loading...
अनुष्का की तारीफ करते हुए शाहरुख़ ने कहा- असंभव पर भरोसा बनाये रखो लीबिया के पास, भूमध्य सागर में नाव डूबी, 250 अफ्रीकन माइग्रेंट्स के मारे जाने का शक पति के साथ CM योगी आदित्यनाथ से मिलने पहुंचीं अपर्णा यादव धोनी ने संन्यास को लेकर दिया ये बड़ा बयान, कहा... डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 4 बढ़ोतरी DGP जावीद अहमद ने जारी किया फरमान, आइजी करें थानों का औचक निरीक्षण Airtel करेगी तिकोना नेटवर्क्स के 4G बिजनेस का अधिग्रहण मोदी दिखे अलग अंदाज़ में जिन्हें देखकर यूपी के BJP सांसद भी हुए हैरान यूपी बोर्ड परीक्षा: विज्ञान के इम्तिहान में 58 हजार ने छोड़ी परीक्षा पुणे की टीम में मिशेल मार्श की जगह टीम में शामिल हुआ ये खिलाड़ी क्रेडिट कार्ड सेवा को बंद करने के लिए काटा 5 पैसे का चेक 'बेवॉच' का दूसरा ट्रेलर हुआ लॉन्च एंटी रोमियो स्क्वॉयड के बाद भी लेडी IPS अफसर के मुंह पर छोड़ा सिगरेट का धुआं, फिर... विधानसभाउपाध्यक्ष ने संसदीय प्रक्रियाओं के उल्लंघन करने पर जबरदस्त नाराजगी की जाहिर स्वास्थ्य सेवा में ‘बेहतरीन’ काम कर रही हैं भारतीय-अमेरिकी सीमा वर्मा : ट्रंप अवैध नॉन बैंकिंग कंपनियों पर होगी कार्रवाई ट्रिप एडवायर्स की सूची में जयपुर ने को मिला स्थान कपिल के खिलाफ दायर FIR पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाया UP: 100 से साल ज्यादा पुराना ‘टुंडे कबाबी’ रेस्त्रा पर मंडराया बंद होने का खतरा जयपुर की सेंट्रल जेल के कैदी सलाखों के पीछे रहते हुए भी बना ली एक अलग पहचान, जानिए...
'हाईजैक' नहीं की जा सकती न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया: टीएस ठाकुर
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 10:19:28 AM
1 of 1

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच गुरुवार को कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया 'हाईजैक' नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि 'निरंकुश शासन' के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है।टीएस ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। टीएस ठाकुर ने कहा शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है। एनजेएसी उसी के लिए एक कोशिश थी। 

संविधान पीठ ने एनजेएसी मामले में पाया कि जजों की नियुक्ति में कानून मंत्री और दो अन्य का होना न्यायपालिका की आजादी में खलल है। सरकार का विचार अलग है लेकिन जजों की नियुक्ति का मामला सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ना चाहिए। प्रमुख न्यायाधीश ने कहा कि न्यायपालिका के सामने बाहरी और भीतरी चुनौतियां हैं। वित्तीय मामलों की भी चुनौतियां हैं। जब हम लेकतंत्र की बात करते हैं और आजाद न्यायपालिका की बात नहीं करते तो ये ऐसा है जैसे बिना सूरज के सोलर सिस्टम।

लोकतंत्र की बात आजाद न्यायपालिका के बिना नहीं हो सकती। न्यायपालिका काम करती है क्योंकि जज काम करते हैं। जज भी इंसान हैं, उनकी भी सीमाएं हैं। जज के काम की भी आलोचना होती है। न्यायपालिका को संस्थानिक आजादी प्राप्त है। न्यायपालिका को अपने प्रशासनिक काम की आजादी होनी चाहिए। कौन से केस कौन जज सुनेंगे ये न्यायपालिका को तय करना होगा। आप ये नहीं कह सकते कि जजों की नियुक्ति एग्जीक्यूटिव करेंगे।

 कौन से मामले सुने जाए या ना सुने जाए ये न्यायपालिका तय करे न कि कोई बाहरी।जजों को उनके कार्यकाल में सुरक्षा हो। न्यायपालिका को अपने वित्तीय मामलों में आजादी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी 'बेमतलब' होंगे।

प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां 'स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़' विषयक 37 वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को 'लक्ष्मणरेखा' में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.