loading...
तुअर दाल के बंपर उत्पादन के चलते आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 हो : खाद्य मंत्रालय J&K: आतंकियों ने कि सत्ताधारी पार्टी पीडीपी नेता अब्दुल गनी की गोली मारकर हत्या नवाजुद्दीन ने कराया अपना 'DNA टेस्ट', धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों को दिया करारा जवाब IPL-10: 250 रुपए का क्रिकेट सट्टा हार गया तो नाबालिग ने बेरहमी से किया दोस्त का कत्ल पशु तस्करी मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की रिपोर्ट, UID नंबर जारी करने कि सिफारिश रेलवे की नई पहल 'उदय एक्सप्रेस', साधारण किराए पर लग्जरी जैसा सफर! क्रिकेट: क्रिकेट इतिहास में पहली बार बना ये शर्मनाक रिकार्ड, चीन की टीम महज 28 रन पर हुई ऑलआउट राज्य सरकार जल्द लागु करेंगी सभी विभागों में फाइल मॉनिटरिंग सिस्टम आज भारत में LG G6 स्मार्टफोन होगा लॉन्च, जानिए खासियत... ये कंपनी दे रही है 80 पैसे में 1 जीबी डाटा, जानिए... MCD चुनाव के एग्जिट पोल को देख घबराए केजरीवाल Video: देखिए, कैसे हुई बाहुबली-2 की शूटिंग और सेट डिज़ाइन? जुलाई से शुरू होगी डबल डेकर AC ट्रेन जयललिता के कोडनडु टी एस्टेट में चौकीदार की हुई हत्या रिपोर्ट: एयरटेल ने 4जी एलटीई OpenSignal के मामले में रिलायंस जियो को पछाड़ ऑटो चालक के बेटे को Free में मिला जस्टिन बीबर के कॉन्सर्ट का गोल्डन टिकट चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार को लिखी चिट्ठी, कहा- चुनाव मेें रिश्वत देने वालों को किया जाए अमान्य घोषित Kawasaki ने भारत में Z250 का 2017 का वर्जन किया लॉन्च,जाने कीमत Video: देखिए, सलमान और माधुरी की अनदेखी तस्वीरें! Airtel लाया अपने यूजर्स के लिए दो शानदार ऑफर
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.