फोर्स-3 में आने के लिए सोनाक्षी सिन्हा की जुगत सेना को बदनाम मत करो :राज्यपाल पश्चिम बंगाल पंजाब विस चुनाव के लिए कांग्रेस की पहली सूची जारी होने को लेकर अटकलें तेज Sanjeevni Today: Top Stories of 5pm संजीवनी टुडे स्पेशल ! ऐसी रोचक जानकारी जो कर देगी सोचने पर मजबूर... एक बार पढ़े SC ने यूनिटेक को दिया पैसे लौटाने का आदेश एस्टन कचर ने अपने बेटे के नाम रखा पोर्टवुड कचर ये फिल्म बनेगी तो सिर्फ रणबीर कपूर के साथ ही बनेग़ी: संजय गुप्ता इस इलाके में 28 साल बाद गुंजी बच्चे की किलकारी JEE MAIN 2017 के फॉर्म भरने के लिए जरुरी हुआ आधार कार्ड स्वदेशी युद्धक विमान तेजस 'ओवरवेट' होने के कारण रिजेक्ट बेहद अजीब ! 1 मिनट तक छोड़ दिया नोटों से भरे बंद कमरे में, अंत में हुआ ये हाल वीजा, साइबर सुरक्षा और निवेश पर भारत और कतर में समझौते इस गुफा में निवास करते है भगवान् शिव और एक शेषनाग, कई रहस्य है इसमें ... जाने आप भी ट्रम्प की टीम से मिलने के लिए दूत भेज रहा है PAK Yamaha ने बेहतरीन फीचर्स के साथ लॉन्च की YZF-R15 हक्कानी नेटवर्क अभी भी अमेरिकी सेना के लिए बड़ा खतरा: अमरीकी शीर्ष कमांडर भारत में जल्द लॉन्च होगा LG V20 स्मार्टफोन कोस्ट गार्ड में 140 वॉरशिप शामिल कर समुद्र की महाशक्ति बनेगी नौसेना चौथा टेस्ट मैच देखने के लिए स्टूडेंट्स को मिलेगा फ्री पास
स्वराज इंडिया ने किया ‘वाहन घोटाले’ का दावा, सीबीआई जांच की मांग
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 02:37:00 AM
1 of 1

नई दिल्ली: योगेन्द्र यादव की अगुवाई वाली स्वराज इंडिया ने आज आरोप लगाया कि आप सरकार राष्ट्रीय राजधानी में ‘फाइनेंस माफिया’ की मिलीभगत से 1,85,000 रपये के नए आटो 4,50,000 रपये की कीमत में बेच रही है। पार्टी ने इस ‘वाहन घोटाले’ की सीबीआई से जांच कराने की भी मांग की और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस मुद्दे पर पाक साफ बाहर आने को कहा। हालांकि दिल्ली सरकार ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार किया। पार्टी के प्रवक्ता अनुपम का दावा है, ‘‘ यदि एक बेरोजगार व्यक्ति आटो रिक्शा खरीदने का निर्णय करता है तो उससे 4,50,000 रपये से 4,70,000 रपये के बीच भुगतान कराया जाता है। जबकि एक नए आटो की वास्तविक कीमत 1,85,000 रपये है।’’ 

Image result for Swaraj India yogendra

दूसरे लाइसेंसधारक को हस्तांतरित...
उन्होंने आरोप लगाया कि ‘‘फाइनेंस माफिया और सरकार’’ के बीच साठगांठ के तहत एक पुराने आटो को खत्म करने से पहले किसी दूसरे लाइसेंसधारक को हस्तांतरित किया जाता है। इसके बाद परिवहन विभाग स्क्रैपिंग सर्टिफिकेट का सत्यापन कर अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी करता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार का परिवहन विभाग इस आटो को खरीदने के लिए इच्छा पत्र जारी करता है। यह संपूर्ण प्रक्रिया उच्चतम न्यायालय के आदेश का उल्लंघन है। उन्होंने दावा किया, ‘‘ दिल्ली में लगभग सभी आटो फाइनेंस पर बेचे जाते हैं, जहां फाइनेंसर इस ‘आटो घोटाले’ के संयोजक की भूमिका अदा करते हैं। इस साठगांठ में उच्चतम न्यायालय के फैसलों का पूरी तरह से उल्लंघन किया जाता है।’’

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.