संघर्ष और आपदाओं से प्रभावित लोगों के लिए UNO ने मांगी 22.2 अरब डॉलर की वैश्विक मदद स्टार स्क्रीन अवार्ड में बिग बी, आलिया को मिले शीर्ष सम्मान! तीन छात्रों ने की जूनियर्स की रैगिगं, प्रशासन ने छात्रों को किया निष्कासित केजरीवाल 20 दिसम्बर को भोपाल में करेंगे विशाल परिवर्तन रैली चाय वाला राजू रातों रात बना करोड़पति बद्रीनाथ की दुल्हनिया करेगी, माधुरी के तम्मा तम्मा पर डांस! सोना गिरा, चांदी मे आया सुधार आईएस ने बगदादी का उत्तराधिकारी चुनने को बैठक की! प्रवर्तन निदेशालय ने मनीलांड्रिंग मामले में दो बैंक अधिकारियों को किया गिरफ्तार फरहान अख्तर ने अक्षय के साथ फिल्म में काम करने से किया मना! भारतीय ऊर्जा कंपनियों से प्रधानमंत्री का बहुराष्ट्रीय कंपनी बनने का आहवान 'क्रैक' मैं अक्षय कुमार के साथ नज़र आएंगी ये एक्ट्रेस! मोदी एक बार फिर टाइम पर्सन ऑफ़ द ईयर नोटबंदी के बाद बैंकों में लौटे 3.4 % जाली नोट नोटबंदी की हिमाकत कर रहे लोगों को जनता सिखाएगी सबक : अखिलेश जल्दी ही लॉजी स्टेपवे का नया संस्करण लॉन्च करेगी Renault दिल्ली सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में 12 दिसंबर को होगी सुनवाई विषय पर तत्काल चर्चा शुरू की जाए: राजनाथ सिंह आलिया को मिला सर्वश्रेष्ठ एक्ट्रेस का पुरस्कार बारातियों से भरी बस ट्रक में घुसी, तीन की मौत
भूजल उपयोग को लेकर बनेगा सख्त कानून : उमा भारती
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:16:10 PM
1 of 1

नई दिल्ली। केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने आज कहा कि उनका मंत्रालय चाहता है कि भूजल के उपयोग संबंधित सख्त कानून बने और दिशा में काम भी कर रहा है जिससे इसके दुरुपयोग को रोका जा सके। दिल्ली में आयोजित भूजल मंथन-2 कार्यक्रम में बोलते हुए उमा भारती ने कहा कि हर काम के लिए जमीनी जल का उपयोग करना सही नहीं है। वह चाहती हैं कि एक ऐसा कानून बने कि जिसमें इसके प्रयोग संबंधित दिशा निर्देश हों। उन्होंने कहा की साफ पानी, जमीनी पानी और उपचारित पानी तीनों को अलग-अलग कर देखा जाना चाहिए और किस काम में कौन सा पानी उपयोग में आएगा इसको लेकर कानून होना चाहिए। 

इसके दुरुपयोग पर सख्त दंड के प्रावधान होने चाहिए। केन्द्रीय भूजल बोर्ड की ओर से आयोजित भूजल मंथन-2 के उद्‌घाटन अवसर पर उमा भारती ने कहा कि भूजल संरक्षण के लिए कृषि, पर्यावरण, ग्रामीण विकास और जल संसाधन मंत्रालय को मिलकर काम करना होगा। उन्होंने कहा इज़रायल 62 प्रतिशत उपचारित जल का उपयोग करता है| दूसरी ओर हम अपने साफ पानी को ही सोख रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश को इस स्थिति से निपटने के लिए मिलकर काम करना होगा| हम एक देश हैं और हमें एक-दूसरे की चिंता करनी होगी।


इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है हम अपने स्वार्थ के कारण इनका दोहन और शोषण कर रहे हैं। इसके चलते संसाधनों का संकट पैदा हुआ है जिसके लिए इंसान जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि भूजल प्रबंधन आज संकट के दौर से गुजर रहा है। आबादी बढ़ने की तुलना में भूजल नहीं बढ़ रहा। इससे एक असंतुलन पैदा हो रहा है। जल ही जीवन है और ऐसी परिस्थिति में भूजल संरक्षण जरूरी है| उन्होंने आशा जताई कि इस मंथन से जो सुझाव आएंगे वे उपयोगी होंगे। 

उन्होंने कहा कि स्वच्छता की दिशा में बढ़ते हुए हमे इस बात पर भी विचार करना होगा कि शौचालय के लिए बने पॉट में पानी का उपयोग कैसे कम हो। हमारी संस्कृति में एक लौटे से हाथ धोने का प्रावधान है जबकि आज वाश बेसिन में हम ज्यादा पानी खर्च रहे हैं। इस दिशा में भी प्रयास होने चाहिए। इस दौरान सेमिनार वॉल्यूम और मेरा भूजल एप का विमोचन किया गया। केन्द्रीय भूजल बोर्ड के डीजी केबी बिस्वास ने कहा कि इस भूजल मंथन का उद्देश्य भूजल संरक्षण की दिशा में काम काम करना और उसके स्तर को बढ़ाने की दिशा में काम करना है। 

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
loading...
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.