बीएसएनएल ने अपनी टीवी सर्विस Ditto TV और Limited Fixed Mobile की लॉन्च अरुण जेटली ने किया एलान, कहा- 1 जुलाई से लागू होगा जीएएसटी 1 जुलाई से लागू हो सकता है GST खरगौन: उच्चाधिकारी ने CISF जवान को मारा थप्पड़ नव नियुक्त प्रशासकों के नेतृत्व में BCCI में तेजी से आगे बढ़ेंगी चीजें: लोढ़ा जेडी.कॉम पर होगी नोकिया 6 स्मार्टफोन की पहली बिक्री बहुत अच्छे बेटे हैं करण: किंग खान योगेश्वर दत्त के गांव को हरियाणा के CM देंगे 10 करोड़ रूपए AAP के सचिव राजेंद्र कुमार ने किया नजीब जंग पर जुबानी हमला गोवा विधानसभा चुनाव 2017:  BJP ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची आतंकवादी ने मिस्र में सुरक्षा चौकी पर हमला, 8 पुलिसवालों की मौत अखिलेश की जीत का कारण बनी मुलायम-अखिलेश की चिट्ठी पांच साल बाद श्मशान घाट में मिला पति और वही शुरू कर दी बहस अब घर बैठे कर सकेंगे नगर निगम से जुड़े सभी काम इन खिलाड़ियों को मिल सकता हैं 2016 का यह खास ईनाम! 'xXx' की सक्सेस के लिए दीपिका पहुंची सिद्धिविनायक मंदिर आँख में धूल झोकने के बराबर है ATM से पैसे निकालने की सीमा बढ़ाना: ममता बनर्जी नोटबंदी के दौरान सहकारी बैंको की घालामेली से RBI अनजान Sanjeevni Today: Top Stories of 9am बांग्लादेश की अदालत ने 26 को दी सजा-ए-मौत, नारायणगंज हत्याकांड मामले में थे दोषी
'हाईजैक' नहीं की जा सकती न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया: टीएस ठाकुर
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 10:19:28 AM
1 of 1

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच गुरुवार को कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया 'हाईजैक' नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि 'निरंकुश शासन' के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है।टीएस ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। टीएस ठाकुर ने कहा शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है। एनजेएसी उसी के लिए एक कोशिश थी। 

संविधान पीठ ने एनजेएसी मामले में पाया कि जजों की नियुक्ति में कानून मंत्री और दो अन्य का होना न्यायपालिका की आजादी में खलल है। सरकार का विचार अलग है लेकिन जजों की नियुक्ति का मामला सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ना चाहिए। प्रमुख न्यायाधीश ने कहा कि न्यायपालिका के सामने बाहरी और भीतरी चुनौतियां हैं। वित्तीय मामलों की भी चुनौतियां हैं। जब हम लेकतंत्र की बात करते हैं और आजाद न्यायपालिका की बात नहीं करते तो ये ऐसा है जैसे बिना सूरज के सोलर सिस्टम।

लोकतंत्र की बात आजाद न्यायपालिका के बिना नहीं हो सकती। न्यायपालिका काम करती है क्योंकि जज काम करते हैं। जज भी इंसान हैं, उनकी भी सीमाएं हैं। जज के काम की भी आलोचना होती है। न्यायपालिका को संस्थानिक आजादी प्राप्त है। न्यायपालिका को अपने प्रशासनिक काम की आजादी होनी चाहिए। कौन से केस कौन जज सुनेंगे ये न्यायपालिका को तय करना होगा। आप ये नहीं कह सकते कि जजों की नियुक्ति एग्जीक्यूटिव करेंगे।

 कौन से मामले सुने जाए या ना सुने जाए ये न्यायपालिका तय करे न कि कोई बाहरी।जजों को उनके कार्यकाल में सुरक्षा हो। न्यायपालिका को अपने वित्तीय मामलों में आजादी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी 'बेमतलब' होंगे।

प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां 'स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़' विषयक 37 वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को 'लक्ष्मणरेखा' में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.