पिछले 900 सालों से वीरान है खजुराहो, जानिए इसके पीछे की कहानी! चोटी काटने की अफवाह पर पूरी तरह लगाम: सृष्टिधर महतो बस कुछ घंटे का इंतजार और फिर ऐसे 500 रुपये में बुक करवा सकते है Jio 4g Phone गोदभराई पर गुलाबी रंग का लहंगा पहने नजर आई ईशा बाल अपराध दिनों-दिन बढ़ रहा है, बच्चों पर बड़े गिरोह का शिकंजा नेपाल के प्रधानमंत्री 'शेर बहादुर देउबा' भारत दौरे पर, PM मोदी के साथ हुए 8 समझौते वीडियो : आज के दिन जन्मा था यह वीर शहीद जानिये जीवन से जुड़े कुछ तथ्य कुत्ते की मौत, पुरे विधि-विधान से लोगों ने किया अंतिम संस्कार Video: 'बादशाहो' का नया गाना 'होशियार रहना तेरे नगर में चोर आवेगा' हुआ रिलीज एक बार फिर निया शर्मा ने हॉट तस्वीरो से इंस्टाग्राम पर लगाई 'आग' आर.बी.आई. कल जारी करेगा 200 रुपए का नोट #LIVE INDvsSL: भारत ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का किया फैसला साउथ एक्ट्रेस प्रियामणि ने बॉयफ्रेंड संग रचाई शादी एक ऐसी छिपकली, जो मरने के बाद भी रहती है जीवित पाक से होने वाली टी-20 सीरीज में खेल सकते हैं कोलिंगवुड बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप की खबरों पर काइली जेनर ने तोड़ी चुप्पी ...तो इसलिए किंग खान ने वुमेन क्रिकेट टीम की कप्तान से मांगी माफी चीन ने दोबारा किया कमाल, बना डाली 30 मंजिला इमारत विश्व के उत्थान के लिए समान लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्ध होना जरुरी - बहाई धर्म डॉलर के मुकाबले रूपये में हुई 7 पैसे की बढ़ोतरी
भारत में कैसे होता है राष्ट्रपति का चुनाव, जानिए पूरी प्रक्रिया
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 01:22:10 PM
1 of 1

 

नई दिल्ली। हमारे देश में राष्ट्रपति के चुनाव का तरीका अनूठा है और इसे आप सबसे अच्छा संवैधानिक तरीका भी कह सकते हैं। इसमें कई देशों में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के तरीकों की अच्छी बातों को शामिल किया गया है। सबसे अच्छी बात है कि भारत के राष्ट्रपति चुनाव में सभी राजनैतिक दलों के विजयी उम्मीदवारों को शामिल किया जाता है। 

 

भारत के राष्ट्रपति संघ के कार्यपालक अध्यक्ष हैं। संघ के सभी कार्यपालक कार्य उनके नाम से किये जाते हैं। अनुच्छेद 52 के अनुसार संघ की कार्यपालक शक्ति उनमें निहित है। वह सशस्त्र सेनाओं का सर्वोच्च सेनानायक भी होता है। सभी प्रकार के आपातकाल लगाने व हटाने वाला, युद्ध/शांति की घोषणा करने वाला होता है। वह देश के प्रथम नागरिक है। भारतीय राष्ट्रपति का भारतीय नागरिक होना आवश्यक है।

सिद्धांततः राष्ट्रपति के पास पर्याप्त शक्ति होती है। पर कुछ अपवादों के अलावा राष्ट्रपति के पद में निहित अधिकांश अधिकार वास्तव में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाले मंत्रिपरिषद् के द्वारा उपयोग किए जाते हैं।

भारत के राष्ट्रपति नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में रहते हैं, जिसे रायसीना हिल के नाम से भी जाना जाता है। राष्ट्रपति अधिकतम कितनी भी बार पद पर रह सकते हैं। अधिकतम की कोई सीमा तय नही हैं। अब तक केवल पहले राष्ट्रपति डॉ॰ राजेंद्र प्रसाद ने ही इस पद पर दो बार अपना कार्यकाल पूरा किया है।

राष्ट्रपति का चुनाव
भारत के राष्ट्रपति का चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली के एकल संक्रमणीय मत पद्धति के द्वारा होता है। राष्ट्रपति को भारत के संसद के दोनो सदनों (लोक सभा और राज्य सभा) तथा साथ ही राज्य विधायिकाओं (विधान सभाओं) के निर्वाचित सदस्यों द्वारा पाँच वर्ष की अवधि के लिए चुना जाता है। वोट आवंटित करने के लिए एक फार्मूला इस्तेमाल किया गया है ताकि हर राज्य की जनसंख्या और उस राज्य से विधानसभा के सदस्यों द्वारा वोट डालने की संख्या के बीच एक अनुपात रहे और राज्य विधानसभाओं के सदस्यों और राष्ट्रीय सांसदों के बीच एक समानुपात बनी रहे। अगर किसी उम्मीदवार को बहुमत प्राप्त नहीं होती है तो एक स्थापित प्रणाली है जिससे हारने वाले उम्मीदवारों को प्रतियोगिता से हटा दिया जाता है और उनको मिले वोट अन्य उम्मीदवारों को तबतक हस्तांतरित होता है, जबतक किसी एक को बहुमत नहीं मिलती।

 

राष्ट्रपति बनने के लिए आवश्यक योग्यताएँ :
भारत का कोई नागरिक जिसकी उम्र 35 साल या अधिक हो वो एक राष्ट्रपति बनने के लिए उम्मीदवार हो सकता है। राष्ट्रपति के लिए उम्मीदवार को लोकसभा का सदस्य बनने की योग्यता होना चाहिए और सरकार के अधीन कोई लाभ का पद धारण नहीं करना चाहिए। परन्तु निम्नलिखित कुछ कार्यालय-धारकों को राष्ट्रपति के उम्मीदवार के रूप में खड़ा होने की अनुमति दी गई है। 

मतों की गिनती की प्रक्रिया
भारत में राष्ट्रपति के चुनाव में सबसे ज्यादा वोट हासिल करने से ही जीत तय नहीं होती है।  राष्ट्रपति वही बनता है, जो वोटरों यानी सांसदों और विधायकों के वोटों के कुल वेटेज का आधा से ज्यादा हिस्सा हासिल करे।  यानी इस चुनाव में पहले से तय होता है कि जीतने वाले को कितना वोट चाहिए। 

इस समय राष्ट्रपति चुनाव के लिए जो इलेक्टोरल कॉलेज है, उसके सदस्यों के वोटों का कुल वेटेज 10,98,882 है. जीत के लिए प्रत्याशी को हासिल 5,49,442 वोट करने होंगे. जो प्रत्याशी सबसे पहले यह वोट हासिल करता है, वह राष्ट्रपति चुन लिया जाएगा। 

इस सबसे पहले का मतलब समझने के लिए वोट काउंटिंग में प्रायॉरिटी पर गौर करना होगा। सांसद या विधायक वोट देते वक्त अपने मतपत्र पर बता देते हैं कि उनकी पहली पसंद वाला कैंडिडेट कौन है, दूसरी पसंद वाला कौन और तीसरी पसंद वाला कौन आदि आदि। सबसे पहले सभी मतपत्रों पर दर्ज पहली वरीयता के मत गिने जाते हैं। यदि इस पहली गिनती में ही कोई कैंडिडेट जीत के लिए जरूरी वेटेज का कोटा हासिल कर ले, तो उसकी जीत हो गई। लेकिन अगर ऐसा न हो सका, तो फिर एक और कदम उठाया जाता है। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.