बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं के विरोध में राज्य सरकार के खिलाफ धरना रेलों में परोसा जाने वाला भोजन और पानी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक विभागीय लापरवाही के चलते स्वास्थ्य केंद्र दनकौर की मशीने हुई खराब स्वास्थ्य निदेशक ने सभी शिविरों का निरीक्षण किया विद्यालय परिसर में 500 बच्चों का स्वास्थ्य जांचा सुमन मुनि महाराज ने जैन धर्म में तप को मोक्ष का मार्ग बताया हमें सदा अपने कुल व धर्म पर अभिमान करना चाहिए गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए एएनसी जांच जरूरी शंखनाद संस्था ने चलाया "भीख नही शिक्षा दो" अभियान, सुमन शर्मा ने किया पोस्टर विमोचन पाक को अमेरिका का झटका, आंतक के खिलाफ मिलने वाले फंड पर लगाई रोक एस. बद्रीनाथ ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट को कहा अलविदा अमेरिका ने पाक को दिया एक और झटका, लगातार दूसरे साल एंटी टेरर फंडिंग पर लगाई रोक चीनी की कीमतों में बढ़ोतरी, तेल के दाम हुए सस्ते WWC17: सेमीफाइनल की पारी को लेकर हरमनप्रीत ने किया खुलाशा चित्तौड़गढ़ सांसद ने की कृषि विज्ञान केन्द्र की मांग को लेकर परषोत्तम रूपाला से की मुलाकात एप्पल की नई टेक्नोलॉजी से बढ़ेगी भारतीय रेलों की स्पीड: सुरेश प्रभु ATP टूर्नामेंट चेन्नई से पुणे स्थानांतरित होने से अमृतराज बंधु दुखी बॉडी पर इन 7 जगहों पर है तिल है तो हो सकता है ये... मोर्ने मोर्केल ने वनडे क्रिकेट करियर को लेकर चिंता की व्यक्त ड्रग रैकेट में फंसा 'बाहुबली-2' का एक्टर सुब्बाराजू, SIT ने की पूछताछ
SC ने मार्कंडेय काटजू से पूछा, बताओ सौम्या मर्डर केस में कौन है गलत
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 09:23:15 PM
1 of 1

नई दिल्ली।  सूत्रों के अनुसार  सुप्रीम कोर्ट के फैसले को गलत बताने पर जस्टिस मार्कंडेय काटजू को समन भेजा गया है। काटजू ने केरल के चर्चित सौम्या रेप-मर्डर केस में दोषी की फांसी की सजा रद्द करने पर ब्लॉग लिखकर फैसले को जजों की 'बड़ी गलती बताया था। इसी मामले में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने समन किया है।  बेंच ने चैलेंज किया है कि काटजू कोर्ट में पेश होकर डिबेट करें, पता चल जाएगा कौन सही है? आप या कोर्ट। ऐसा पहली बार है कि पर्सनल ब्लॉग को लेकर पूर्व जज को नोटिस भेजा गया है। 

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

गौरतलब है कि...

काटजू अपने बयानों के कारण अक्सर चर्चा में रहते हैं। अपने ब्लॉग में सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस काटजू ने कोर्ट के फैसले को 'बड़ी गलती' बताया था। उन्होंने लिखा था, ''कानून की दुनिया में दशकों का तजुर्बा रखने वाले जजों से ऐसी उम्मीद नहीं थी। सौम्या के ट्रेन से कूदने की सुनी-सुनाई बात को सबूत मान लिया। जबकि उसे गोविन्दाचामी ने धक्का दिया था।'' किसी लॉ के स्टूडेंट से भी पूछो तो उसे पता होता है कि कोर्ट में सुने-सुनाए सबूतों पर भरोसा नहीं किया जाता है। लड़की की मौत सिर में गहरी चोट की वजह से हुई थी।'

जानिए सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने क्या कहा...
 

बेंच ने कहा कि हम कोर्ट के जज रहे जस्टिस काटजू का सम्मान करते हैं। इसीलिए चाहते हैं कि वह कोर्ट में आकर डिबेट करें कि कहां कमी रह गई। केरल सरकार और सौम्या की मां ने रिव्यू पिटीशन फाइल की है। जिस पर 11 नवंबर को सुनवाई होगी।  15 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने सबूतों की कमी के चलते दोषी गोविन्दाचामी को मर्डर केस में बरी कर दिया, उसे सिर्फ रेप का दोषी माना और 7 साल की सजा सुनाई।  गोविन्दाचामी ने जस्टिस रंजन गोगोई, पीसी पंत और यूयू ललित की बेंच में केरल हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ फांसी की सजा बदलने की गुहार लगाई थी।  इस फैसले के बाद सौम्या की मां ने कहा था, ''ये न्याय व्यवस्था की हार है। मेरी बेटी को इंसाफ नहीं मिला।''

 ट्रेन से फेंकने के बाद...
 1 फरवरी, 2011 को 23 साल की सौम्या पैसेंजर ट्रेन से शोरनुर जा रही थी। गोविन्दाचामी ने लेडीज डिब्बे में अकेली सौम्या के साथ लूटपाट की।  जब सौम्या ने इसका विरोध किया तो पहले उसे चलती ट्रेन से नीचे फेंका। फिर खुद भी ट्रेन से कूद गया और लड़की के साथ रेप किया। अगले दिन रेलवे ट्रैक के किनारे सौम्या जख्मी हालत में मिली थी। 6 फरवरी को इलाज के दौरान त्रिशूर के हॉस्पिटल में उसकी मौत हो गई थी।  सौम्या कोच्चि के एक सुपरमार्केट में असिस्टेंट थी। वह अपनी सगाई के लिए घर लौट रही थी।

यह भी पढ़े : 30 साल तक बर्फ में दबे रहने के बावजूद भी जीवित निकला ये Toughest Animal

यह भी पढ़े : जानिये अपनी सेक्स लाइफ को कैसे बनाया जाये और भी इंटरेस्टिंग

यह भी पढ़े : इस महिला ने 1 मिनट में बदले इतने कपड़े, बनाया World Record

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.