सीएम को अचानक देख गदगद हुआ योगी परिवार, शादी की बधाई, गांव को विकास के लिए 10 करोड़ बांग्लादेश अदालत ने नारायणगंज हत्याकांड मामले में 26 लोगों को दी सजा-ए-मौत जवानों को खराब खाना संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा हाईकोर्ट ऑस्ट्रेलियन ओपन: मरे, निशिकोरी, वीनस और मुगुरुजा दूसरे दौर में आपरेशन मुस्कान के तहत राजस्थान की छह लड़कियां बरामद आग लगने की घटनाओं के प्रति 'जीरो टॉलरेंस' की नीति चाहती है सरकारः नड्डा 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान के लिए जिला झुंझुनू को राष्ट्रीय पुरस्कार राजा ठाकुर हत्याकांड के आरोपी की जमानत हाईकोर्ट से खारिज विधानसभा सत्र उपराज्यपाल के पद की गरिमा का अपमान: विजेंद्र गुप्ता सिख विरोधी दंगों पर चार हफ्ते में स्टेटस रिपोर्ट दे केंद्रःसुप्रीम कोर्ट गोवाः भाजपा ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई : रघुवर दास 'खुल्लम खुल्ला' की सफलता की दुआ मांगने तिरूपति पहुंचे ऋषि कपूर उप्रः भाजपा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, 149 के नाम पर मुहर मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे के विरुद्ध मामला दर्ज दिल्ली विस का दो दिवसीय सत्र मंगलवार से, हंगामा के आसार भाजपा ने उत्तराखंड के लिए 64 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की सरकार की तीसरी वर्षगांठ पर 'अच्छा काम, ठोस परिणाम' विकास प्रदर्शनी हलफनामा न सौंपने पर चीफ जस्टिस नाराज, दस राज्यों के सचिव तलब नेताजी का चेहरा ही सपा की पहचान: अखिलेश
नक्सली लीडर गणपति ने मोदी सरकार के नोटबंदी की तारीफ की
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:12:18 PM
1 of 1

जगदलपुर। पिछले 48 साल के खूनी नक्सल इतिहास में यह पहला मौका है, जब किसी नक्सली नेता ने सरकार की तारीफ की है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माओवादी) के महासचिव गणपति ने भी नोटबंदी को लेकर चुप्पी तोड़ी है। फैसले से जुड़ी नीयत की तारीफ करते हुए कहा है कि अगर मोदी सरकार छापे मारकर, गरीबों का धन लूटकर, अमीर बने धन्ना सेठों को जेल में ठूंस दे तो, नक्सली हथियार फेक देंगे। हम हिंसा का रास्ता छोडक़र मुख्यधारा में शामिल हो सकते हैं।

शिक्षा में साइंस से ग्रेजुएट, मगर दामन पर सैकड़ों हत्याओं का दाग, सिर पर तीन करोड़ 60 लाख का इनाम। 37 वर्षों से पुलिस ढूंढने में नाकाम। इनाम राशि के आधार पर देखें तो जंगलों में छिपा नक्सलियों का यह नेता दाउद से भी खतरनाक है, नाम है गणपति। वर्ष 1979 में करीमपुर में आखिरी बार गणपति को किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में देखा गया था। 

कई नक्सली वारदातों में सैकड़ों लोगों की जान लेने पर जब छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश की सरकार ने गिरफ्तारी के लिए इनाम रखना शुरू किया तो, गणपति भूमिगत हो गया। तब से गणपति की लोकेशन आज तक नक्सली हिंसा से जूझ रहे राज्यों की पुलिस तलाश नहीं पाई। जब कभी कोई बयान सार्वजनिक करना पड़ता है तो, कामरेड गणपित भरोसेमंद पत्रकारों को इंटरव्यू देता है। यह संगठन अंडरग्राउंड संचालित होता है। 

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़किया- सड़क किनारे मिनी स्कर्ट में अपना बिजनेस चला रही हैं।

यह भी पढ़े: यहां लॉटरी जीतने के बाद, पैसों के बजाए मिलती हैं लड़कियां।

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़की बिना अंडरवियर के शोरूम में शॉपिंग करने पहुंची

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.