loading...
जेएनयू छात्र नजीब के गायब होने के मामले में लाई डिटेक्टर टेस्ट के खिलाफ फैसला 30 मार्च तक टला पहले वीकेंड में कमजोर रही 'फिल्लौरी' और 'अनारकली' कस्बों के नाम परिवर्तन की प्रक्रिया प्रस्ताव आने पर की जाएगी प्रारम्भ : राज्यमंत्री शादी का झांसा देकर युवती से दुष्कर्म केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्‍मृति इरानी ने किया 33वें इंडिया कारपेट एक्‍सपो का उद्घाटन विश्व में बढ़ती एड्स रोगियों की संख्या चिंता का विषय : डॉ. करीम आईसीसी के प्रमुखों के लिए पहला प्रशिक्षण कार्यक्रम अगले माह होगा : मेनका गांधी एलईडी वितरण योजना में भाजपा ने किया 20 हजार करोड़ का भ्रष्टाचार : कांग्रेस शीतकालीन खेलों के बाद भारत लौटे खिलाड़ियों को खेल मंत्री ने किया सम्मनित डॉक्टरों ने PG कोर्स के लिए आरक्षण का कोटा समाप्त करने को लेकर निकाली रैली पति से झगड़े के बाद महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद हुआ कैंसर पीड़िता का इलाज भारत धर्मशाला में सीरीज पर जीत से 87 रन दूर सिनेमा के माध्यम से मज़बूत होंगे भारत और वियतनाम के रिश्ते : वेंकैया नायडू पेट्रोलियम सप्लाई को लेकर भारत-नेपाल के बीच समझौता आत्महत्या के प्रयास को नहीं माना जायेगा अपराध, मानसिक स्वास्थ्य देखरेख विधेयक राज्यसभा में पारित क्राइम ब्रांच ने भारी मात्रा में गंजे के साथ तस्कर को दबोचा युवा उद्यमियों प्रोत्साहन योजना से लोगो को रोजगार मिलने की संभावना: मंत्री चैनल ने दिया कपिल को जोर का झटका, कलर्स पर आएगा 'कॉमेडी नाइट विद गुत्थी' रेलवे आईटी उद्योग के साथ भागीदारी पर दे जोर : सुरेश प्रभु भाजपा सरकार की कथनी एवं करनी में अंतर : पायलट
बलि प्रथा की अनुमति नहीं देता धर्म: योगगुरू बाबा रामदेव
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 10:27:05 AM
1 of 1

वीरगंज। योग गुरु बाबा रामदेव ने का कहना है की नेपाल में बलि प्रथा बंद होनी चाहिए। धर्म बलि प्रथा की अनुमति नहीं देता है। साथ ही उन्होंने कहा की कर्म को धर्म मानकर कार्य करने से देश का विकास संभव होगा। नेपाल का विकास योग, उद्योग, कृषि से संभव है। पतंजलि योगपीठ की स्थापना गांव-गांव में होगी, जहां लोगों को जड़ी-बूटी की खेती व स्वस्थ रहने के लिए योग कराया जाएगा। इसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। सोमवार को वह वीरगंज स्थित आदर्श नगर रंगशाला में आयोजित 5 दिवसीय योग शिविर के समापन समारोह के मौके पर बोल रहे थे। 

बाबा रामदेव ने कहा कि कोई भी धर्म हंसा का इजाजत नहीं देता है। बलि प्रथा अंधविश्वास है। ऐतिहासिक गढ़ीमाई मेला पांच वर्ष में एक बार लगता है, जहां करीब डेढ़ लाख पशुओं की बलि होती है। पक्षियों की गिनती संभव नहीं है। वह बलि रोकने के लिए मंदिर के पुजारी व प्रबुद्धजनों से बातचीत करेंगे। जरूरत पड़ी तो धरना भी देंगे। उनके मुताबिक भारत से प्रति वर्ष आयुर्वेदिक दवा नेपाल को दी जाती है। इसमें पतंजलि योगपीठ को प्रति वर्ष 50 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। नेपाल में उद्योग स्थापित होने से आयुर्वेदिक दवा सस्ती होगी और देश को काफी लाभ होगा।

यह भी पढ़े : लापरबाही के कारण बिल्ली की मौत, महिला ने डॉक्टर पर ठोका ढाई करोड़ का मुकदमा..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.