loading...
loading...
loading...
भारत में क्रिकेट खेल साथ साथ धर्म भी प्रशासन की सख्ती के बावजूद फिर अवैध रूप से गर्भपात संकल्प कैंप में बच्चों को गुरुबाणी, गुरु इतिहास और रहित मर्यादा बारे जानकारी दी पेय पदार्थ के नाम पर दुकानदार परोस रहे है जहर भारत और विश्व के इतिहास में 27 जून की प्रमुख घटनाएं रेशा देवी ने कहा- युवाओं को नशे से दूर करने के लिए धर्म के साथ जोड़े दार्जिलिंग: भारी बारिश और बंद के माहौल में मुस्लिमो ने मनाया ईद-उल-फितर रमन शर्मा ने कहा- अापातकाल देश के इतिहास में काला दिन खाना खजाना प्रतियोगिता में महिलाओं ने दिखाया उत्साह कंडबाड़ी में NGO परिवर्तन द्वारा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन बालड़ी रक्षक योजना ने तोडा दम स्वास्थ्य को लेकर महिलाओं का उदासीन रवैया इफ्तार पार्टी है नौटंकी, इसकी हमे क्या जरूरत: गिरिराज सिंह 2018 से बदल सकता है वित्त वर्ष, इस साल नवंबर में पेश हो सकता है बजट WWC 2017: ऑस्ट्रेलिया का विजयी आगाज, इंडीज को दी 8 विकेट से शिकस्त दिल्ली के नामी ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी के वेयर हाउस में 37 लाख रुपये की लूट 3 जुलाई को भोपाल में होगा ग्लोबल स्किल पार्क का शिलान्यास: चौहान मोदी के सपोर्ट में न्यूड होने वाली हॉट एक्ट्रेस ने थामा एनसीपी का दामन बैंक मैनेजर पिता 6 माह से कर रहा था अपनी बेटी के साथ ऐसा शर्मनाक काम ... भोपाल में पंचायती राज मंत्रियों का सम्मेलन 27 जून को होगा आयोजित
भूजल उपयोग को लेकर बनेगा सख्त कानून : उमा भारती
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:16:10 PM
1 of 1

नई दिल्ली। केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने आज कहा कि उनका मंत्रालय चाहता है कि भूजल के उपयोग संबंधित सख्त कानून बने और दिशा में काम भी कर रहा है जिससे इसके दुरुपयोग को रोका जा सके। दिल्ली में आयोजित भूजल मंथन-2 कार्यक्रम में बोलते हुए उमा भारती ने कहा कि हर काम के लिए जमीनी जल का उपयोग करना सही नहीं है। वह चाहती हैं कि एक ऐसा कानून बने कि जिसमें इसके प्रयोग संबंधित दिशा निर्देश हों। उन्होंने कहा की साफ पानी, जमीनी पानी और उपचारित पानी तीनों को अलग-अलग कर देखा जाना चाहिए और किस काम में कौन सा पानी उपयोग में आएगा इसको लेकर कानून होना चाहिए। 

इसके दुरुपयोग पर सख्त दंड के प्रावधान होने चाहिए। केन्द्रीय भूजल बोर्ड की ओर से आयोजित भूजल मंथन-2 के उद्‌घाटन अवसर पर उमा भारती ने कहा कि भूजल संरक्षण के लिए कृषि, पर्यावरण, ग्रामीण विकास और जल संसाधन मंत्रालय को मिलकर काम करना होगा। उन्होंने कहा इज़रायल 62 प्रतिशत उपचारित जल का उपयोग करता है| दूसरी ओर हम अपने साफ पानी को ही सोख रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश को इस स्थिति से निपटने के लिए मिलकर काम करना होगा| हम एक देश हैं और हमें एक-दूसरे की चिंता करनी होगी।


इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है हम अपने स्वार्थ के कारण इनका दोहन और शोषण कर रहे हैं। इसके चलते संसाधनों का संकट पैदा हुआ है जिसके लिए इंसान जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि भूजल प्रबंधन आज संकट के दौर से गुजर रहा है। आबादी बढ़ने की तुलना में भूजल नहीं बढ़ रहा। इससे एक असंतुलन पैदा हो रहा है। जल ही जीवन है और ऐसी परिस्थिति में भूजल संरक्षण जरूरी है| उन्होंने आशा जताई कि इस मंथन से जो सुझाव आएंगे वे उपयोगी होंगे। 

उन्होंने कहा कि स्वच्छता की दिशा में बढ़ते हुए हमे इस बात पर भी विचार करना होगा कि शौचालय के लिए बने पॉट में पानी का उपयोग कैसे कम हो। हमारी संस्कृति में एक लौटे से हाथ धोने का प्रावधान है जबकि आज वाश बेसिन में हम ज्यादा पानी खर्च रहे हैं। इस दिशा में भी प्रयास होने चाहिए। इस दौरान सेमिनार वॉल्यूम और मेरा भूजल एप का विमोचन किया गया। केन्द्रीय भूजल बोर्ड के डीजी केबी बिस्वास ने कहा कि इस भूजल मंथन का उद्देश्य भूजल संरक्षण की दिशा में काम काम करना और उसके स्तर को बढ़ाने की दिशा में काम करना है। 

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.