इस लड़के से मौत भी रहती है कोसो दूर, हैरान कर दिया सबको किन्नर भी करेंगे शादी इस जगह ... जाने जरा इस लड़की के शरीर में नही एक भी पसली, इसलिए हुआ ऐसा चल गया पता ! पहले मुर्गी आयी या अंडा ... आप भी जाने कौन आया पहले हाथियों के डर से इस गांव के लोग घर बनाकर रहते हैं पेड़ों पर Room No. 502 ! आज भी दिखती है वो मरी हुई लड़की इस रूम में नाराज पिता व भाई ने युवती को धारदार हथियार से काटा मज़बूरी में 7 करोड़ में बेचनी पड़ी वर्जिनिटी इस लड़की को इस नवजात बच्ची की जीभ थी सामान्य से बड़ी फिर किया ये ... 5 सितारा होटल में अमेरिकी पर्यटक से सामूहिक दुष्कर्म ट्राले-बाइक में टक्कर, महिला की मौत नहीं रहे पूर्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी अंपायर फुलेल सिंह सुजलाना आज का राशिफल (3 दिसम्बर 2016) जल्द बॉलीवुड में इंट्री करेगे सुनील शेट्टी के बेटे अहान नोटबंदी से कालाधन आएगा, यह परियों की कहानी जैसा: महेश भट्ट ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री कैमरन ने आज मोदी से की मुलाकात 'जॉली LLB 2' का पोस्टर जारी, अक्षय का नजर आया सीधा साधा लुक..! कन्हैया कुमार ने मोदी को बताया ट्रंप से बेहतर टीवी एक्ट्रेस श्वेता तिवारी के घर गुंजी नन्ही किलकारी..! अमेरिकी रक्षा मंत्री कार्टर अपनी आखिरी विश्व यात्रा पर अगले हफ्ते आएंगे भारत
VIDEO: करवाचौथ स्पेशल: क्या आपको पता है? करवा चौथ पर ये काम करना है जरुरी देखे विडियो
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 05:12:52 PM
1 of 1

जयपुर। हिंदू धर्म में करवा चौथ महिलाओ  के जीवन का सबसे अहम दिन होता है जिसे भारतीय सुहागिन स्त्रियां एक पर्व के रूप में मनाती हैं। पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखकर शाम को चांद निकलने पर पूजा-अर्चना की जाती है, सुहागिनों का पवित्र एवं सौभाग्य का व्रत करवा चौथ बुधवार को मनाई जा रहा है। सुहागिन या पतिव्रता स्त्रियों के लिए करवा चौथ बहुत ही महत्वपूर्ण व्रत है। यह व्रत कार्तिक कृष्ण की चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी को किया जाता है। स्त्रियां इस व्रत को पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं और मंगलकामना की दुआएं करती है। 

JAIPUR : मात्र 2 लाख में प्लाट बुक करे कॉल करे -09314166166 
यह व्रत अलग-अलग क्षेत्रों में वहां की प्रचलित मान्यताओं के अनुरूप रखा जाता है, लेकिन इन मान्यताओं में थोड़ा-बहुत अंतर होता है। सार तो सभी का एक होता है- पति की दीर्घायु। इस पर्व पर महिलाएं हाथों में मेहंदी रचाती हैं, 16 श्रृंगार करती हैं एवं पति की पूजा कर व्रत का पारायण करती हैं।

शिव, पार्वती, कार्तिकेय, गणेेश तथा चंद्रमा का पूजन ...
करवा चौथ के व्रत में शिव, पार्वती, कार्तिकेय, गणेेश तथा चंद्रमा का पूजन करना चाहिए। चंद्रोदय के बाद चंद्रमा को अर्घ्य देकर पूजा होती है। पूजा के बाद मिट्टी के करवे में चावल, उड़द की दाल, सुहाग की सामग्री रखकर सास या सास की उम्र के समान किसी सुहागिन के पांव छूकर सुहाग सामग्री भेंट करनी चाहिए। 

करवाचौथ में क्यों होती है चंद्रमा की पूजा...
करवा चौथ व्रत की पूजन सामग्री- कुंकुम, शहद, अगरबत्ती, पुष्प, कच्चा दूध, शक्कर, शुद्ध घी, दही, मेंहदी, मिठाई, गंगाजल, चंदन, चावल, सिन्दूर, मेंहदी, महावर, कंघा, बिंदी, चुनरी, चूड़ी, बिछुआ, मिट्टी, चॉदी, सोने या पीतल आदि किसी भी धातु का टोंटीदार करवा व ढक्कन, दीपक, रुई, कपूर, गेहूँ, शक्कर का बूरा, हल्दी, पानी का लोटा, गौरी बनाने के लिए पीली मिट्टी, लकड़ी का आसन, छलनी, आठ पूरियों की अठावरी, हलुआ, दक्षिणा के लिए रूपये। ...तो इस वजह से वाराणसी में जय गुरुदेव के कार्यक्रम में मची थी भगदड़ ! 

शिव-पार्वती की पूजा का विधान...
व्रत वाले दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर स्नान कर स्वच्छ कपड़े पहनकर श्रृंगार कर लें। इस अवसर पर करवा की पूजा-आराधना कर उसके साथ शिव-पार्वती की पूजा का विधान है क्योंकि माता पार्वती ने कठिन तपस्या करके शिवजी को प्राप्त कर अखंड सौभाग्य प्राप्त किया था इसलिए शिव-पार्वती की पूजा की जाती है।  करवा चौथ के दिन चंद्रमा की पूजा का धार्मिक और ज्योतिष दोनों ही दृष्टि से महत्व है। व्रत के दिन प्रातरू स्नानादि करने के पश्चात यह संकल्प बोल कर करवा चौथ व्रत का आरंभ करें।

करवा चौथ व्रत विधि...  

करवा चौथ में लगने वाली आवश्यक पूजन सामग्री को एकत्र करें। व्रत के दिन प्रातः स्नानादि करने के पश्चात यह संकल्प बोलकर करवा चौथ व्रत का आरंभ करें। 

'मम सुख सौभाग्य पुत्र-पौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये।' 
 
पूरे दिन निर्जला रहें। दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा मांडें। इसे 'वर' कहते हैं। चित्रित करने की कला को 'करवा धरना' कहा जाता है।  8 पूरियों की अठावरी बनाएं। हलुआ बनाएं। पक्के पकवान बनाएं। पीली मिट्टी से गौरी बनाएं और उनकी गोद में गणेशजी बनाकर बिठाएं। गौरी को लकड़ी के आसन पर बिठाएं। चौक बनाकर आसन को उस पर रखें। गौरी को चुनरी ओढ़ाएं। बिंदी आदि सुहाग सामग्री से गौरी का श्रृंगार करें। जल से भरा हुआ लोटा रखें। वायना (भेंट) देने के लिए मिट्टी का टोंटीदार करवा लें।  करवा में गेहूं और ढक्कन में शकर का बूरा भर दें। उसके ऊपर दक्षिणा रखें। रोली से करवे पर स्वस्तिक बनाएं। गौरी-गणेश और चित्रित करवे की परंपरानुसार पूजा करें।
 
पति की दीर्घायु की कामना कर पढ़ें यह मंत्र... 

'नमस्त्यै शिवायै शर्वाण्यै सौभाग्यं संतति शुभा। 
प्रयच्छ भक्तियुक्तानां नारीणां हरवल्लभे।'
 

करवे पर 13 बिंदी रखें और गेहूं या चावल के 13 दाने हाथ में लेकर करवा चौथ की कथा कहें या सुनें। कथा सुनने के बाद करवे पर हाथ घुमाकर अपनी सासुजी के पैर छूकर आशीर्वाद लें और करवा उन्हें दे दें। 13 दाने गेहूं के और पानी का लोटा या टोंटीदार करवा अलग रख लें।
रात्रि में चन्द्रमा निकलने के बाद छलनी की ओट से उसे देखें और चन्द्रमा को अर्घ्य दें। इसके बाद पति से आशीर्वाद लें। उन्हें भोजन कराएं और स्वयं भी भोजन कर लें। पूजन के पश्चात आस-पड़ोस की महिलाओं को करवा चौथ की बधाई देकर पर्व को संपन्न करें।

व्रत के दौरान अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान देना बेहद जरूरी ... 
 

कई महिलाएं गर्भवती भी होकर भी करवा चौथ का व्रत रहती हैं। उन्हें भी कई सावधानियों को बरतने की जरूरत है। आइए आज हम आपको बता रहे हैं कि करवा चौथ के दिन किन बातों का रखना होगा ध्यान?

1. व्रत शुरू होने से पहले ऐसा भोजन कर लें जो ज्यादा समय तक पेट में रहे, उसका जल्दी पाचन न हो।
2. भले ही कुछ ना खाएं, लेकिन जूस सहित तरल पदार्थों का सेवन करते रहें, जिससे पानी की कमी न हो।
3. परिवार में खुशी का माहौल रखें और काम करने के बजाय आराम करें।
4. व्रत पूरा होने के बाद एक बाद, यानि लम्बे समय बूखा रहने के बाद एक साथ ज्यादा न खाएं, इससे अपच और गैस के कारण पेट दर्द हो सकता है। तरल पदार्थ लें इसके बाद थोड़ा थोड़ा भोजन करें।
5. करवा चौथ का व्रत खोलने के बाद अस्पताल में डिलीवरी पेन को लेकर आने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ जाती है। लेकिन चैकअप के बाद पता चलता है कि इसकी वजह गैस या बदहज्मी है।

WATCH VIDEO :

यह भी पढ़े : जानिए! आखिर हिन्दू धर्म में क्यों वर्जित है स्त्रियों का नारियल फोड़ना..?

यह भी पढ़े: आ रहा है "Porn Star" बनाने वाला रियलिटी शो !

यह भी पढ़े: शर्मनाक: 'छात्रा' को बंधक बनाकर 'प्रोफेसर' ने किया बलात्कार, क्या ऐसे हो गए है हमारे आदरणीय गुरु?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.