loading...
आखिर क्यों राजीव से अक्षय बनें बॉलीवुड के 'खिलाड़ी' कुमार, जानिए... लोकसभा में आज पास हो सकते हैं GST से जुड़े 4 बिल भारत-पाकिस्तान सीरीज को लेकर BCCI ने गृह मंत्रालय से मांगी अनुमति SBI कार्ड में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 74% करेगा एसबीआई OMG: फिर दिखा मलाइका अरोड़ा का बिंदास अंदाज़, देखें तस्वीरें रामचंद्र गुहा ने कहा- BJP और मोदी की आलोचना पर मुझे मिल रही हैं धमकियां धर्म गुरु दलाई लामा को उल्फा (आई) की धमकी, चीन के खिलाफ कुछ भी न बोले VIDEO: देखिये पॉल वॉकर और उनकी बेटी के खूबसूरत पल! हिन्दी और बांग्ला फ़िल्मों में अपनी छाप छोड़ने वाले प्रसिद्ध अभिनेता थे उत्पल दत्त! टाटा सन्स ग्रुप कंपनियों में 10,000 करोड़ रुपये का करेगी इनवेस्ट UP में अवैध बूचड़खानों के बैन होने के बाद 5 और राज्‍यों में अवैध मीट की दुकानों पर कसा शिकंजा राहुल बोस की 'पूर्णा' देख रो पड़े राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी VIDEO: देखिये क्रिकेट के यादगार ऐतिहासिक पल! इतिहास: हिन्दी के प्रसिद्ध कवि तथा गांधीवादी विचारक थे भवानी प्रसाद मिश्र! डाओ में हुई 150 अंक की तेजी एंटी रोमियो अभियान के तहत चचेरे भाई बहन को किया गिरफ्तार, फिर... अगर किसी के साथ अन्याय हुआ है तो उसे खुलकर सामने आना चाहिए: एहसान कुरैशी ऑस्ट्रलिया में चक्रवाती तूफान 'डेबी' का कहर, क्वींसलैंड में भूस्खलन पैनासोनिक ने पेश किया नया कैमरा Lumix GH5 सरकार ने ठुकराए थे पद्म पुरस्कार नामों की लिस्ट से धोनी समेत कई हस्तियों के नाम
पोंगल के मौके पर जलीकट्टू नहीं होगा, SC ने शनिवार से पहले आदेश देने से किया इंकार
sanjeevnitoday.com | Thursday, January 12, 2017 | 02:50:48 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार से पहले जलीकट्टू पर फैसला देने वाली अर्जी को ठुकरा दिया है। कोर्ट ने कहा कि बेंच को आदेश पास करने के लिए कहना अनुचित है। जलीकट्टू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के नोटिफिकेशन पर अपना फैसला सुरक्षित रखा हुआ है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट से मांग की गई थी कि जलीकट्टू को लेकर अदालत ने जो आदेश सुरक्षित कर रखा है, उस पर शनिवार से पहले आदेश सुना दिया जाए। कोर्ट ने कहा फैसले का ड्रॉफ्ट तैयार हो गया है लेकिन शनिवार से पहले आदेश सुनाना संभव नहीं है। बता दें कि जल्लीकट्टू यानी सांड़ों की दौड़ पर रोक के खिलाफ तमिलनाडू सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था।


दरअसल 22 जनवरी 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर लगाई गई रोक पर पुनर्विचार करने से मना कर दिया था। तमिलनाडु के कुछ निवासियों की तरफ से दायर पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगाई थी। वहीं केंद्र सरकार ने 8 जनवरी को अधिसूचना जारी कर जल्लीकट्टू पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया था। अधिसूचना में कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए थे। पशु कल्याण बोर्ड, पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स, बेंगलुरू के एक एनजीओ और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में अधिसूचना को चुनौती दी थी। याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अधिसूचना पर रोक लगा दी थी।

 
पिछले साल जुलाई में तमिलनाडू सरकार ने याचिका में परंपरा का हवाला दिया था। इस पर जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा था कि - इस दलील में दम नहीं। 1899 में 10 हज़ार से ज़्यादा बाल विवाह हुए। 12 साल से कम उम्र की लड़कियों की शादी हुई। क्या इसे परंपरा मान कर जारी रहने दिया जा सकता है? हमें सिर्फ ये देखना है कि ये खेल कानून और संविधान की कसौटी पर खरा उतरता है या नहीं।

यह भी पढ़े : हिरण को शेर से लड़ते देख बनाया था ये किला, कभी थी यहां शेरों की गुफाएं... देखे : photos

यह भी पढ़े : मौसा से प्यार कर बैठी भांजी, फिर बनाएं फिजिकल रिलेशन और...

यह भी पढ़े : माँ के बाहर निकलते ही, पिता बंद कमरे में नाबालिग बेटी के साथ करता था यह...

यह भी पढ़े : भगाकर ले आया था जीजा अपने साले की पत्नी, रोड पर छिड़ा खूनी संघर्ष... देखे : photos



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.