जम्मू-कश्मीर में भूकंप के तेज झटके हुए महसूस वाराणसी 2nd Day: आज जनता से रू-ब-रू होंगे नरेंद्र मोदी, ये हैं आज के कार्यक्रम जोधपुर: बिजनेसमैन की गोली मारकर हत्या, पहनता था 2 किलो सोना शेयर बाजार में निवेशकों को हुआ 2.68 लाख करोड़ रुपए का घाटा INDvsAUS: तीसरे वनडे मैच में बारिश बन सकती है 'विलेन' वाणी कपूर ने इस मैगजीन के लिए करवाया हॉट फोटोशूट, देखें तस्वीरें हनीप्रीत के पूर्व पति का बड़ा खुलसा, हनीप्रीत बाबा की बेटी नहीं थी, दोनों के बीच थे अवैध संबंध पुलिस ने सेक्स रैकेट का किया पर्दाफाश सोना 250 रुपये गिरकर 30500 रुपये हुआ वनडे स्क्वैड में वापसी करना अश्विन के लिए मुश्किल टारगेट: हरभजन सिंह महिला का नग्न अवस्था में मिला शव 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' से ब्रेक लेना चाहती है ‘दयाबेन’, ये है वजह बाइक सवार युवक के साथ मारपीट कर साढ़े 23 हजार की नकदी छीनी (शनिवार, 23 सितंबर) एक झलक पेट्रोल-डीजल के दामों पर राशिफल : 23 सितंबर : कैसा रहेगा आपके लिए शनिवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास में 23 सितंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं जानिए , होटलों में रुम बुक कराने पर ब्रेकफास्ट कॉप्लिमेंट्री ऑफर क्यों किया जाता है तले हुए आलू का अधिक सेवन करने से हो सकता है कैंसर: रिसर्च ऐसी जगह जहां आपको मिलेगा यमी- यमी खाना दुल्हन बनने से पहले खान-पान का खास ख्याल रखना जरुरी
स्वराज इंडिया ने किया ‘वाहन घोटाले’ का दावा, सीबीआई जांच की मांग
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 02:37:00 AM
1 of 1

नई दिल्ली: योगेन्द्र यादव की अगुवाई वाली स्वराज इंडिया ने आज आरोप लगाया कि आप सरकार राष्ट्रीय राजधानी में ‘फाइनेंस माफिया’ की मिलीभगत से 1,85,000 रपये के नए आटो 4,50,000 रपये की कीमत में बेच रही है। पार्टी ने इस ‘वाहन घोटाले’ की सीबीआई से जांच कराने की भी मांग की और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस मुद्दे पर पाक साफ बाहर आने को कहा। हालांकि दिल्ली सरकार ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार किया। पार्टी के प्रवक्ता अनुपम का दावा है, ‘‘ यदि एक बेरोजगार व्यक्ति आटो रिक्शा खरीदने का निर्णय करता है तो उससे 4,50,000 रपये से 4,70,000 रपये के बीच भुगतान कराया जाता है। जबकि एक नए आटो की वास्तविक कीमत 1,85,000 रपये है।’’ 

Image result for Swaraj India yogendra

दूसरे लाइसेंसधारक को हस्तांतरित...
उन्होंने आरोप लगाया कि ‘‘फाइनेंस माफिया और सरकार’’ के बीच साठगांठ के तहत एक पुराने आटो को खत्म करने से पहले किसी दूसरे लाइसेंसधारक को हस्तांतरित किया जाता है। इसके बाद परिवहन विभाग स्क्रैपिंग सर्टिफिकेट का सत्यापन कर अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी करता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार का परिवहन विभाग इस आटो को खरीदने के लिए इच्छा पत्र जारी करता है। यह संपूर्ण प्रक्रिया उच्चतम न्यायालय के आदेश का उल्लंघन है। उन्होंने दावा किया, ‘‘ दिल्ली में लगभग सभी आटो फाइनेंस पर बेचे जाते हैं, जहां फाइनेंसर इस ‘आटो घोटाले’ के संयोजक की भूमिका अदा करते हैं। इस साठगांठ में उच्चतम न्यायालय के फैसलों का पूरी तरह से उल्लंघन किया जाता है।’’

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.