नागरिकों को खुद को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने की जरूरत स्वास्थ्य विभाग ने तीन निजी अस्पतालों पर छापा मारा शांति मानवता का मुख्य धर्म व युवा देश की रीढ़ की हड्डी हैं स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ लगाए मुर्दाबाद के नारे स्वास्थ्य विभाग ने फूड प्वाइज¨नग की आशंका जताई पाक ने सीमा पर फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 2 जवान शहीद वीडियो: योग टीचर पर कहर बनकर टुटा नारियल का पेड़, हुई मौत महिला हाॅकी विश्व लीग के सेमीफाइनल में पराजित होने के बाद भारत रही आठवें स्थान पर महिला SI ने चोर को पकड़ने के लिए बिछाया लव स्टोरी का जाल, भेजा जेल फेडरेशन स्क्वायर में भारत का राष्ट्रीय ध्वज फहरायेंगी ऐश्वर्या जेटली ने पॉलिटिकल फंडिंग को पारदर्शी व सिमित करने के लिए राजनीतिक दलों से मांगे सुझाव बिहार एसटीएफ टीम के हत्ये चढ़ा 50 हजार का इनामी दुर्गेश अरुण जेटली ने कहा है, स्वच्छ राजनीतिक फंडिंग की दिशा में काम कर रही सरकार सीन स्पाइसर के इस्तीफे के बाद ट्रंप प्रशासन के संचार निदेशक बने एंथनी कैग रिपोर्ट: चीन बढ़ा रहा है हिन्द महासागर में कदम, इंडियन नेवी में कई खामियां विदेशी छात्रा को देख युवक ने की ऐसी हैरान करने वाली हरकत... WWC Final: लार्ड्स में कपिल देव का इतिहास दोहराने उतरेंगी देश की बेटियां भगवान बांके बिहारी की शरण में पहुंचे गोविंदा, पूजा अर्चना कर लिया आशीर्वाद केरल: कांग्रेस विधायक एम. विन्सेंट रेप के आरोप में गिरफ्तार व्हाइट-सिल्वर लहंगे में सोनम ने किया रैंप वॉक, जीता सबका दिल
नक्सली लीडर गणपति ने मोदी सरकार के नोटबंदी की तारीफ की
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 02:12:18 PM
1 of 1

जगदलपुर। पिछले 48 साल के खूनी नक्सल इतिहास में यह पहला मौका है, जब किसी नक्सली नेता ने सरकार की तारीफ की है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माओवादी) के महासचिव गणपति ने भी नोटबंदी को लेकर चुप्पी तोड़ी है। फैसले से जुड़ी नीयत की तारीफ करते हुए कहा है कि अगर मोदी सरकार छापे मारकर, गरीबों का धन लूटकर, अमीर बने धन्ना सेठों को जेल में ठूंस दे तो, नक्सली हथियार फेक देंगे। हम हिंसा का रास्ता छोडक़र मुख्यधारा में शामिल हो सकते हैं।

शिक्षा में साइंस से ग्रेजुएट, मगर दामन पर सैकड़ों हत्याओं का दाग, सिर पर तीन करोड़ 60 लाख का इनाम। 37 वर्षों से पुलिस ढूंढने में नाकाम। इनाम राशि के आधार पर देखें तो जंगलों में छिपा नक्सलियों का यह नेता दाउद से भी खतरनाक है, नाम है गणपति। वर्ष 1979 में करीमपुर में आखिरी बार गणपति को किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में देखा गया था। 

कई नक्सली वारदातों में सैकड़ों लोगों की जान लेने पर जब छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश की सरकार ने गिरफ्तारी के लिए इनाम रखना शुरू किया तो, गणपति भूमिगत हो गया। तब से गणपति की लोकेशन आज तक नक्सली हिंसा से जूझ रहे राज्यों की पुलिस तलाश नहीं पाई। जब कभी कोई बयान सार्वजनिक करना पड़ता है तो, कामरेड गणपित भरोसेमंद पत्रकारों को इंटरव्यू देता है। यह संगठन अंडरग्राउंड संचालित होता है। 

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़किया- सड़क किनारे मिनी स्कर्ट में अपना बिजनेस चला रही हैं।

यह भी पढ़े: यहां लॉटरी जीतने के बाद, पैसों के बजाए मिलती हैं लड़कियां।

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़की बिना अंडरवियर के शोरूम में शॉपिंग करने पहुंची

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.