loading...
उत्तरप्रदेश: कानून से बेख़ौफ़ लुटेरों ने 'गन प्वाइंट' पर दो घरों में की लूटपाट ICC ने पुणे पिच को लेकर BCCI से मांगा जबाव देश की पहली हवाई तीर्थयात्रा योजना का शुभारम्भ, मुख्यमंत्री ने माला पहनाकर किया रवाना कोच कुंबले ने किया इस युवा खिलाडी का सपना साकार उपवास सर्वोच्च उपचार और सर्वमहान आरोग्य तुर्की की एक अदालत ने जर्मन पत्रकार को जेल भेजने का दिया आदेश VIDEO: इस फिल्म से बड़े पर्दे पर वापसी के लिए तैयार है रानी मुखर्जी! सुषमा ने कंसास में बीच-बचाव करने वाले अमेरिकी युवक की बहादुरी को सराहा गाम्बिया के सैन्य प्रमुख जनरल उस्मान बैजी को पद से हटाया भारतीय सीनियर फुटबॉल राष्ट्रीय टीम का अभ्यास शिविर मुंबई में पन्नीरसेल्वम गुट के 12 सांसदों ने राष्ट्रपति से की मुलाकात, जयललिता की मौत की जांच की मांग VIDEO: रिलीज हुआ फिल्म फिल्लौरी का तीसरा शानदार गाना यौन शोषण के आरोप में उबर ने मांगा भारतीय शीर्ष अधिकारी से इस्तीफा WWE रिंग में फ्लेयर के साथ नजर आएगी ये टेनिस स्टार बांग्लादेश में जापानी नागरिक की हत्या में पांच आतंकियों को सजा-ए-मौत SC ने खारिज की 23 हफ्ते के भ्रूण के गर्भपात की याचिका, कहा- हमारे हाथ में हैं एक मासूम की जिंदगी VIDEO: आखिर क्यों शाहरुख़ ने कंगना के साथ काम करने से किया इंकार? इतिहास: भारतीय हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध संगीतकार और गायक थे रवीन्द्र जैन अफगानिस्तान: पुलिसकर्मी ने अपने सहकर्मियों पर की फायरिंग, 11 की मौत VIDEO: मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने टीम इंडिया को दिया ये संदेश!
बलि प्रथा की अनुमति नहीं देता धर्म: योगगुरू बाबा रामदेव
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 10:27:05 AM
1 of 1

वीरगंज। योग गुरु बाबा रामदेव ने का कहना है की नेपाल में बलि प्रथा बंद होनी चाहिए। धर्म बलि प्रथा की अनुमति नहीं देता है। साथ ही उन्होंने कहा की कर्म को धर्म मानकर कार्य करने से देश का विकास संभव होगा। नेपाल का विकास योग, उद्योग, कृषि से संभव है। पतंजलि योगपीठ की स्थापना गांव-गांव में होगी, जहां लोगों को जड़ी-बूटी की खेती व स्वस्थ रहने के लिए योग कराया जाएगा। इसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। सोमवार को वह वीरगंज स्थित आदर्श नगर रंगशाला में आयोजित 5 दिवसीय योग शिविर के समापन समारोह के मौके पर बोल रहे थे। 

बाबा रामदेव ने कहा कि कोई भी धर्म हंसा का इजाजत नहीं देता है। बलि प्रथा अंधविश्वास है। ऐतिहासिक गढ़ीमाई मेला पांच वर्ष में एक बार लगता है, जहां करीब डेढ़ लाख पशुओं की बलि होती है। पक्षियों की गिनती संभव नहीं है। वह बलि रोकने के लिए मंदिर के पुजारी व प्रबुद्धजनों से बातचीत करेंगे। जरूरत पड़ी तो धरना भी देंगे। उनके मुताबिक भारत से प्रति वर्ष आयुर्वेदिक दवा नेपाल को दी जाती है। इसमें पतंजलि योगपीठ को प्रति वर्ष 50 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। नेपाल में उद्योग स्थापित होने से आयुर्वेदिक दवा सस्ती होगी और देश को काफी लाभ होगा।

यह भी पढ़े : लापरबाही के कारण बिल्ली की मौत, महिला ने डॉक्टर पर ठोका ढाई करोड़ का मुकदमा..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.