यहां लुक नही है मायने, है एक-दूसरे से बिल्कुल अलग फिर भी है साथ, ऐसे है यह कपल..! 7वां वेतन आयोग: बढ़ेगा कर्मचारियों का महंगाई भत्ता और एचआरए..! यूपी चुनाव में सबसे खूबसूरत उम्मीदवार, जो है काफी चर्चा में, तस्वीरें वायरल यहां बीमारी से पीड़ित लोगों को किडनैप कर, उनकी बॉडी पार्ट्स से बनाई जाती हैं दवाइयां..! संभल मे दस वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म, पुलिस मामला दबाने मे जुटी मुख्यमंत्री को जब स्कूली बच्चों ने ’शिक्षक’ बनकर पढ़ाया... ट्रेन से कटकर वृद्ध की मौत गोमती नदी में डूबा छात्र, हंगामा नोटबंदी राष्ट्रहित में एक बड़ा फैसला : मनोज सिन्हा संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत, दहेज हत्या का आरोप शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स में 100 अंकों का उछाल सपा-बसपा ने राजनीति में फैलाया कीचड़, अब खिलेगा कमल: राजनाथ मुख्यमंत्री के साथ दिव्यांग बच्चों ने साझा किए अपने बड़े सपने एक साल में 82000 धनाढ्यों ने छोड़ा देश पुलिस व सीआरपीएफ ने डकैत को दबोचा विजय माल्या को भारत लाने की मुहिम तेज एचआईएल : रांची ने मेजबान दिल्ली को 6-2 से हराया झांसा देकर शादीशुदा का यौन शोषण 19 वाहन प्रदूषण जांच केन्द्रों की मान्यता रद्द ओवैसी ने भाजपा पर मुसलमानों से भेदभाव का लगाया आरोप
रेटिंग एजेंसी फिच ने घटाया GDP ग्रोथ का अनुमान
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 09:06:29 AM
1 of 1

नई दिल्ली। नोटबंदी के मद्देनजर मौजूदा वित्त वर्ष में विश्व की प्रमुख रेटिंग एजेंसी फिच ने भारत की जीडीपी ग्रोथ 6.9 प्रतिशत रहने का नया अनुमान व्यक्त किया है, जबकि पहले उसने 7.4 प्रतिशत का अनुमान व्यक्त किया था। फिच ने कहा कि नोटबंदी के बाद आर्थिक गतिविधियों में मामूली व्यवधान आएगा। एक रिपोर्ट में एजेंसी ने कहा है कि भारत सरकार के नोटबंदी के फैसले से उपजे नकदी संकट का असर अक्तूबर- दिसंबर तिमाही में आर्थिक गतिविधियों पर पड़ेगा। सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की और 500 व 1000 रुपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया। 

इस तरह से लगभग 86 प्रतिशत करंसी एक साथ ही चलन से बाहर हो गई। एजेंसी ने कहा है की आरबीआई द्वारा बड़ी राशि के बैंक नोटों को चलने से बाहर करने के आश्चर्यजनक कदम के मददेनजर आर्थिक गतिविधियों में अस्थाई व्यवधान को देखते हुए भारतीय विकास दर के अनुमान में कमी की गई है। इस अमेरिकी एजेंसी ने 2017-18 व 2018-19 के लिए भी अपने बढ़ोतरी अनुमान को संशोधित कर क्रमश: 7.7 प्रतिशत व 8 प्रतिशत किया है। इसके मुताबिक ढांचागत सुधार एजेंडे के क्रमिक कार्यान्वयन से उच्च बढ़ोतरी में योगदान की उम्मीद है। 

खर्च करने योग्य आय व सरकारी कर्मचारियों के वेतन में लगभग 24 प्रतिशत से भी इसे बल मिलेगा। नोटबंदी के बारे में इसमें कहा गया है कि ग्राहकों के पास खरीदारी के लिए नकदी नहीं है, आपूर्ति सीरीज के बाधित होने व किसानों को खाद बीज खरीदने में दिक्कतों के भी समाचार हैं। इसमें कहा गया है, सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि नोटबंदी एक ही बार की जा सकती है। असंगठित क्षेत्रें काम करने वाले अपनी संपत्ति को छुपाने के लिए नये नोट व अन्य विकल्पों का इस्तेमाल कर सकेंगे।

नोटबंदी के बाद बैंकों की जमा में हुई जोरदार बढ़ोतरी के बाद भी बैंक अपनी ब्याज दरों को शायद ही कम करें। साथ ही इसकी वजह है कि रिजर्व बैंक ने बढ़ी हुई जमा पर 100 प्रतिशत का नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) लागू कर नकदी सोख ली है। एक वरिष्ठ बैंकर ने कहा, दरों में कटौती को भूल जाएं, बैंकों को बचत खातों पर 4 प्रतिशत के ब्याज भुगतान के लिए संसाधन जुटाने मुश्किल हो रहे हैं। इन बचत खातों में 500 और 1,000 के नोट भारी मात्रा में जमा हुए हैं।

वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ब्याज दरों को एक निश्चित सीमा से नीचे जाने की अनुमति नहीं दी जा सकती, क्योंकि इससे पूंजी निकलने लगेगी। वरिष्ठ अधिकारी ने  साथ ही यह कहा कि आप ब्याज दरों को इतना नीचे नहीं ला सकते कि यहां से पूंजी अमेरिका पहुंचने लगे। इस बीच, एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक तथा एचडीएफसी बैंक ने पहले ही अपनी जमा पर ब्याज दरें घटा दी हैं। इसे ऋण दरों में कटौती से पहले का कदम माना जाता है।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.