एक बार फिर ‘गोलमाल 5’ में नजर आ सकती है करीना 7 साल बाद फिर से एक हुए ये दो दोस्त, एक-दूसरे को लगाया गले! ससुराल वालों को भरोसे में लेकर दामाद ने साली के साथ खेला ऐसा 'खेल' ISSF World Cup: निशानेबाजी में हीना-जीतू ने जीता गोल्ड मैडल Fake ID बनाकर लड़कियों को नौकरी के लिए बुलाया और फिर... 2019: ईद के मौके पर सलमान देंगे अपने फैंस को ये खास गिफ्ट दिल्ली: हिजबुल मुजाहिदीन चीफ सैयद सलाउद्दीन का बेटा टेरर फंडिंग केस में गिरफ्तार अब पंजाब में जानवर पालने पर लगेगा टैक्स, सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन वसुंधरा सरकार ने विधानसभा की सेलेक्ट कमेटी को भेजा विवादित अध्यादेश बिहार: सुशील मोदी के ट्वीट का लालू के बेटे तेजस्वी ने किया पलटवार दो परमाणु रिएक्टरों का काम जल्‍द शुरू होगा: कोरिया अशोक गहलोत ने BJP पर लगाया जासूसी का आरोप! B'day Special: पेरिस के रियल एस्टेट बिजनेसमैन को डेट कर रही है मल्ल‍िका शेरावत चाचा ने 2 साल की भतीजी को बनाया अपनी हवस का शिकार नशे में धुत युवक ने दिनदहाड़े महिला को बनाया हवस का शिकार रुपया 11 पैसा सुधरकर 64.91 के स्तर पर खुला कादर खान को जन्मदिन की बधाई देने के चक्कर में ट्रोल हुए शत्रुघ्न सिन्हा माइक्रोमैक्स और वोडाफोन ने 999 रुपये में लॉन्च किया 4G स्मार्टफोन लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे पर उतरा हरक्यूलिस सी-130, फाइटर जेट्स ने किए टच डाउन Honda ला रही नया स्टाइलिश स्कूटर Grazia, 25 अक्टूबर से होगी बुकिंग
कश्मीर में आतंकियों से अब सेना नहीं रोबोट करेंगे मुकाबला
sanjeevnitoday.com | Saturday, August 12, 2017 | 05:54:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। कश्मीर में आतंकवाद जैसी समस्या ने निपटने के लिए सेना अब रोबोट का इस्तेमाल करने का विचार कर रही है। इन रोबोट की खास बात यह होगी कि, यह रोबोट किसी भी स्थान पर आसानी से गोला-बारूद ले जा सकेंगे। यह रोबोट अपने ही देश में बनेंगे। आर्मी के अधिकारी ने बताया कि आर्मी ने 544 रोबोट को मांग की है। अधिकारी ने बताया कि हमारी इस मांग को रक्षा मंत्रालय ने भी मान लिया है। 

आतंकियों से मुकाबला करेंगे रोबोट्स
जानकारी के मुताबिक ये रोबोट्स जम्मू-कश्मीर के संवेदनशील इलाकों में गोला-बारूद की डिलिवरी करने में सक्षम होंगे। घाटी में आतंकियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सेना ने रक्षा मंत्रायल से इस प्रोजेक्ट की मांग की थी। दरअसल जम्मू-कश्मीर के जंगलों को आतंकी अपने ठिकानों के रुप में इस्तेमाल करते हैं। ऐसी स्थिति में रोबोट्स ना केवल आतंकियों से मुकाबला करेंगे बल्कि सेना की सहायता भी करेंगे। 

यह भी पढ़े: यहां पर 3 युवाओं ने एक दूसरे के साथ रचाया विवाह

200 मीटर की रेंज से ट्रांसमिशन
हथियार और गोला-बारूद की डिलिवरी करने के साथ ही ये रोबोट्स सर्विलांस भी करेंगे। इसके अलावा वे आतंकियों की पल-पल की गतिविधियों पर भी नजर रखेंगे. रिपोर्ट के मुताबिक ये रोबोट्स आतंकियों की खुफिया सूचना जुटाने के साथ ही 200 मीटर की रेंज से उसका ट्रांसमिशन करने में सक्षम होंगे।

दक्ष नाम की डिवाइस कर रही है इस्तेमाल
सेना का कहना है कि यह रोबोट हमारे देश में ही बने ताकी इन्हें आसानी से इस्तेमाल किया जा सके। साथ ही इसमें बेहतरी का विकल्प भी हो। अभी स्वेदश निर्मित दक्ष नामक डिवाइस का प्रयोग सेना इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) को तलाश कर पकड़ने में इस्तेमाल कर रही है। दक्ष नाम की इस डिवाइस को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन द्वारा विकसित किया गया है। दक्ष सीढ़िया चढ़ सकता है। इसमें 3-4 घंटे काम करने की बैटरी है। इसकी रेंज 500 मीटर तक है। साथ ही यह 20 किलो तक वजन उठा सकता है 

पिछले 8 महीनों से चल रहा है प्रोजेक्ट पर काम
वजन में हल्के और मजबूत होने की मजह से ये रोबोट्स कई तरीकों से सेना की मदद करने में भी सक्षम होंगे। पिछले 8 महीनों से CAIR और DRDO की लैब इस प्रोजेक्ट पर काम कर रही है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.