loading...
दिल्ली रोड पर 'एक्सल गैंग' ने कार रोककर चार महिलाओं के साथ किया गैंगरेप आडवाणी और उमा भारती को बाबरी केस पर राहत नहीं, कहा - 30 मई को कोर्ट में पेश हो VIDEO: बच्चों की इस मासूम मस्ती को देखकर हंस हंसकर दुखने लगेगा आपका पेट 'सचिन अ बिलियन ड्रीम्स' देख भावुक हुए अमिताभ, कहा- इस फिल्म को देश के हर नागरिक को दिखाना चाहिए बूंदी नगर परिषद परिसर में आयोजित शिविर में पट्टे वितरित कर आमजन को किया लाभान्वित बाबरी विध्वंस मामला: CBI अदालत ने दिया 30 मई तक सभी आरोपियों को हाजिर होने का आदेश यहां पर इस औरत ने दिया एक साथ 5 बच्चों को जन्म, लेकिन... वाइफ के साथ स्विमिंग पूल में रोमांटिक पोज देते नजर आए 'चंद्रकांता' के एक्टर महिला रेलवे ट्रैक के पास मृत पड़ी थी मां, शव से लिपट दूध पीता रहा बच्चा ढाई माह की ये नन्हीं बच्ची बन गई रातों रात स्टार, जानिए वजह राष्ट्रपति ने मैनचेस्टर में हुए हमले के लिए एलिजाबेथ को लिखा सन्देश, जताया गहरा दुःख प्रियंका ने अमेरिकी मीडिया से कहा- हर ब्राउन रंग की लड़की एक जैसी नहीं होती हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त में महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस बाल-बाल बचे ट्रम्प नाम के इस कुत्ते को तलाश रही द‌िल्ली की पु‌ल‌िस OMG: व्हेल के पेट में 3 दिनों तक रहकर जिंदा लौटा ये शख्स अपने रिलेशनशिप को अलग लेवल पर ले जाना चाहते है अरबाज-एलेक्जेंड्रा आरोपीयो ने नाबालिक से बलात्कार, मामला दर्ज जियॉक्स ने लांच किया Viva 4G स्मार्टफोन, कीमत 5,593 रुपए स्विमिंग पूल में दिखा नेहा धूपिया का हॉट लुक सचिन की बायोपिक के प्रीमियर में पहुंचे ये क्रिकेटर्स
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.