loading...
गूगल का वाॅयस-कंट्रोल फीचर कर रहा है आपको रिकाॅर्ड, इस तरह करें डिलीट दिल्ली में 115 करोड़ की संपत्ति का मालिक है लालू परिवार: सुशील मोदी शो 'ये है मोहब्बतें' में होने वाली है इस एक्ट्रेस की एंट्री अब पासपोर्ट के लिए हिंदी में कर सकते है अप्लाई टेस्ट क्रिकेट से संन्यास पर यूनुस खान ने दिया ये बड़ा बयान, कहा... CM योगी ने दिया इन समस्याओ को दूर करने का आदेश सार्वजनिक जगहों पर मिलने वाले फ्री वाई-फाई इस्तेमाल करते हैं तो इन बातों का ध्यान रखें... जिनिता शेठ का जन्मदिन सैलिब्रेट करते नजर आए करण वाही पन्नीरसेल्वम फिर बन सकते है तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बालों को दें डिफ्रैंट स्टाइल ट्रक में भैंस लेकर जा रहे 3 युवकों के साथ मारपीट, FIR दर्ज धोनी के बाद 10 लाख से ज्यादा लोगों की आधार डिटेल्स लीक मोंटे कार्लो फाइनल में रामोस विनोलास से भिड़ेंगे राफेल नडाल जॉन सीना और निकी बेला ने कपड़े उतार कर फैंस को दिया वादा किया पूरा PM मोदी की अध्यक्षता वाली नीति आयोग की बैठक शुरू गूगल ने अपने फोटो स्कैनिंग ऐप में नया अपडेट किया रिलीज राज्यरानी एक्सप्रेस के दो बोगी पटरी से उतरी, कोई हताहत नहीं गर्लगैंग के साथ पार्टी करती नजर आई मौनी राय बाबरी मामले में CBI पर सवाल उठाने पर BJP ने कटियार को किया अलग MCD चुनाव में बीजेपी की 225 से ऊपर सीटें आएंगी: मनोज तिवारी
SC ने मार्कंडेय काटजू से पूछा, बताओ सौम्या मर्डर केस में कौन है गलत
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 09:23:15 PM
1 of 1

नई दिल्ली।  सूत्रों के अनुसार  सुप्रीम कोर्ट के फैसले को गलत बताने पर जस्टिस मार्कंडेय काटजू को समन भेजा गया है। काटजू ने केरल के चर्चित सौम्या रेप-मर्डर केस में दोषी की फांसी की सजा रद्द करने पर ब्लॉग लिखकर फैसले को जजों की 'बड़ी गलती बताया था। इसी मामले में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने समन किया है।  बेंच ने चैलेंज किया है कि काटजू कोर्ट में पेश होकर डिबेट करें, पता चल जाएगा कौन सही है? आप या कोर्ट। ऐसा पहली बार है कि पर्सनल ब्लॉग को लेकर पूर्व जज को नोटिस भेजा गया है। 

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

गौरतलब है कि...

काटजू अपने बयानों के कारण अक्सर चर्चा में रहते हैं। अपने ब्लॉग में सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस काटजू ने कोर्ट के फैसले को 'बड़ी गलती' बताया था। उन्होंने लिखा था, ''कानून की दुनिया में दशकों का तजुर्बा रखने वाले जजों से ऐसी उम्मीद नहीं थी। सौम्या के ट्रेन से कूदने की सुनी-सुनाई बात को सबूत मान लिया। जबकि उसे गोविन्दाचामी ने धक्का दिया था।'' किसी लॉ के स्टूडेंट से भी पूछो तो उसे पता होता है कि कोर्ट में सुने-सुनाए सबूतों पर भरोसा नहीं किया जाता है। लड़की की मौत सिर में गहरी चोट की वजह से हुई थी।'

जानिए सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने क्या कहा...
 

बेंच ने कहा कि हम कोर्ट के जज रहे जस्टिस काटजू का सम्मान करते हैं। इसीलिए चाहते हैं कि वह कोर्ट में आकर डिबेट करें कि कहां कमी रह गई। केरल सरकार और सौम्या की मां ने रिव्यू पिटीशन फाइल की है। जिस पर 11 नवंबर को सुनवाई होगी।  15 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने सबूतों की कमी के चलते दोषी गोविन्दाचामी को मर्डर केस में बरी कर दिया, उसे सिर्फ रेप का दोषी माना और 7 साल की सजा सुनाई।  गोविन्दाचामी ने जस्टिस रंजन गोगोई, पीसी पंत और यूयू ललित की बेंच में केरल हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ फांसी की सजा बदलने की गुहार लगाई थी।  इस फैसले के बाद सौम्या की मां ने कहा था, ''ये न्याय व्यवस्था की हार है। मेरी बेटी को इंसाफ नहीं मिला।''

 ट्रेन से फेंकने के बाद...
 1 फरवरी, 2011 को 23 साल की सौम्या पैसेंजर ट्रेन से शोरनुर जा रही थी। गोविन्दाचामी ने लेडीज डिब्बे में अकेली सौम्या के साथ लूटपाट की।  जब सौम्या ने इसका विरोध किया तो पहले उसे चलती ट्रेन से नीचे फेंका। फिर खुद भी ट्रेन से कूद गया और लड़की के साथ रेप किया। अगले दिन रेलवे ट्रैक के किनारे सौम्या जख्मी हालत में मिली थी। 6 फरवरी को इलाज के दौरान त्रिशूर के हॉस्पिटल में उसकी मौत हो गई थी।  सौम्या कोच्चि के एक सुपरमार्केट में असिस्टेंट थी। वह अपनी सगाई के लिए घर लौट रही थी।

यह भी पढ़े : 30 साल तक बर्फ में दबे रहने के बावजूद भी जीवित निकला ये Toughest Animal

यह भी पढ़े : जानिये अपनी सेक्स लाइफ को कैसे बनाया जाये और भी इंटरेस्टिंग

यह भी पढ़े : इस महिला ने 1 मिनट में बदले इतने कपड़े, बनाया World Record

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.