पुणे रेलवे पुलिस का अधिकारी बताकर जूलर से ऐंठे 84 हजार गोल्ड की कीमतों में कमी, चांदी चमकी जम्मू कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार ने किया रणनीति में बदलाव, करेगी सभी पक्षों से बातचीत शेयर बाजार में बढ़त, सेंसेक्‍स में 117 अंकों की बढ़ोत्‍तरी नाइजीरिया: आत्मघाती हमले में 13 की मौत, 16 घायल साई शब्द का कोई औचित्य नहीं, करे बदलाव: राज्यवर्धन राठौड़ गुजरात चुनाव तारीख घोषणा देरी को लेकर चुनाव आयोग ने रखा अपना पक्ष खूबसूरती बनी लड़की की दुश्मन, चली गई नौकरी 'गोलमाल अगेन' ने तीसरे दिन बॉक्स पर की इतनी कमाई, जानिए इस शख्स के कारनामें को जानकर आप भी रह जाएंगे दंग टीम इंडिया में मुस्लिम खिलाड़ियों को लेकर IPS से ट्विटर पर भिड़े हरभजन सिंह पोर्न स्टार मिया खलीफा हुई ट्रोल, लोगों ने किये भद्दे कमेंट पिछले 30 सालों से सिर्फ चाय पर जिंदा है ये औरत! सहवाग ने रॉस टेलर को कहा 'दर्जी' तो टेलर ने दिया ये करारा जवाब 'फिरंगी' का दूसरा पोस्टर हुआ रिलीज, कल आएगा ट्रेलर जल्द ही गुजरात का दौरा करेंगे शरद यादव, खोलेंगे बीजेपी की पोल यहां हनुमानजी की मूर्ति से निकल रहे है आंसू, देखने ले लिए उमड़ी भीड़ वीडियो : नशे में धुत्त डीएसपी ने चढ़ाई कार, जनता ने की धुनाई अभिनेत्री ईशा देओल ने बेटी को दिया जन्म, धर्मेंद्र-हेमा मालिनी बने नाना-नानी राहुल गांधी ने ट्विटर हैंडल पर लिख कहा- नहीं खरीदा जा सकता गुजरात को
सैलरी डे के दिन रहेगा करेंसी का संकट, 500 के नोट ज्यादा छापेगा रिजर्व बैंक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:32:26 AM
1 of 1

नई दिल्ली। दिसंबर महीने की शुरुआत में ही बैंकों के सामने नई चुनौती कर्मचारियों-नौकरीपेशा लोगों को सैलरी बांटने की है। कैश की सप्लाई में जबरदस्त शॉर्टेज के मद्देनजर बैंकों को समझ नहीं आ रहा है कि आखिर लोगों की जायज डिमांड कैसे पूरी की जाए। ऐसे में ये खबर बैंकों और आमजनों, दोनों के लिए एक तरह से राहत भरी हो सकती है। रिजर्व बैंक से जुड़े सूत्रों के मुताबिक अगले एक हफ्ते तक में यानी 7 दिसंबर तक रिजर्व बैंक ने कैश सप्लाई सामान्य कर देने का लक्ष्य तय किया है। इसके लिए 500 रुपये के नोट आरबीआई ज्यादा छापेगी। आपको बता दें कि पहले ही बैंक दो तिहाई से ज्यादा एटीएम कैलीब्रेट कर चुके हैं।


एटीएम के बाहर नहीं कम हो रही कतार


सच ये है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के तमाम दावों के बाद भी बैंकों और एटीएम के बाहर कतार कम होने का नाम नहीं ले रही। बैंकों के बाहर कतार में लगे में लोग बताते हैं कि सुबह से लाइन में लगने के बाद बैंक के कर्मचारी 10 बजे टोकन बांट देते हैं। अमूमन 100 लोगों को टोकन मिलता है, लेकिन प्रतिदिन इन 100 लोगों को भी कैश मिलने की गारंटी नहीं होती।

नोएडा के नया बांस के सैंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ब्रांच में हम एक बुजुर्ग से मिले जिन्हें अपनी पोती का ऑपरेशन कराना है और वो पिछले तीन बार से कैश के लिए बैंक के चक्कर काट रहे हैं। बैंक मैनेजर से बात करने पर उन्होंने भी महज तकलीफ ही जाहिर की और कहा कि हमें कैश पीछे से मिले तो हम आगे दें। कुल मिलाकर कैश क्रंच और नोटबंदी समाज के एक तबके के लिए विशियस साइकल यानी दुष्चक्र से कम साबित नहीं हो रही।

20 लाख में किसको क्या बांटें

इन दिनों बैंकों के हालात ये हैं कि जिन बैंकों में कैश है वहां सर्वर डाउन का बोर्ड लगा है और जहां सर्वर दुरुस्त है वहां कैश गायब है। जहां तक ​​नियमों के सवाल है तो नियम के मुताबिक लोग अपने खाते से हर हफ्ते 24 हजार तक निकाल सकते हैं, लेकिन बैंक से जुड़े सूत्रों का कहना है कि शहरी इलाकों में भी ज्यादातर बैंक की शाखाओं में बीस लाख प्रतिदिन से ज्यादा नहीं पहुंच रहे। ऐसे में बैंक क्या तो जरूरतमंद लोगों को कैश बांटें और क्या नौकरीपेशा की सैलरी।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.