संजीवनी टुडे

News

नदी और नारी को सामाजिक सरोकारों से ही बचाया जा सकता है: उमा भारती

Sanjeevni Today 13-08-2017 10:08:29

इलाहाबाद। नदी और नारी को सामाजिक सरोकारों से ही बचाया जा सकता है। सिर्फ सरकार के प्रयास से इन्हें बचाना मुश्किल है। जब तक हमारा दृष्टिकोण नहीं बदलेगा, तब तक हालात नहीं बदलेंगे। ये कहना था केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती का। शनिवार को इलाहाबाद में एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंची केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि, आज लड़कियों पर हमले अधिक हो रहे हैं। इसका कारण समाज की मानसिकता ही है। सरकार हर लड़की के साथ कमांडो नहीं लगा सकती। लेकिन यदि समाज नदी और नारी का सम्मान करना सीख जाए तो न तो ऐसी घटनाएं होंगी न ही देश की कोई नदी प्रदूषित रहेगी। 

 

उमा भारती ने कहा कि, गंगा के प्रवाह के मार्ग में कानपुर सबसे गंदा स्ट्रेच है। इसलिए इसे 'ट्रीट' करने की तैयारी चल रही है। टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया है। बहुत जल्द ही टेनरीज, लेदर इंडस्ट्री और स्लॉटर हाउसों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हमारा उद्देश्य है कि, गंगा में ट्रीटेड वाटर भी न जाए। नालों का मुंह ही गंगा की तरफ नहीं रहेगा। सीवेज वाटर को खेती के काम में लिया जाएगा।

यह भी पढ़े:पाकिस्तानः क्वेटा में सेना के वाहन पर ब्लास्ट, 17 की मौत, 30 से ज्यादा लोग घायल

केन्द्रीय मंत्री ने बताया कि, कैबिनेट नोट के जरिए 1750 करोड़ का प्रावधान गंगा किनारे के गांवों को ओडीएफ बनाने के लिए किया गया था। इनमें 578 करोड़ दिए जा चुके हैं जबकि 874 करोड़ बचे हैं। इस रकम को गांवों को सुंदर बनाने पर खर्च किया जाएगा। 

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

Watch Video

More From national

Recommended