जिन्दा पति को मृत घोषित कर पत्नी ने किया कुछ ऐसा...! मीरा के बाद अब बेटी मीशा के साथ शाहिद कपूर ने की फोटो शेयर LIVE INDvsSL: श्रीलंका को पहला झटका, दानुष्का ने खेली 35 रन की पारी भारत सरकार के राष्ट्रीय स्ट्रीट लाइटिंग कार्यक्रम ने 50,000 किलोमीटर लंबी भारतीय सड़कों को किया रोशन उत्कल ट्रैन हादसे को लेकर प्रभु सख्त, कहा - शाम तक बताओ गुनहगार कौन सोया रिफाइंड में उछाल, चना, चुनिंदा दालें और गेहूं के दाम में गिरावट इस युवक के कान से निकली ऐसी चीज जिसे देख उड़ गए होश अपराध की योजना बनाने वाले अपराधियों का पुलिस ने किया पर्दा पास ...तो इसलिए एक साथ काम नहीं करना चाहते वरुण-आलिया PM मोदी ने दी अपने मंत्रियों को चेतावनी, कहा- सरकारी आवास में ठहरे न की 5 स्टार होटलों में भारत में लॉन्च हुआ दमदार फीचर्स के साथ LENOVO K8 NOTE इंटरनेशनल प्रोजेक्ट्स के साथ-साथ देश में भी फिल्मों का निर्माण कर रही है देसी गर्ल उत्कल एक्सप्रेस घटना: बाबुओ पर फूटा प्रभु का गुस्सा, कहा-दिन के अंत तक जवाबदेयी तय करें 32 फीट की इस बाइक का गिनीज ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज दक्षिण कोरिया: जहाज कारखाने में विस्फोट से हुई 4 लोगो की मौत 'टेरर फंडिंग' समाप्त करके आतंकवाद का खात्मा किया जा सकता है: राजनाथ इस जगह पर लोगों ने 16 बार मनाया नववर्ष! हुंडई की इलेक्ट्रिक कार सिंगल चार्ज पर 500 किमी चलेगी सुनील ग्रोवर ने कपिल शर्मा के सबसे करीबी दोस्त का ट्विटर पर खुछ ऐसे बनाया मजाक इस शख्स के अजीब शौक के बारें में जानकर आप भी चौंक जाएंगे!
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.