एशिया-यूरोप बैठक: उद्घाटन करेंगी आंग सान सू की, हिस्सा लेंगे 51 देश कोलकाता टेस्ट ड्रा: टीम इंडिया की उम्मींद टूटी, श्रीलंका ने गवाए 75/7 हिमाचल प्रदेश के ऊंचे इलाकों में फिर से बर्फबारी, देखें वीडियो महिला टीचर ने छात्रों को बनाया अपनी हवस का शिकार कोलकाता टेस्ट LIVE: भुवनेश्‍वर ने डिकवेला को किया LBW आउट, 69 रन पर गिरे 6 विकेट कोलकाता टेस्ट LIVE: भारत को मो. शमी ने दिलाई पांचवी सफलता, चंदीमल (22) आउट PM नरेंद्र मोदी की इंटरप्रिटेटर, सोशल मीडिया पर तस्वीर चर्चा में पद्मावती: बीजेपी नेता ने कहा- पीएम मोदी अपनी ताकत का इस्‍तेमाल कर रोकें फिल्‍म, देखें वीडियो कोलकाता टेस्ट: विराट ने जड़ा शतक, गांगुली और गावस्कर का तोड़ा रिकॉर्ड टिकट काउंटर पर भीड़ कम करने के लिए रेलवे ने जारी किया नया नियम कोलकाता टेस्ट LIVE: श्रीलंका टीम लड़खड़ाई, 22 रन पर गवाए 4 विकेट 2008 से पैरालिसिस के शिकार कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी का निधन 'पद्मावती' को लेकर सीएम शिवराज ने दिया ये बड़ा बयान... 'मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर' का पोस्टर हुआ रिलीज मुकुल रॉय फोन टेपिंग मामला: केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल सरकार को HC का नोटिस जारी IND vs SL Live: विराट ने बनाया 18वां शतक, भारत ने 352 रन बनाकर दूसरी पारी की घोषित हल्की ठण्ड के साथ बढ़े अण्डों के दाम, 15 प्रतिशत की हुई बढ़ोतरी गुजरात विधानसभा चुनाव: बीजेपी की 28 उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी भारत का आकड़ा 300 के पार, शतक के नजदीक विराट एक्ट्रेस रीता कोइराल का 58 की उम्र में निधन, CM ममता ने ट्वीट कर जताया शोक
बलि प्रथा की अनुमति नहीं देता धर्म: योगगुरू बाबा रामदेव
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 10:27:05 AM
1 of 1

वीरगंज। योग गुरु बाबा रामदेव ने का कहना है की नेपाल में बलि प्रथा बंद होनी चाहिए। धर्म बलि प्रथा की अनुमति नहीं देता है। साथ ही उन्होंने कहा की कर्म को धर्म मानकर कार्य करने से देश का विकास संभव होगा। नेपाल का विकास योग, उद्योग, कृषि से संभव है। पतंजलि योगपीठ की स्थापना गांव-गांव में होगी, जहां लोगों को जड़ी-बूटी की खेती व स्वस्थ रहने के लिए योग कराया जाएगा। इसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। सोमवार को वह वीरगंज स्थित आदर्श नगर रंगशाला में आयोजित 5 दिवसीय योग शिविर के समापन समारोह के मौके पर बोल रहे थे। 

बाबा रामदेव ने कहा कि कोई भी धर्म हंसा का इजाजत नहीं देता है। बलि प्रथा अंधविश्वास है। ऐतिहासिक गढ़ीमाई मेला पांच वर्ष में एक बार लगता है, जहां करीब डेढ़ लाख पशुओं की बलि होती है। पक्षियों की गिनती संभव नहीं है। वह बलि रोकने के लिए मंदिर के पुजारी व प्रबुद्धजनों से बातचीत करेंगे। जरूरत पड़ी तो धरना भी देंगे। उनके मुताबिक भारत से प्रति वर्ष आयुर्वेदिक दवा नेपाल को दी जाती है। इसमें पतंजलि योगपीठ को प्रति वर्ष 50 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। नेपाल में उद्योग स्थापित होने से आयुर्वेदिक दवा सस्ती होगी और देश को काफी लाभ होगा।

यह भी पढ़े : लापरबाही के कारण बिल्ली की मौत, महिला ने डॉक्टर पर ठोका ढाई करोड़ का मुकदमा..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.