भारतीय पहलवान का पहला दिन खराब, पहले ही दौर में हारे एफआईआर की प्रति अब मिलेगी ऑनलाईन, जानिए कैसे बूढादीत में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर को बनाया निशाना, आरोपियों को पकड़ा कैसे रूक पायेंगे रेल हादसे ? कपिल शर्मा ने सिद्धू के साथ मनमुटाव पर अपनी तोड़ी चुप्पी संदेश ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें बड़ी लीग में खेलना चाहिए: कांस्टेनटाइन काश कि रेल बजट तकनीक केन्द्रित होता राजस्थान ने लॉन्च की 'हैलो इंग्लिश प्रिमियम' एप, अंग्रेजी ज्ञान को बनाएगी बेहतर अतिक्रमण हटाने गए नगर परिषद के कर्मचारियों पर चले लात घूसे एटीपी रैंकिंग में एंडी मरे को पछाड़ नडाल टॉप पर "फिल्मों का बदलता ट्रेंड " सरकार ने बढ़ाई भीम कैशबैक योजना की अवधि, मार्च तक मिलेगा कैशबैक तीन तलाक मुद्दे पर कल सुप्रीम कोर्ट लेगा अहम फैसला मिताली राज का करारा जवाब, कहा- मैंने मैदान पर पसीना बहाया एक्सकेवेटर मशीन की चपेट में आने से गई मासूम की जान राष्ट्रपति ने किया लेह का दौरा, दिल्‍ली से बाहर उनकी प्रथम यात्रा इंडीज क्रिकेट बोर्ड ने दी पाक दौरे को मंजूरी, खेलेंगे T20 इंटरनेशनल मैच विपक्ष की एकता में मायावती ने डाली फुट, लालू की रैली में नहीं होगी शामिल बाइक सवार दो बदमाशों ने महज 57 सैकंड में उड़ाए 57 लाख गर्ल्स टॉयलेट में रिकॉर्डिंग के लिए छिपाया मोबाइल, कोई और नहीं बल्कि स्कूल का ही चौकीदार
ममता का सेना को राजनीती मे घसीटना नीच कार्य:बीजेपी
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 03:53:38 PM
1 of 1

नई दिल्ली। बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव सिद्दार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि सेना को राजनीती मे घसीट कर उन्होंने अपना ओछापन दिखा दिया है , हो सकता है कि वो नोटबंदी के विरोधी ग्रुप की चीयर लीडर हो  पर सेना को राजनीते से परे रखना चाहिए। 

इससे पहले ममता ने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य सरकार को बिना किसी पूर्व  सूचना के इस तरह सेना को तैनात किया जाना एक गंभीर मुद्दा है। राज्य में इमरजेंसी जैसे हालात पैदा हो गए हैं।  उन्होंने इस तरह सेना की तैनाती को असंवैधानिक बताते हुए राष्ट्रपति से मोदी सरकार की शिकायत करने का मन भी बनाया है

इससे पहले रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों की ओर से आज लोकसभा में यह मुद्दा उठाए जाने पर जवाब देते हुए कहा कि सेना की मंशा पर शक करना और उसे बेवजह राजनीतिक विवाद में घसीटना सही नहीं है। उन्होंने कहा, मुझे इस सदन को यह कहते दुख हो रहा है कि सेना के इस तरह के नियमित अभ्यास पर विवाद खड़ा किया जा रहा है। ये एक तरह की राजनीतिक हताशा है।’


ये सेना का नियमित अभ्यास  
रक्षा मंत्री ने बनर्जी का नाम लिए बगैर कहा कि एक राज्य की मुख्यमंत्री ने सेना के बारे जो भी कहा है वह दुखद है। ‘पिछले कई वर्षों से इस तरह का अभ्यास जारी है। राज्य में पिछले साल 19 नवंबर को भी यह अभ्यास किया गया था। इस बार भी बाकी राज्यों के साथ सेना की पूर्वी कमान ने उत्तर पूर्व के कई राज्यों में इस तरह का अभ्यास चलाया है। उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में भी ऐसा अभ्यास किया गया है। ये सारे अभ्यास शुरू किए जाने के पहले संबंधित राज्यों के प्रशासन और पुलिस को इसकी जानकारी दी गई थी। ऐसे में विवाद खड़ा करना और वह भी सेना को लेकर ऐसा करना बिल्कुल गलत है।

 यह भी पढ़े: भारतीय के कैमरे में कैद हुआ भूत, सोशल मीडिया पर वायरल

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े: सुना होगा शुगर फ्री लेकिन सही में ये है इसका मतलब

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.