loading...
गर्मियों में स्किन को ठंडा रखने में मदद करेंगे ये तेल इस खूबसूरत कपल की तस्वीर को गौर से देखने के बाद निकल जाएगी आपकी चीख बॉलिवुड एक्ट्रेस मनीषा कोईराला ये लुक देखकर चौंक जायेंगे आप शहीद आयुष यादव की मां ने आर्थिक मदद लेने से साफ इंकार किया एक मई से देशभर में बदलेगा बच्चों को गोद लेने का प्रावधान मनोज तिवारी ने गरीब मजदूर के घर खाया खाना ट्रिपल तलाक के मुद्दे का हल निकालने के लिए मुस्लिम समाज खुद आगे आए: PM मोदी जब मालिक के इशारे पर कुत्ते ने एक अधेड़ को नोच-नोच कर मार डाला सीटेट परीक्षा का साल में एक बार ही आयोजन करेगा सीबीएसई राज्‍यसभा सांसद कहकशां परवीन के घर पर बम हमला, बॉडगार्ड सहित चार घायल सरकार ने नक्सलियों को उनके ही मांद में घुसकर मुंहतोड़ जवाब देने का फैसला किया मेरे और कुमार विश्वास बीच दरार दिखाने वाले लोग पार्टी के दुश्मन है: केजरीवाल NDMC ने जारी की टैक्स डिफाल्टरों की सूची, दिल्ली गोल्फ क्लब सहित कई बड़े होटल है शामिल जल्द आने वाली है उबर की उड़ने वाली टैक्सी, किराया भी होगा कम हमलावरों ने पुलिस स्टेशन को बनाया निशाना, 1 की मौत चार जख्मी LIVE IPL KKR VS SRH: बरसात के कारण मैच चालू होने में लगेगा तोडा समय, उथप्पा और पांडेय क्रीज पर मौजूद, सात ओवर में 52 रन कृषि मंत्री ने किया गुजराती लुहार समाज के भवन का लोकार्पण 13 भाषाओं को जानता है ये रोबोट, अब हिंदी और मेवाड़ी सीखने आया है उदयपुर VIDEO: देखिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'मन की बात' की खास बातें! LIVE IPL KKR VS SRH: कोलकाता की शुरुआत बेहद खराब, ओपनर जोड़ी गंभीर-नारायण पेवेलियन लोटे, स्कोर 16/2
'हाईजैक' नहीं की जा सकती न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया: टीएस ठाकुर
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 10:19:28 AM
1 of 1

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच गुरुवार को कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया 'हाईजैक' नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि 'निरंकुश शासन' के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है।टीएस ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। टीएस ठाकुर ने कहा शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है। एनजेएसी उसी के लिए एक कोशिश थी। 

संविधान पीठ ने एनजेएसी मामले में पाया कि जजों की नियुक्ति में कानून मंत्री और दो अन्य का होना न्यायपालिका की आजादी में खलल है। सरकार का विचार अलग है लेकिन जजों की नियुक्ति का मामला सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ना चाहिए। प्रमुख न्यायाधीश ने कहा कि न्यायपालिका के सामने बाहरी और भीतरी चुनौतियां हैं। वित्तीय मामलों की भी चुनौतियां हैं। जब हम लेकतंत्र की बात करते हैं और आजाद न्यायपालिका की बात नहीं करते तो ये ऐसा है जैसे बिना सूरज के सोलर सिस्टम।

लोकतंत्र की बात आजाद न्यायपालिका के बिना नहीं हो सकती। न्यायपालिका काम करती है क्योंकि जज काम करते हैं। जज भी इंसान हैं, उनकी भी सीमाएं हैं। जज के काम की भी आलोचना होती है। न्यायपालिका को संस्थानिक आजादी प्राप्त है। न्यायपालिका को अपने प्रशासनिक काम की आजादी होनी चाहिए। कौन से केस कौन जज सुनेंगे ये न्यायपालिका को तय करना होगा। आप ये नहीं कह सकते कि जजों की नियुक्ति एग्जीक्यूटिव करेंगे।

 कौन से मामले सुने जाए या ना सुने जाए ये न्यायपालिका तय करे न कि कोई बाहरी।जजों को उनके कार्यकाल में सुरक्षा हो। न्यायपालिका को अपने वित्तीय मामलों में आजादी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी 'बेमतलब' होंगे।

प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां 'स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़' विषयक 37 वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को 'लक्ष्मणरेखा' में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.