पुणे रेलवे पुलिस का अधिकारी बताकर जूलर से ऐंठे 84 हजार गोल्ड की कीमतों में कमी, चांदी चमकी जम्मू कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार ने किया रणनीति में बदलाव, करेगी सभी पक्षों से बातचीत शेयर बाजार में बढ़त, सेंसेक्‍स में 117 अंकों की बढ़ोत्‍तरी नाइजीरिया: आत्मघाती हमले में 13 की मौत, 16 घायल साई शब्द का कोई औचित्य नहीं, करे बदलाव: राज्यवर्धन राठौड़ गुजरात चुनाव तारीख घोषणा देरी को लेकर चुनाव आयोग ने रखा अपना पक्ष खूबसूरती बनी लड़की की दुश्मन, चली गई नौकरी 'गोलमाल अगेन' ने तीसरे दिन बॉक्स पर की इतनी कमाई, जानिए इस शख्स के कारनामें को जानकर आप भी रह जाएंगे दंग टीम इंडिया में मुस्लिम खिलाड़ियों को लेकर IPS से ट्विटर पर भिड़े हरभजन सिंह पोर्न स्टार मिया खलीफा हुई ट्रोल, लोगों ने किये भद्दे कमेंट पिछले 30 सालों से सिर्फ चाय पर जिंदा है ये औरत! सहवाग ने रॉस टेलर को कहा 'दर्जी' तो टेलर ने दिया ये करारा जवाब 'फिरंगी' का दूसरा पोस्टर हुआ रिलीज, कल आएगा ट्रेलर जल्द ही गुजरात का दौरा करेंगे शरद यादव, खोलेंगे बीजेपी की पोल यहां हनुमानजी की मूर्ति से निकल रहे है आंसू, देखने ले लिए उमड़ी भीड़ वीडियो : नशे में धुत्त डीएसपी ने चढ़ाई कार, जनता ने की धुनाई अभिनेत्री ईशा देओल ने बेटी को दिया जन्म, धर्मेंद्र-हेमा मालिनी बने नाना-नानी राहुल गांधी ने ट्विटर हैंडल पर लिख कहा- नहीं खरीदा जा सकता गुजरात को
भूजल उपयोग को लेकर बनेगा सख्त कानून : उमा भारती
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:16:10 PM
1 of 1

नई दिल्ली। केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने आज कहा कि उनका मंत्रालय चाहता है कि भूजल के उपयोग संबंधित सख्त कानून बने और दिशा में काम भी कर रहा है जिससे इसके दुरुपयोग को रोका जा सके। दिल्ली में आयोजित भूजल मंथन-2 कार्यक्रम में बोलते हुए उमा भारती ने कहा कि हर काम के लिए जमीनी जल का उपयोग करना सही नहीं है। वह चाहती हैं कि एक ऐसा कानून बने कि जिसमें इसके प्रयोग संबंधित दिशा निर्देश हों। उन्होंने कहा की साफ पानी, जमीनी पानी और उपचारित पानी तीनों को अलग-अलग कर देखा जाना चाहिए और किस काम में कौन सा पानी उपयोग में आएगा इसको लेकर कानून होना चाहिए। 

इसके दुरुपयोग पर सख्त दंड के प्रावधान होने चाहिए। केन्द्रीय भूजल बोर्ड की ओर से आयोजित भूजल मंथन-2 के उद्‌घाटन अवसर पर उमा भारती ने कहा कि भूजल संरक्षण के लिए कृषि, पर्यावरण, ग्रामीण विकास और जल संसाधन मंत्रालय को मिलकर काम करना होगा। उन्होंने कहा इज़रायल 62 प्रतिशत उपचारित जल का उपयोग करता है| दूसरी ओर हम अपने साफ पानी को ही सोख रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश को इस स्थिति से निपटने के लिए मिलकर काम करना होगा| हम एक देश हैं और हमें एक-दूसरे की चिंता करनी होगी।


इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है हम अपने स्वार्थ के कारण इनका दोहन और शोषण कर रहे हैं। इसके चलते संसाधनों का संकट पैदा हुआ है जिसके लिए इंसान जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि भूजल प्रबंधन आज संकट के दौर से गुजर रहा है। आबादी बढ़ने की तुलना में भूजल नहीं बढ़ रहा। इससे एक असंतुलन पैदा हो रहा है। जल ही जीवन है और ऐसी परिस्थिति में भूजल संरक्षण जरूरी है| उन्होंने आशा जताई कि इस मंथन से जो सुझाव आएंगे वे उपयोगी होंगे। 

उन्होंने कहा कि स्वच्छता की दिशा में बढ़ते हुए हमे इस बात पर भी विचार करना होगा कि शौचालय के लिए बने पॉट में पानी का उपयोग कैसे कम हो। हमारी संस्कृति में एक लौटे से हाथ धोने का प्रावधान है जबकि आज वाश बेसिन में हम ज्यादा पानी खर्च रहे हैं। इस दिशा में भी प्रयास होने चाहिए। इस दौरान सेमिनार वॉल्यूम और मेरा भूजल एप का विमोचन किया गया। केन्द्रीय भूजल बोर्ड के डीजी केबी बिस्वास ने कहा कि इस भूजल मंथन का उद्देश्य भूजल संरक्षण की दिशा में काम काम करना और उसके स्तर को बढ़ाने की दिशा में काम करना है। 

यह  भी पढ़े : अनोखा पार्क- यहां आप ''न्यूड'' घूम सकते है।

यह भी पढ़े : पिता जमीन पर और माँ-बेटे बेड पर कर रहे थे रोमांस...पिता ने उठकर देखा तो

यह भी पढ़े: यहां दुल्हन उधार मांगकर पहनती है पुराने अंडरगारमेंट्स 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.