loading...
loading...
loading...
दुनिया भर में कई कंपनियों पर साइबर हमला, सबसे बुरा असर यूक्रेन पर खड़े ट्रक में अनियंत्रित होकर घुसी कार, 5 लोग घायल सिक्किम से सेना हटाओ, नहीं तो कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू नहीं होगी: चीन Video: 'जग्गा जासूस' की शूटिंग के दौरान रणबीर को हिम्मत देती नजर आई कैटरीना तस्करी के मामले में आरोपी को10 साल की कैद, 1 लाख 5 हजार का जुर्माना महागठबंधन और राष्ट्रपति चुनावों को लेकर नेताओ ने पार्टी प्रवक्ताओं को दी फालतू बयान ना देने की सलाह मानसरोवर यात्रा के लिए चीन ने रखी भारत के सामने शर्त, कहा- पहले सिक्किम से हटे भारतीय सैनिक चोरो ने की 7 घरों से 7 लाख की चोरी फाइनेंसियल ईयर में निफ्टी पहुंच सकता है10,300 से 10,400 के स्तर पर: HDFC सिक्युरिटीज आज अंतिम दिन राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार दाखिल करेगी नामांकन 100 दिन पूरे: विपक्ष का योगी सरकार पर हमला, कहा- सब अखिलेश का किया धरा है नया कुछ नहीं है युवती की संदिग्ध हालात में हुई मृत्यु वित्त मंत्री ने की बिटकॉइन पर अंतर- मंत्रालय बैठक इस 'इंटरकोर्स' शब्दों को लेकर विवादों में फंसी 'जब हैरी मेट सेजल' नशे पर रोकथाम: 'ब्रेथ एनालाइजर' के जरीय हो रही है स्कूल बसों के ड्राइवर खल्लासियों की जांच दुष्कर्म मामले पर हुई मारपीट, 5 युवक घायल सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल टेररिस्ट घोषित किया जाना अनुचित: पाक मोदी- ट्रंप मुलाकात से बौखलाया चीन, कहा- अमेरिका से मिलकर चीन के मुकाबले खड़े होने की भारत की कोशिश विफल राजस्थान में मानसून का प्रवेश, पंजाब हरियाणा में अगले 3 दिनों में मानसून पहुंचने के आसार: मौसम विभाग बारिश शुरू हुई तो बेटे लक्ष्य को स्कूल से लाने छतरी लेकर पहुंचे तुषार कपूर, देखें तस्वीरें
'हाईजैक' नहीं की जा सकती न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया: टीएस ठाकुर
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 10:19:28 AM
1 of 1

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच गुरुवार को कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया 'हाईजैक' नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि 'निरंकुश शासन' के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है।टीएस ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। टीएस ठाकुर ने कहा शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है। एनजेएसी उसी के लिए एक कोशिश थी। 

संविधान पीठ ने एनजेएसी मामले में पाया कि जजों की नियुक्ति में कानून मंत्री और दो अन्य का होना न्यायपालिका की आजादी में खलल है। सरकार का विचार अलग है लेकिन जजों की नियुक्ति का मामला सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ना चाहिए। प्रमुख न्यायाधीश ने कहा कि न्यायपालिका के सामने बाहरी और भीतरी चुनौतियां हैं। वित्तीय मामलों की भी चुनौतियां हैं। जब हम लेकतंत्र की बात करते हैं और आजाद न्यायपालिका की बात नहीं करते तो ये ऐसा है जैसे बिना सूरज के सोलर सिस्टम।

लोकतंत्र की बात आजाद न्यायपालिका के बिना नहीं हो सकती। न्यायपालिका काम करती है क्योंकि जज काम करते हैं। जज भी इंसान हैं, उनकी भी सीमाएं हैं। जज के काम की भी आलोचना होती है। न्यायपालिका को संस्थानिक आजादी प्राप्त है। न्यायपालिका को अपने प्रशासनिक काम की आजादी होनी चाहिए। कौन से केस कौन जज सुनेंगे ये न्यायपालिका को तय करना होगा। आप ये नहीं कह सकते कि जजों की नियुक्ति एग्जीक्यूटिव करेंगे।

 कौन से मामले सुने जाए या ना सुने जाए ये न्यायपालिका तय करे न कि कोई बाहरी।जजों को उनके कार्यकाल में सुरक्षा हो। न्यायपालिका को अपने वित्तीय मामलों में आजादी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी 'बेमतलब' होंगे।

प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां 'स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़' विषयक 37 वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को 'लक्ष्मणरेखा' में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.