संजीवनी टुडे

News

पति की मौत के बाद इस फौलादी महिला ने परंपराएं तोड़ निभाया फर्ज़

संजीवनी टुडे 18-10-2016 11:40:51

After her husband s death broke the steely woman pay customs duty paid

अलवर। विवाह के समय सात फेरे लेते हुए पति-पत्नी एक-दूसरे को वचन देते हैं कि आखिरी सांस तक हर सुख-दुःख को साथ में सहेंगे। हर दर्द में साथी को बराबर का हक़ देंगे। पति या पत्नी अपने पार्टनर के प्रति जीवन भर अपने सभी दायित्वों को पूरा करते हैं, लेकिन जब एक साथी बीच में ही सांसें छोड़ दे तो दूसरे को जो दर्द होता है, उसे कोई नहीं समझ सकता। 

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

इतना गहरा सम्बन्ध होने के बावजूद समाज पत्नी या किसी भी स्त्री को ये हक़ नहीं देता कि वो अपने पति या किसी पुरुष की अर्थी को कन्धा दे सके, या उसकी चिता को आग दे सके लेकिन राजस्थान के अलवर में एक महिला अंजू यादव ने अपने पति की अचानक हुई मृत्यु के बाद बड़े ही धीरज का परिचय देते हुए उसकी अर्थी को अपने मजबूत कन्धों पर उठाया। 

पिछले सप्ताह गुजरात पुलिस में हेडकांस्टेबल के पद पर कार्यरत राकेश यादव की ड्यूटी के दौरान ही ह्रदय गति रुकने से मौत हो गई। वो गांव शिवदानसिंहपुरा के निवासी थे। अंतिम संस्कार के दौरान उनकी पत्नी अंजू ने तमाम सामाजिक ढकोसलों को दरकिनार करते हुए अर्थी को कंधा दिया और उनकी बड़ी पुत्री लोचन ने मुखाग्नि दी। पत्नी द्वारा अर्थी को कंधा देकर शमशान घाट तक ले जाने के दौरान मौजूद सभी लोगों की आंखों में भी आंसू छलक आए, मगर वे सब इस जीवनसंगिनी का हौसला देखकर दंग थे।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

More From national

loading...
Trending Now
Recommended