loading...
Airtel: ग्राहकों के लिए रोमिंग चार्जेज खत्म करने की तैयारी में POK में मुख्य न्यायाधीश का फरमान, 'अदालती कर्मचारियों का नमाज पढ़ने पर ही बढ़ेगा वेतन' अजहरूद्दीन ने भारतीय टीम को लेकर दिया बड़ा ये बयान, कहा... बेहतर फ्रंट कैमरा से लैस ये हैं टॉप 5 बजट स्मार्टफोन्स, कीमत 7000 रुपये से भी कम, जानिए! ...तो अब ये भूमिका निभाना चाहते हैं विवेक कमजोरी रुख के साथ हुई एशियाई बाजारों की शुरुआत शराबबंदी के बाद महागठबंधन सरकार का पहला बजट आज, बुनकरों के लिए हो सकता है बड़ा ऐलान विजय हजारे ट्राफी में ईडन गार्डन्स पर धोनी ने खेली आकर्षक शतकीय पारी ओलांद ने ट्रंप को बातों-बातों में सुनाई खरी-खोटी फिल्म 'इत्तफाक' में जल्द नजर आएंगी ये जोड़ी अमेजन इंडिया पर माइक्रोमैक्स के हैंडसेट्स पर जबरदस्त ऑफर,जानिए! राज्य में इस्पात संयंत्र की स्थापना के लिए सौर ऊर्जा संयंत्र लगाएगी आर्सेलर-मित्तल व्हाइट हाउस स्थित ओवल ऑफिस में पहली बार ट्रंप से मिले भारतीय राजदूत सरना ISIS में शामिल भारतीय युवक की ड्रोन हमले में मौत 'किक 2' एमी जैक्सन नहीं बल्कि नजर आएंगी ये एक्ट्रेस रिलायंस जियो यूजर ने इस सेवा को समय रहते सब्सक्राइब नहीं किया तो ये होगा! 28 फरवरी को रहेंगी सभी बैंको की हड़ताल अखिलेश ने मोदी पर साधा निशाना- PM कब करेंगे काम की बात चुनाव विशेष: पूर्वांचल को अलग राज्य का दर्जा दिलवाएगी मायावती आज का राशिफल (27 फरवरी 2017,सोमवार)
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.