loading...
loading...
loading...
एक जुलाई से देश में जीएसटी लागू होने पर व्यापारियों ने पूछे सवाल इस लेडी टीचर ने स्‍टूडेंड और टीचर के पवित्र रिश्ते को किया कलंकित, स्‍टूडेंड से बनाये शारीरिक संबंध वीडियो: राखी सावंत ने अम्बानी को अपने पाप धोने का बताया रास्ता वीडियो: युवक ने की भीड़ के सामने औरत की निर्ममता से पिटाई इस साल चाइना में रिलीज होगी 'सुल्तान', क्या दे पाएगी 'दंगल' को टक्कर? एक ऐसा गांव जिसकी परम्परा को सुनकर आप भी रह जाएंगे दंग चीन में भूस्खलन में दबे लोगो की संख्या बढ़कर हुई 141 सरकार, ट्राई के बीच नीतिगत मुद्दों पर विचार विमर्श पुलिस में होना चाहता था भर्ती, फिजीकल टेस्ट की तैयारी करते वक्त हुई मौत बुलंदशहर में 'लेडी पुलिस सिंघम' ने नियम तोड़ने पर BJP नेता को लगाई फटकार OMG: जुहू का अपना घर छोड़ गोरेगांव के होटेल में शिफ्ट हो गए है शाहिद ये है दुनिया के सबसे खतरनाक ब्रिज, यहां चलना खतरे से नहीं है खाली शहीद पिता को मुखाग्नि देते वक़्त खूब रोया 1 साल का बेटा Snapdeal दे रहा है इन ऑफर्स पर भरी डिस्काउंट महिला को प्यार का झांसा देकर लुटे एक करोड़ रुपए कर्नाटक लोक सेवा आयोग ने निकाली टीचर की भर्ती, आज ही करे ऑनलाइन आवेदन राष्ट्रपति चुनावों की तैयारियों को लेकर रविवार को लखनऊ पहुंचेंगे कोविंद डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 7 पैसे की बढ़ोतरी शिवराज के मंत्री नरोत्तम मिश्र पर लगा 3 साल का बैन: चुनाव आयोग सरकारी नौकरी का झांसा देकर ठगे10.50 लाख रुपए
लंबी बीमारी के बाद स्वामी आत्मस्थानंद जी महाराज का निधन
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 07:52:33 AM
1 of 1

नई दिल्ली। लंबी बीमारी के बाद एक अस्पताल में रामकृष्ण मठ और मिशन के अध्यक्ष स्वामी आत्मस्थानंद जी महाराज का 98 वर्ष की आयु में निधन हो गया। आत्म आस्थानंद जी का फरवरी 2015 से ही आयु संबंधी बीमारियों का इलाज चल रहा था।

 

 उनके नेतृत्व में भारत, नेपाल और बांग्लादेश के विभिन्न हिस्सों में प्राकृतिक आपदा के दौरान बड़े राहत अभियान चलाए गए थे। रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन, बेलूर मठ ने एक बयान में कहा कि बेहतर इलाज के बाद भी उनकी स्थिति पिछले कुछ सालों में गिरती गयी तथा उनका रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान अस्पताल में शाम में साढे पांच बजे निधन हो गया। 

बयान के मुताबिक उनका अंतिम संस्कार कल रात साढ़े नौ बजे बेलूर मठ में किया जाएगा और बेलूर मठ के द्वार आज रात तथा कल उनके अंतिम संस्कार पूरा होने तक खुले रहेंगे। प्रधानमंत्री ने उनके निधन पर शोक जताते हुए इसे व्यक्तिगत नुकसान बताया। मोदी अपनी युवावस्था में संन्यासी बनने के लिए बेलूर मठ गए थे लेकिन उनके अनुरोध को मंजूर नहीं किया गया था और कहा गया था कि उनकी कहीं अन्य स्थान पर जरूरत है।


 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वामी आत्मस्थानंद महाराज के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने स्वामी के निधन को अपनी निजी क्षति बताया है। मोदी ने ट्विटर पर लिखा कि मैं अपनी जिंदगी के महत्वूपर्ण क्षण में उनके साथ रहा था। बाद में उन्हें राजकोट, गुजरात में स्वामी आत्म आस्थानंद का आध्यात्मिक मार्गदर्शन मिला। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी स्वामीजी के निधन पर शोक जताया है।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.