तमिलनाडु विधानसभा में हुआ वाकया लोकतंत्र के लिए शर्मनाक : वेंकैया नायडू बैंकों का एनपीए 6 लाख करोड़ से ज्यादा हुआ मां की डांट से क्षुब्ध बेटे ने लगाई फांसी PM मोदी पर लालू का निशाना, कहा- देश में श्मशान बनाने से किसी ने रोका है क्या? जरीन खान पहुंची ताजनगरी तो उमड़ी फैंस की भीड़ जानिए, IPL 2016 की नीलामी के 10 सबसे महंगे क्रिकेटर ट्रंप ने तेज की सुरक्षा सलाहकार की तलाश, कुछ ही दिनों में नियुक्ति की उम्मीद बिहार में फिर रेल दुर्घटनाएं होते-होते बची, कई ट्रेनें टूटी पटरी से होकर गुजारी! Pics: फिल्म 'रंगून' की स्क्रीनिंग में करीना ने सैफ के पोस्टर के सामने दिया पोज़ मोबाइल टावरों से निकलने वाली हानिकारक तरंगें पक्षियों के लिए नुकसानदायक, जानिए कैसे? हाफिज सईद पर कार्रवाई को भारत ने सराहा, कहा- आतंकवाद से क्षेत्र को मुक्त बनाने की दिशा में पहला तार्किक कदम सुप्रीम कोर्ट ने की अखिलेश सरकार की समाजवादी पेंशन योजना की तारीफ बिहार में बोर्ड परीक्षा के पेपर लीक करने के आरोप में पुलिस ने 7 को किया गिरफ्तार! IPL में चुने जाने पर मोहम्मद नबी ने दिया चौंकाने वाला बड़ा बयान, कहा... जेट एयरवेज का ATC से संपर्क टूटा तो जर्मनी के लड़ाकू विमानों ने घेरा MobiKwik: कनेक्ट ब्रॉडबैंड के बिल भुगतान पर ग्राहकों को दिया जायेगा 15% कैशबैक अक्षय कुमार के बाद अब रोहित शेट्टी करेंगे इस शो को होस्ट टाइम्स स्क्वेयर पर ट्रंप की नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन 56.4% बढ़कर 6,14,72 करोड़ हुआ सरकारी बैंकों का NPA 'मिर्ची म्यूजिक अवॉर्ड्स में अभिनेत्रियों ने बिखेरा जलवा, देखें तस्वीरें
मानवता शर्मसार: बीमार मां को 3 घंटे कंधे पर उठाए अस्पताल में भटकता रहा बेटा किन्तु...
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 02:48:19 PM
1 of 1

जोधपुर। संभाग के सबसे बड़े मथुरादास माथुर अस्पताल में मंगलवार को मानवता शर्मसार होती रही, मगर यहां किसी की इंसानियत नहीं जागी। एक बेटा तीन घंटे तक अपनी बीमार मां को कंधे पर उठाए अस्पताल के एक विभाग से दूसरे विभाग में भटकता रहा। मगर उसकी मां को इलाज नहीं मिला। डॉक्टर भी इलाज की बजाय उसे यहां से वहां दौड़ाते रहे। 

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

मंडोर निवासी (मूल रूप से उज्जैन निवासी) धर्मेन की मां पावतरा के पेट में तेज दर्द हो रहा था। धर्मेन अपनी मां को कंधे पर उठाकर अस्पताल में कई डॉक्टरों के पास गया, लेकिन कहीं पर भी उन्हें भर्ती नहीं किया गया। नर्स और डॉक्टरों ने मरीज की हालत देख उन्हें दूसरी जगह (संभवत: दूसरे विभाग के आउटडोर) जाने को कहा। 

यहां पहुंचने पर उन्हें पुन: दूसरे विभाग की आउटडोर में जाने की सलाह दे दी गई। शर्मनाक पहलू यह है कि बेटा अपनी मां को कंधे पर उठाए एक विभाग से दूसरे में भटकता रहा, मगर किसी ने उसे एक स्ट्रेचर तक मुहैया कराने की जहमत नहीं उठाई। वह तीन घंटे तक यूं ही भटकता रहा। 

धर्मेन ने आखिर हिम्मत हार अपनी मां को शिकारगढ़ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। उसका आरोप है कि पूरे अस्पताल में किसी ने भी उसे सही जानकारी नहीं दी और न ही मानवता के नाते मदद की। अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुनील गर्ग ने कहा कि इस मामले में उनके पास कोई शिकायत नहीं आई, उनके ध्यान में मामला आता तो एेसा नहीं होने देते।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : खुशियां बाँट रही फीमेल डॉक्टर.. न्यूड होकर करती है इलाज, मरीजों की लगी रहती हैं लंबी कतार !

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.