इस लड़के से मौत भी रहती है कोसो दूर, हैरान कर दिया सबको किन्नर भी करेंगे शादी इस जगह ... जाने जरा इस लड़की के शरीर में नही एक भी पसली, इसलिए हुआ ऐसा चल गया पता ! पहले मुर्गी आयी या अंडा ... आप भी जाने कौन आया पहले हाथियों के डर से इस गांव के लोग घर बनाकर रहते हैं पेड़ों पर Room No. 502 ! आज भी दिखती है वो मरी हुई लड़की इस रूम में नाराज पिता व भाई ने युवती को धारदार हथियार से काटा मज़बूरी में 7 करोड़ में बेचनी पड़ी वर्जिनिटी इस लड़की को इस नवजात बच्ची की जीभ थी सामान्य से बड़ी फिर किया ये ... 5 सितारा होटल में अमेरिकी पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म ट्राले-बाइक में टक्कर, महिला की मौत नहीं रहे पूर्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी अंपायर फुलेल सिंह सुजलाना आज का राशिफल (3 दिसम्बर 2016) जल्द बॉलीवुड में इंट्री करेगे सुनील शेट्टी के बेटे अहान नोटबंदी से कालाधन आएगा, यह परियों की कहानी जैसा: महेश भट्ट ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री कैमरन ने आज मोदी से की मुलाकात 'जॉली LLB 2' का पोस्टर जारी, अक्षय का नजर आया सीधा साधा लुक..! कन्हैया कुमार ने मोदी को बताया ट्रंप से बेहतर टीवी एक्ट्रेस श्वेता तिवारी के घर गुंजी नन्ही किलकारी..! अमेरिकी रक्षा मंत्री कार्टर अपनी आखिरी विश्व यात्रा पर अगले हफ्ते आएंगे भारत
देश के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले सभी शहीद: अदालत
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 08:53:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सूत्रों के अनुसार  उच्च न्यायालय ने आज कहा कि देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी शहीद हैं जिसे समाज द्वारा याद किया जाता है और सरकार से ‘शहीद’ के प्रमाणपत्र जैसी किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है। न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और न्यायमूर्ति वी कामेश्वर राव की पीठ ने कहा, ‘‘कोई भी जो अपने प्राण न्यौछावर करता है या देश के लिए किसी कार्रवाई के दौरान मारा जाता है उसे शहीद घोषित होने के लिए किसी प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं होती है।’’

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

 पीठ ने कहा, ‘‘किसी व्यक्ति द्वारा इस तरह के बलिदान को बड़े रूप से समाज द्वारा याद रखा जाता है। आपने प्राण न्यौछावर किये, इसलिए आप शहीद हैं, किसी से किसी अन्य मान्यता की जरूरत नहीं है।’’ अदालत ने यह मौखिक टिप्पणी एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान की जिसमें सेना, नौसेना और वायुसेना की तरह ड्यूटी करते हुए बलिदान देने वाले अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों के लिए ‘शहीद’ के दर्जे की मांग की गई थी।

पीठ ने कहा कि सरकार के अनुसार, तीनों सेनाओं में ‘शहीद’ शब्द का कहीं प्रयोग नहीं हुआ है और रक्षा मंत्रालय द्वारा ड्यूटी करते हुए मारे गये सदस्यों को शहीद घोषित करने के लिए ऐसा कोई आदेश, अधिसूचना नहीं है।

यह भी पढ़े : अगर आप भी खाते हैं ये दवाएं तो संभले, हो रही है "Sex Life" ख़तम !

यह भी पढ़े: आ रहा है "Porn Star" बनाने वाला रियलिटी शो !

यह भी पढ़े: शर्मनाक: 'छात्रा' को बंधक बनाकर 'प्रोफेसर' ने किया बलात्कार, क्या ऐसे हो गए है हमारे आदरणीय गुरु?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.