loading...
loading...
loading...
दैनिक राशिफल……27 जून, 2017 मंगलवार जेटली ने राज्य में जीएसटी लागू करने के लिए मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती सईद से आग्रह किया गोवा की राज्यपाल ने शाकम्भरी माता के दर्शन किए भागलपुर: श्रावणी मेला की तैयारी में जुटा स्वास्थ्य विभाग हम सबको गुरु चरणों से जुड़ जाना चाहिए: स्वामी धर्म सिंह भारत में क्रिकेट खेल साथ साथ धर्म भी प्रशासन की सख्ती के बावजूद फिर अवैध रूप से गर्भपात संकल्प कैंप में बच्चों को गुरुबाणी, गुरु इतिहास और रहित मर्यादा बारे जानकारी दी पेय पदार्थ के नाम पर दुकानदार परोस रहे है जहर भारत और विश्व के इतिहास में 27 जून की प्रमुख घटनाएं रेशा देवी ने कहा- युवाओं को नशे से दूर करने के लिए धर्म के साथ जोड़े दार्जिलिंग: भारी बारिश और बंद के माहौल में मुस्लिमो ने मनाया ईद-उल-फितर रमन शर्मा ने कहा- अापातकाल देश के इतिहास में काला दिन खाना खजाना प्रतियोगिता में महिलाओं ने दिखाया उत्साह कंडबाड़ी में NGO परिवर्तन द्वारा स्वास्थ्य शिविर का आयोजन बालड़ी रक्षक योजना ने तोडा दम स्वास्थ्य को लेकर महिलाओं का उदासीन रवैया इफ्तार पार्टी है नौटंकी, इसकी हमे क्या जरूरत: गिरिराज सिंह 2018 से बदल सकता है वित्त वर्ष, इस साल नवंबर में पेश हो सकता है बजट WWC 2017: ऑस्ट्रेलिया का विजयी आगाज, इंडीज को दी 8 विकेट से शिकस्त
सैलरी डे के दिन रहेगा करेंसी का संकट, 500 के नोट ज्यादा छापेगा रिजर्व बैंक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:32:26 AM
1 of 1

नई दिल्ली। दिसंबर महीने की शुरुआत में ही बैंकों के सामने नई चुनौती कर्मचारियों-नौकरीपेशा लोगों को सैलरी बांटने की है। कैश की सप्लाई में जबरदस्त शॉर्टेज के मद्देनजर बैंकों को समझ नहीं आ रहा है कि आखिर लोगों की जायज डिमांड कैसे पूरी की जाए। ऐसे में ये खबर बैंकों और आमजनों, दोनों के लिए एक तरह से राहत भरी हो सकती है। रिजर्व बैंक से जुड़े सूत्रों के मुताबिक अगले एक हफ्ते तक में यानी 7 दिसंबर तक रिजर्व बैंक ने कैश सप्लाई सामान्य कर देने का लक्ष्य तय किया है। इसके लिए 500 रुपये के नोट आरबीआई ज्यादा छापेगी। आपको बता दें कि पहले ही बैंक दो तिहाई से ज्यादा एटीएम कैलीब्रेट कर चुके हैं।


एटीएम के बाहर नहीं कम हो रही कतार


सच ये है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के तमाम दावों के बाद भी बैंकों और एटीएम के बाहर कतार कम होने का नाम नहीं ले रही। बैंकों के बाहर कतार में लगे में लोग बताते हैं कि सुबह से लाइन में लगने के बाद बैंक के कर्मचारी 10 बजे टोकन बांट देते हैं। अमूमन 100 लोगों को टोकन मिलता है, लेकिन प्रतिदिन इन 100 लोगों को भी कैश मिलने की गारंटी नहीं होती।

नोएडा के नया बांस के सैंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ब्रांच में हम एक बुजुर्ग से मिले जिन्हें अपनी पोती का ऑपरेशन कराना है और वो पिछले तीन बार से कैश के लिए बैंक के चक्कर काट रहे हैं। बैंक मैनेजर से बात करने पर उन्होंने भी महज तकलीफ ही जाहिर की और कहा कि हमें कैश पीछे से मिले तो हम आगे दें। कुल मिलाकर कैश क्रंच और नोटबंदी समाज के एक तबके के लिए विशियस साइकल यानी दुष्चक्र से कम साबित नहीं हो रही।

20 लाख में किसको क्या बांटें

इन दिनों बैंकों के हालात ये हैं कि जिन बैंकों में कैश है वहां सर्वर डाउन का बोर्ड लगा है और जहां सर्वर दुरुस्त है वहां कैश गायब है। जहां तक ​​नियमों के सवाल है तो नियम के मुताबिक लोग अपने खाते से हर हफ्ते 24 हजार तक निकाल सकते हैं, लेकिन बैंक से जुड़े सूत्रों का कहना है कि शहरी इलाकों में भी ज्यादातर बैंक की शाखाओं में बीस लाख प्रतिदिन से ज्यादा नहीं पहुंच रहे। ऐसे में बैंक क्या तो जरूरतमंद लोगों को कैश बांटें और क्या नौकरीपेशा की सैलरी।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.