loading...
Pics: पति के साथ देखें सनी का बोल्ड अवतार Live INDvsAUS: ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 285 रनों पर ऑल आउट, भारत को मिला 440 रनों का लक्ष्य प्रियंका ने संजय लीला भंसाली को दी जन्मदिन की शुभकामनाएं MCD चुनाव 2017: आम ने जारी की 109 उम्मीदवारों की सूची मैं ‘फर्जी खबरों’ के खिलाफ हूँ, प्रेस की आजादी के खिलाफ नहीं: Trump Snapdeal में शुरू हुआ छटनी का दौर,मची हलचल मिसबाह ने अभी तक नहीं किया कप्तानी छोड़ने फैसला, यूनिस खान ने की दावेदारी पेश Pics: इस टीवी एक्ट्रेस की बेटी ने करवाया बोल्ड फोटोशूट बंदूक की गोलियों से कुछ हासिल नहीं होगा: फारूक अब्दुल्ला केंद्र सरकार मार्च में लागू करेगी ईपीएफओ आवास योजना 7वां वेतन आयोग : राजस्थान के सरकारी कर्मचारियों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी किम जोंग नम की हत्या जिस जहर से की वह संयुक्त राष्ट्र सामूहिक विनाश के हथियार की श्रेणी में जाता है गिना! बॉलीवुड के इस शानदार कपल की शादी को हुए 18 साल पूरे सुप्रीम कोर्ट ने राज्य क्रिकेट संघों से एक मार्च तक मांगी अनुपालन की रिपोर्ट क्रैश टेस्ट में पास हुई मारुति सुजुकी की ये नई कार BMC चुनाव 2017: BJP को चित करने के लिए शिवसेना ने अंदरखाने शुरू की कांग्रेस से सौदेबाजी नायक मोहिउद्दीन राठेर को हजारों नम आंखों ने दी विदाई! शांता रंगास्वामी ने महिला क्रिकेट को लेकर सीओए को लिखा पत्र भारत-इजरायल मिलकर बनाएंगे मिसाइल, 17000 करोड़ के सौदे को मिली हरी झंडी Video: देखिए ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ का गाना ‘आशिक सरेंडर हुआ’
'हाईजैक' नहीं की जा सकती न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया: टीएस ठाकुर
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 10:19:28 AM
1 of 1

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच गुरुवार को कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया 'हाईजैक' नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि 'निरंकुश शासन' के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है।टीएस ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। टीएस ठाकुर ने कहा शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है। एनजेएसी उसी के लिए एक कोशिश थी। 

संविधान पीठ ने एनजेएसी मामले में पाया कि जजों की नियुक्ति में कानून मंत्री और दो अन्य का होना न्यायपालिका की आजादी में खलल है। सरकार का विचार अलग है लेकिन जजों की नियुक्ति का मामला सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ना चाहिए। प्रमुख न्यायाधीश ने कहा कि न्यायपालिका के सामने बाहरी और भीतरी चुनौतियां हैं। वित्तीय मामलों की भी चुनौतियां हैं। जब हम लेकतंत्र की बात करते हैं और आजाद न्यायपालिका की बात नहीं करते तो ये ऐसा है जैसे बिना सूरज के सोलर सिस्टम।

लोकतंत्र की बात आजाद न्यायपालिका के बिना नहीं हो सकती। न्यायपालिका काम करती है क्योंकि जज काम करते हैं। जज भी इंसान हैं, उनकी भी सीमाएं हैं। जज के काम की भी आलोचना होती है। न्यायपालिका को संस्थानिक आजादी प्राप्त है। न्यायपालिका को अपने प्रशासनिक काम की आजादी होनी चाहिए। कौन से केस कौन जज सुनेंगे ये न्यायपालिका को तय करना होगा। आप ये नहीं कह सकते कि जजों की नियुक्ति एग्जीक्यूटिव करेंगे।

 कौन से मामले सुने जाए या ना सुने जाए ये न्यायपालिका तय करे न कि कोई बाहरी।जजों को उनके कार्यकाल में सुरक्षा हो। न्यायपालिका को अपने वित्तीय मामलों में आजादी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी 'बेमतलब' होंगे।

प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां 'स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़' विषयक 37 वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को 'लक्ष्मणरेखा' में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.