loading...
राज्य विधानसभा में हुआ जीएसटी कार्यशाला का आयोजन, एक देश, एक कर,एक बाजार’’ की नई व्यवस्था होगी विकसित LIVE IPL MI VS RPS: बटलर के रूप में लगा पहला झटका मुंबई को, स्कोर 44/1 VIDEO: देखिये ये विश्व की 10 सबसे HOT एक्ट्रेसस! कृषि सुधारों को लागू करने में राजस्थान देश का अग्रणी प्रदेश -कृषि मंत्री पति के नपुंसक होने का मामला दर्ज कराने पहुंचीं महिला, सामने आई पुलिस की शर्मनाक करतूत VIDEO: देखिये ये है 'कटप्पा' का रियल लाइफ अवतार! LIVE IPL MI VS RPS: पार्थिव और बटलर ने मुंबई को दिया अच्छी शुरुआत, तीन ओवर में बनाये 27 रन प्रदेश के किसानों को राहत, केन्द्रीय सहकारी बैंकों केे ऋण अब जमा होंगे 30 जून तक LIVE IPL MI VS RPS: रहाणे और त्रिपाठी की बदौलत मुंबई को दिया 161 रन लक्ष्य उबर एप से नहीं है आईफोन सुरक्षित, लोगो की प्राइवेसी हो रही है लीक! तिहाड़ जेल में एक कैदी के चेहरे पर ब्लेड से ताबड़तोड़ हमला, मामला दर्ज कर की जाँच शुरू LIVE IPL MI VS RPS: बेन स्‍टोक्‍स बने जोहन्सन का शिकार, धोनी भी हुए आउट, स्कोर 142/5 विदेशी पॉप-स्टार जस्टिन बीबर के कॉन्सर्ट में सोनाक्षी करेंगी परफॉर्म, कैलाश खेर नाराज! LIVE IPL MI VS RPS: कप्तान का विकेट जाने के बाद धोनी के कंधे पर पुणे का पूरा दारोमदार, स्कोर 120/3 मारुती सुजुकी ने पेश किया डिजायर का नया लुक, नहीं रोक पाएंगे अपने आपको! विजन 2032: हर नागरिक की पहुंच में होगी घर, गाड़ी और एसी LIVE IPL MI VS RPS: त्रिपाठी बने करण शर्मा का (45) पर शिकार, स्मिथ भी हुए आउट, धोनी क्रीज पर मौजूद, स्कोर 104/3 LIVE IPL MI VS RPS: रहाणे के रूप में लगा पुणे को पहला झटका, स्कोर 84/1 फैन्स को प्रभास की तरफ से सरप्राइज, बाहुबली-2 के साथ रिलीज होगा अपकमिंग फिल्म का टीजर मोदी से मुलाकात के बाद बोली महबूबा, कश्मीर समस्या पर होना चाहिए वाजपेयी की नीति का अनुसरण
नोटबंदीः पहले की तुलना में व्यवस्था बेहतर, फिर भी लम्बी कतारें
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 08:19:02 PM
1 of 1

देहरादून। उत्तराखंड में नोटबंदी का असर पहले की तुलना में काफी बेहतर हुआ है, लेकिन आज भी समस्याएं हैं वेतन का दिन महीने की पहली तारीख होती है। तमाम लोगों के वेतन खाते में आ भी गए हैं लेकिन बैंको से पैसा निकालना आसान नहीं रहा है। उत्तराखंड के बैंक भी नकदी के संकट से जूझ रहे है जिसका प्रभाव वेतन भोगियों पर भी पड़ रहा है। हालांकि 8 नवम्बर को हुई नोटबंदी को 23 दिन हो गए है। यह भी सच है कि कतारें पहले की तुलना में बहुत कम हुई हैं, लेकिन वेतन का दिन होने के कारण आज बैंको में भारी मारा-मारी रही। इसीलिए संभवतरू भारतीय रिजर्व बैंक के गर्वनर उर्जित पटेल ने 10 दिनों तक बैंको और एटीएम में केश उपलब्ध कराने की तैयारी पर विशेष ध्यान देने को कहा है। यह 10 दिन भी कुछ लोगों के लिए विशेष चुनौती पूर्ण रहने वाले हैं। 

राजधानी उत्तराखंड के ज्यादातर बैंक अब भी छोटें नोटों की किल्लत झेल रहे हैं ऐसे में पहली तारीख को उनके ही खाते में लोगों का वेतन पहुंचता है पर 50-100 के छोटे नोटों के साथ ही 500-2000 नोट भी बैंको के पास कम मात्रा में उपलब्ध है। नोटों की कमी के कारण वेतन भोगियों के सामने समस्याएं आने वाली है। हालांकि बाजार में 500 रू. के नए नोटों की संख्या पहले से बढ़ी है और लोग पहले की तुलना में अधिक सुविधा महसूस कर रहे हैं लेकिन वेतन का दिन लोगों पर भारी पड़ा। यही स्थिति पेंशन भोगियों की भी है। जिनको हर महीने की पहली तारीख को पेंशन मिलती है यही कारण है कि बैंको तथा एटीएम में पिछले दिनों की तुलना में आज लंबी कतारें दिखी। यह कतारें भी वेतन और पेंशन भोगियों के कारण बढ़ी है पर आम आदमी को भी समय-समय पर खर्च के लिए पैसे चाहिए जिसका प्रभाव बैंको आज दिखाई दिया। 

देहरादून के बैंको में बचत खाते में 12 हजार और चालू खाते में 25 हजार दिए गए। हालांकि बैंको का कहना था कि धनराशि होने पर धनराशि और बढ़ाई जा सकती है। वैसे पहली तारीख होने के कारण अधिकांश बैंको में दोपहर 12 बजे तक कैश खत्म हो गया था। शाम तीन बजे के बाद दोबारा नकदी आई लेकिन उसमें भी बड़े नोट थे। 500 के नोटों की कमी आज भी बनी रही। बैंकर एसोसिएशन के अध्यक्ष जगमोहन मेंहदीरत्ता का कहना है कि व्यवस्था में धीरे-धीरे सुधार आएगा। मेंहदीरत्ता का कहना है कि यदि पहले से ही तैयारी की गई होती तो यह असुविधा नहीं होनी थी लेकिन होमवर्क की कमी के कारण यह स्थिति पैदा हुई। इसकी जिम्मेदार केन्द्र सरकार और उससे जुड़े लोग हैं।

इसी संदर्भ में प्रख्यात शिक्षाविद एवं स्व. प्रो. अनूप सिंह की पत्नी श्रीमती इंदु बाला मानती है कि पहली तारीख को उनकी अपनी पेंशन तथा पति की ओर से मिलने वाली पेंशन खाते में पहुंच चुकी है। उन्होंने पेटीएम के माध्यम से कुछ लोगों का भुगतान भी कर दिया है। उन्हें कोई भी समस्या फिलहाल नहीं आ रही है। श्रीमती इंदु बाला मानती है कि कुछ लोगों को भले समस्या हो पर इस व्यवस्था के दूरगामी परिणाम लोगों को मिलने शुरू हो जाऐंगे। प्रेमनगर के पिताम्बरपुर निवासिनी श्रीमती अन्नू का मानना है कि लोग इतना प्रबंध कर चलते हैं कि एक दो दिन पैसे न मिले तो भी काम चलता है। श्रीमती अन्नू मानती है कि एटीएम से दो तीन दिनों के खर्च के लिए पैसे निकाल लिए थे ऐसे में उन्हें महीने की पहली तारीख का इंतजार नहीं करना पड़ा। 

उन्हें इस व्यवस्था से कोई समस्या नहीं हो रही है। अमिता सिंह जो अभी शिक्षा प्राप्त कर रही हैं उनका कहना है कि नोट बंदी से समस्याएं तो आई है। अमिता का कहना है कि एटीएम में छोटे नोट नहीं है बड़े नोट मिलते हैं। 2000 के नोट से सामान खरीदने पर दुकानदार फुटकर देने पर आनाकानी करते हैं तथा कह देते हैं कि खुले नहीं है जिसके कारण पैसा होने के बाद भी बेगाना होना पड़ता है। अमिता का कहना है कि छोटे नोट आ जाए तो लोगों की समस्या का और जल्दी समाधान हो जाएगा। वह इस व्यवस्था की तारीफ करती है।

यह भी पढ़े: जुर्म के बदले सजा नही शराब मिलती है, पीछे है एक अजीब वजह

यह भी पढ़े: खूबसूरत फिगर की चाह में तोड़ दीं सारी हदें, कमजोर दिलवाले नही देखे यह तस्वीरें...

यह भी पढ़े....रेलवे का नया फैसला, अब बिना आधार के नहीं मिलेगा ट्रेन में रिजर्वेशन

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.