदस्यों को शहीद घोषित करने के लिए ऐसा कोई आदेश, अधिसूचना नहीं है।

यह भी पढ़े : अगर आप भी खाते हैं ये दवाएं तो संभले, हो रही है "Sex Life" ख़तम !

यह भी पढ़े: आ रहा है "Porn Star" बनाने वाला रियलिटी शो !

यह भी पढ़े: शर्मनाक: 'छात्रा' को बंधक बनाकर 'प्रोफेसर' ने किया बलात्कार, क्या ऐसे हो गए है हमारे आदरणीय गुरु?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.