परिवार का शक्ति प्रभाव दांबुला वनडे: अभ्यास के दौरान धोनी-विराट में हुई टक्कर शक के चलते फौजी ने अपनी पत्नी को उतारा मौत के घाट द्रोणाचार्य अवार्ड की सूची से सत्यनारायण राजू का नाम ख़ारिज मुजफ्फरनगर में ट्रैन हादसा, कलिंग उत्कल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे उतरे पटरी से राजनीती के पितामह रहे सत्यमूर्ति का जन्मदिन आज ग्रीनपार्क स्टेडियम की बिजली गुल, खिलाडी हुए बेघर, बाहर गुजारी रात जब कैमरे के सामने असहज दिखे ‘दीपवीर’, जानिए यह थी वजह जन्मदिन विशेष : भारत के नवें राष्ट्रपति शंकरदयाल शर्मा सिनसिनाटी ओपन: भारतीयों का सफर खत्म, सानिया मिर्जा-बोपन्ना हारे स्पेन आतंकी हमला में जारी हुए संदिग्धों के नाम, 14 की गई थी जान छेड़छाड़ का विरोध करना पड़ा भारी, बदमाश ने लड़की को मारे लात घुसे ओवैसी के पार्षदों और शिव सेना नेताओ में वंदे मातरम् को लेकर हाथापाई 2019 के वर्ल्ड कप में खेलने के लिए श्रीलंका टीम को जितने होंगे 2 मैच सुशांत और सारा की फिल्म 'केदारनाथ' का पहला मोशन पोस्‍टर रिलीज सृजन घोटाले में सहकारिता अधिकारी पंकज झा गिरफ्तार नडाल पराजित होने के बाद भी बनेंगे नंबर वन इस होटल में सेल्फी के हेर में कपल के बीच हो गया तलाक दिल्ली : 'ब्लू व्हेल' गेम के चक्कर में एक और छात्र ने की खुदकुशी की कोशिश कंगना की फिल्म ‘सिमरन’का दूसरा गाना ‘पिजंरा तोड़ के’ हुआ रिलीज
जीर्ण-शीर्ण हो रहे पर्यटन के छोटे-छोटे किलों, महलों तथा हवेलियों को बचाना जरूरी: वसुन्धरा राजे
sanjeevnitoday.com | Saturday, August 12, 2017 | 05:32:54 PM
1 of 1

नई दिल्ली। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने जर्जर ढांचों में बदलते जा रहे और जीर्ण-शीर्ण हो रहे पर्यटन महत्व के छोटे-छोटे किलों, महलों तथा हवेलियों को बचाने तथा पर्यटन की सम्भावनाओं को बढ़ाने के लिए एक विशेष नीति बनाने के निर्देश दिये है । राजे ने आज यहां पर्यटन, देवस्थान विभागों और धरोहर संरक्षण प्राधिकरण के विभिन्न विकास कार्यो तथा पर्यटन विकास की अन्य योजनाओं की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिये।   

राजे ने कहा कि पर्यटन महत्व की मिटती धरोहरों को बचाने के लिए विस्तृत कार्य योजना बना कर इन्हें बचाए रखने के प्रयास किए जाएंगे। साथ ही, उन्होंने प्रसिद्ध मंदिरों वाले शहरों और छोटे कस्बों में रख-रखाव और साफ-सफाई की व्यवस्था के लिए विशेष समितियां बनाने का सुझाव दिया। ऐसी संपती को नष्ट होने से बचाने के लिए निवेशकों को आगे आने का मौका दिया जाएगा। 

 

ये भी पढ़े: सोती हुई शेरनी को छेड़ना शेर को पड़ा महंगा

बैठक में बताया गया कि जयपुर स्थित नाहरगढ़ बायलॉजिकल पार्क में तेंदुए के तीन शावकों के जन्म के बाद वहां फरवरी 2018 तक लायन सफारी शुरू करने , जयपुर के झालाना क्षेत्र में लेपर्ड प्रोजेक्ट के तहत तेंदुओं के लिए रिहायश विकसित करने और लेपर्ड सफारी के लिए विकास कार्य 2017 के अंत तक पूरे होने पर भी चर्चा हुई। 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.