तमिलनाडु विधानसभा में हुआ वाकया लोकतंत्र के लिए शर्मनाक : वेंकैया नायडू बैंकों का एनपीए 6 लाख करोड़ से ज्यादा हुआ मां की डांट से क्षुब्ध बेटे ने लगाई फांसी PM मोदी पर लालू का निशाना, कहा- देश में श्मशान बनाने से किसी ने रोका है क्या? जरीन खान पहुंची ताजनगरी तो उमड़ी फैंस की भीड़ जानिए, IPL 2016 की नीलामी के 10 सबसे महंगे क्रिकेटर ट्रंप ने तेज की सुरक्षा सलाहकार की तलाश, कुछ ही दिनों में नियुक्ति की उम्मीद बिहार में फिर रेल दुर्घटनाएं होते-होते बची, कई ट्रेनें टूटी पटरी से होकर गुजारी! Pics: फिल्म 'रंगून' की स्क्रीनिंग में करीना ने सैफ के पोस्टर के सामने दिया पोज़ मोबाइल टावरों से निकलने वाली हानिकारक तरंगें पक्षियों के लिए नुकसानदायक, जानिए कैसे? हाफिज सईद पर कार्रवाई को भारत ने सराहा, कहा- आतंकवाद से क्षेत्र को मुक्त बनाने की दिशा में पहला तार्किक कदम सुप्रीम कोर्ट ने की अखिलेश सरकार की समाजवादी पेंशन योजना की तारीफ बिहार में बोर्ड परीक्षा के पेपर लीक करने के आरोप में पुलिस ने 7 को किया गिरफ्तार! IPL में चुने जाने पर मोहम्मद नबी ने दिया चौंकाने वाला बड़ा बयान, कहा... जेट एयरवेज का ATC से संपर्क टूटा तो जर्मनी के लड़ाकू विमानों ने घेरा MobiKwik: कनेक्ट ब्रॉडबैंड के बिल भुगतान पर ग्राहकों को दिया जायेगा 15% कैशबैक अक्षय कुमार के बाद अब रोहित शेट्टी करेंगे इस शो को होस्ट टाइम्स स्क्वेयर पर ट्रंप की नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन 56.4% बढ़कर 6,14,72 करोड़ हुआ सरकारी बैंकों का NPA 'मिर्ची म्यूजिक अवॉर्ड्स में अभिनेत्रियों ने बिखेरा जलवा, देखें तस्वीरें
देश के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले सभी शहीद: अदालत
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 08:53:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सूत्रों के अनुसार  उच्च न्यायालय ने आज कहा कि देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी शहीद हैं जिसे समाज द्वारा याद किया जाता है और सरकार से ‘शहीद’ के प्रमाणपत्र जैसी किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है। न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति वी कामेश्वर राव की पीठ ने कहा, ‘‘कोई भी जो अपने प्राण न्यौछावर करता है या देश के लिए किसी कार्रवाई के दौरान मारा जाता है उसे शहीद घोषित होने के लिए किसी प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं होती है।’’

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

 पीठ ने कहा, ‘‘किसी व्यक्ति द्वारा इस तरह के बलिदान को बड़े रूप से समाज द्वारा याद रखा जाता है। आपने प्राण न्यौछावर किये, इसलिए आप शहीद हैं, किसी से किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है।’’ अदालत ने यह मौखिक टिप्पणी एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान की जिसमें सेना, नौसेना और वायुसेना की तरह ड्यूटी करते हुए बलिदान देने वाले अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों के लिए ‘शहीद’ के दर्जे की मांग की गई थी।

पीठ ने कहा कि सरकार के अनुसार, तीनों सेनाओं में ‘शहीद’ शब्द का कहीं प्रयोग नहीं हुआ है और रक्षा मंत्रालय द्वारा ड्यूटी करते हुए मारे गये सदस्यों को शहीद घोषित करने के लिए ऐसा कोई आदेश, अधिसूचना नहीं है।

यह भी पढ़े : अगर आप भी खाते हैं ये दवाएं तो संभले, हो रही है "Sex Life" ख़तम !

यह भी पढ़े: आ रहा है "Porn Star" बनाने वाला रियलिटी शो !

यह भी पढ़े: शर्मनाक: 'छात्रा' को बंधक बनाकर 'प्रोफेसर' ने किया बलात्कार, क्या ऐसे हो गए है हमारे आदरणीय गुरु?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.