loading...
हाईटेक भिखारी: क्रेडिट और डेबिट कार्ड से भीख लेता हैं यह भिखारी! OMG: दो रुपये के पीछे हुई हाथापाई, वृद्ध ने गवाई जान! ‘कृत्रिम दिल’ की बदौलत 555 दिनों तक जीते रहे ब्रिटेन के लार्किन! गोलगप्पे का स्वाद बढ़ाने के लिए कर डाला ये हैरान कर देने वाला काम! OMG: TV का रिमोट चुराने पर हो गयी 22 साल की जेल! ये हैं भारत के 7 करोड़पति भिखारी, जानें रोज की कमाई? सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्व ने करवाया था इस किले का निर्माण, दीवारों से खून.. जानें इतिहास भारत में मुस्लिम दूसरा सबसे बड़ा बहुसंख्यक: आजाद VIDEO: इस फिल्म में रॉ एजेंट की भूमिका निभायेंगे सुशांत सिंह डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती, 65 रुपये के स्तर पर आया केजरीवाल सरकार ने दिया था निगम का संपत्ति कर बढ़ाने का निर्देश : मनोज तिवारी संदिग्ध परिस्थितियों में गर्भवती की मौत, हत्या का आरोप नेता सदन के तौर पर योगी तो उनके ठीक सामने नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी पर बैठेंगे रामगोविंद चौधरी हथियार सहित शातिर बदमाश गिरफ्तार अवैध देशी शराब की 51 पेटियां बरामद राजा भइया की कोठी पर सजा दरबार, शिकायतों के निस्तारण का कड़ा निर्देश अमर कालोनी : धारदार हथियार से महिला की हत्या PICS: बॉलीवुड की 5 सबसे खूबसूरत अभिनेत्रियां डाकघर बैंक हुआ हिट, दो दर्जन बड़े बैंक चाहते है जुड़ना मगरा व मेवात क्षेत्र की 300 ग्राम पंचायत मुख्यालयों को स्मार्ट विलेज के रूप में किया जाएगा विकसित, ग्राम सेवक का पदनाम होगा ग्राम विकास अधिकारी
निजी काम में तीस्ता ने किया दंगा पीड़ितों के फंड का इस्तेमाल: गुजरात पुलिस
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 01:11:07 PM
1 of 1

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट के समक्ष गुजरात पुलिस ने कहा है कि उन्‍हें तीस्‍ता सीतलवाड़ और उनके पति के खिलाफ कुछ और अहम दस्‍तावेज मिले हैं। इस बाबत कोर्ट में दायर किए गए 83 पन्‍नों के शपथ पत्र में एसीपी राहुल बी पटेल ने पूरा ब्‍यौरा दिया है। उन्‍होंने इसमें कहा है कि इन दस्‍तावेजों की जांच की जरूरत है। कोर्ट को पुलिस ने बताया कि तीस्‍ता की एनजीओ को वर्ष 2007 से लेकर 2014 तक मिले सभी तरह के दान की जांच की जा रही है। इस दौरान उनकी एनजीओ को 9.75 करोड़ रुपए का दान मिला था। 

इसमें देश और विदेश से मिली दान राशि शामिल है। आरोप है कि इस राशि में से करीब 3.85 करोड़ रुपए का इस्‍तेमाल उन्‍होंने निजी तौर पर किया था। एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार कोर्ट को पुलिस ने बताया है कि मुंबई के यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में तीस्‍ता और आनंद का बैंक अकाउंट है। उनके अनुसार 1 जनवरी 2001 से लेकर 31 दिसंबर 2002 के बीच इनमें से एक अकांउट में कोई पैसा जमा नहीं किया गया था। जनवरी 2013 से लेकर दिसबंर तक इस अकाउंट में आनंद ने 96.43 लाख रुपए जमा करवाए थे। 

इसके बाद सीतलवाड़ ने अपने अकाउंट में करीब 1.53 करोड़ रुपए जमा करवाए थे। गौरतलब हैै कि तीस्‍ता पर उनकी एनजीओ सेंटर फॉर जस्टिस एंड पीस और सबरंग को मिली दान की राशि का गलत इस्‍तेमाल करने का आरोप है। आरोपों के मुताबिक तीस्‍ता को दान के तौर पर 9.75 करोड़ रुपए मिले थे जिनमें से 3.85 करोड़ रुपए का इस्‍तेमाल उन्‍होंने निजी तौर पर किया था। यह रकम उनकी एनजीओ को राज्‍य में वर्ष 2002 में हुए गुजरात दंगों के दौरान दंगा पीडि़तों को राहत प्रदान करने के नाम पर मिली थी। इस बा‍बत दंगों केे शिकार और गुलबर्गा सोसायटी में रहने वाले दंपत्ति ने उनके खिलाफ मामला दायर किया था। 

अपनी शिकायत में उन्‍होंने तीस्‍ता पर दंगा पीड़ितों को राहत न पहुंचाने और वादाखिलाफी करने का आरोप लगाया गया था। गुजरात हाईकोर्ट ने इस मामले में तीस्‍ता और उनके पति की अग्रिम जमानत याचिका को ठुकरा दिया था। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए आदेश दिया था कि वह पुलिस को सभी जरूरी दस्‍तावेज मुहैया करवाएं जिनकी उन्‍हें जांच में जरूरत है। वहीं तीस्‍ता और उनके पति जावेद आनंद ने पुलिस पर उन्‍हें उत्‍पीड़न करने का आरोप लगाते हुए राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग का दरवाजा खटखटाया था। 

यह भी पढ़े: जिसके पैरो के निशान दिखे थे 6 महीने पहले उसी ने किया 6 किसानों का क़त्ल, आज भी नही हुआ खुलासा

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: जवाब नहीं ! चोरी के डर से घर को बना डाला लोहे का पिंजरा



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.