संजीवनी टुडे

News

सुशील मोदी के बेटे की शादी में पहुंचे लालू-नीतीश, कुछ ही दूरी पर बैठ थे फिर भी नहीं की बात

Sanjeevni Today 04-12-2017 08:54:37

पटना। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी के बेटे उत्कर्ष मोदी रविवार को परिणय सूत्र में बंध गए। पटना के वेटनरी कॉलेज के मैदान में आयोजित इस शादी समारोह में केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद व कई दूसरे राज्यों के सीएम और राज्यपाल के साथ दर्जनभर केन्द्रीय मंत्री भी शामिल हुए। शादी में कुछ ही दूरी पर लालू और नीतीश बैठ थे लेकिन दोनों के एक दूसरे से बात तक नहीं की।

यह भी पढ़े: मथुरा में वोटों से नहीं ‘लकी ड्रॉ’ से जीती बीजेपी, देखें वीडियो

शादी दिन के तीन बजे शुरू हुई। शादी शुरू होने के कुछ देर बाद ही लालू पहुंचे। लालू के आने से पहले सीएम नीतीश समारोह में पहुंच चुके थे। वह केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के साथ बैठकर बात कर रहे थे। लालू ने नीतीश से दूरी बनाते हुए किनारे पर लगे सोफे पर पूर्व सीएम डॉ जगन्नाथ मिश्रा और पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन के साथ जाकर बैठे। शादी संपन्न होने पर नीतीश वर वधू को आशीर्वाद देकर निकल गए। इसके बाद लालू मंच पर पहुंचे।

दिन में आयोजित इस समारोह में वैवाहिक वैदिक मंत्रों का हिन्दी अनुवाद के साथ वाद्ययंत्रों की संगत के साथ प्रस्तुति हुई। उपस्थित मेहमानों को विवाह संस्कार के संस्कृत मंत्रों के हिन्दी अनुवाद की एक-एक पुस्तिका भेंट स्वरूप दी गई। शादी में आम तौर पर बारात लगने, द्वार पूजा और वरमाला के बाद उपस्थित लोग वर-वधू को आशीर्वाद तो देते हैं, परंतु वैवाहिक संस्कारों में उनकी सहभागिता नहीं होती है और वधू पक्ष के परिजन ही इसमें शामिल रहते हैं।

यह भी पढ़े: इस लड़की का डांस देखकर लोग भूल गए की शादी में आये हुए हैं, देखे वीडियो

लेकिन मंच पर आयोजित इस शादी में उपस्थित सभी लोगों ने वैवाहिक संस्कारों- मसलन गणपति पूजन, कलश पूजन, द्वार पूजन, वरमाला, सप्त वचन, सिंदूरपूर्ति, मंगल फेरे आदि को देखा और मंत्रों को सुना। शादी में मंत्रोच्चार के लिए कई शहरों के प्रमुख विद्वान बुलाए गए थे। शादी का कार्यक्रम तय समय के अनुसार तीन बजे शुरू होकर पांच बजे तक खत्म हो गया। समारोह स्थल पर प्रवेश के साथ ही देहदान करने वालों के लिए स्टॉल लगा था। बगल में दहेज और बाल विवाह का संकल्प लेने वालों की भीड़ थी। 

आपको बता दें सुशील मोदी के बेटे की यह शादी काफी समय से चर्चा में थी। दरअसल, सुशील मोदी ने पहले ही साफ कर दिया था कि यह शादी सादगी के साथ होनी है। इसमें न तो दहेज लिया गया है और न ही बैंड बजा मेहमानों और बारातियों का स्वागत भी नहीं किया गया। शादी में मेहमानों को खाने और नाश्ते के बजाय भगवान का भोग लगाया हुआ ‘प्रसाद' दिया गया। शादी में गिफ्ट लेने के लिए पहले ही मना कर दिया गया था।

 

 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

 

Watch Video

More From national

Recommended