शादी का झांसा देकर 4 साल तक करता रहा दुराचार और अब... ‘गोलमाल अगेन’ को लेकर लोगों ने दिया ये Compliment, अजय ने दिए कुछ ऐसे मजेदार जवाब वीरेंद्र सहवाग के ‘दर्जी’ बुलाने पर रॉस टेलर ने दिया कुछ ऐसा जवाब... छेड़खानी के डर से लोकल ट्रेन से कूद गई छात्रा 'मर्सल' के GST वाले सीन से राजनीतिक में मची हलचल, रजनीकांत ने की तारीफ श्रीलंका के खिलाफ 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय का ऐलान प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंन्द्र योजना का लाभ उठाकर आप कमा सकते है 30 से 35 हजार मैं फक्कड़ हूं लेकिन दुनिया के खातिर अपनी लाइफस्टाइल नहीं छोड़ सकती: राधे मां बेकाबू होकर ब्रिज से नीचे गिरी बाइक, छात्र की हुई मौत फिल्म प्रमोशन के दौरान राजकुमार राव की टूटी टांग, पहुंचे अस्पताल जन्मदिन पर प्रभास ने फैंस को दिया ये खास तोहफा युवक के मुंह में तमंचा ठूंसकर मार दी गई गोली राजधानी एक्सप्रेस का टिकट कन्फर्म नहीं हुआ तो रेलवे देगा फ्लाइट का टिकट! भारतीय डॉक्टर एेसे कर रहा ISIS की हेल्प, खोज में जुटीं जांच एजेंसियां बिलकिस बानो गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार से 4 हफ्तों में मांगी विस्तार रिपोर्ट देवी षष्ठी माता और भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए की जाती है छठ पूजा मोहसिन रजा ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिलाने के लिए मांगी विधिक राय राजस्थान सरकार के विवादित बिल पर हंगामा, कांग्रेस ने मुंह पर काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन ...तो इसलिए न्यूजीलैंड से पराजित हुई टीम इंडिया क्या सचमुच युद्ध की कोई साजिश रच रहा था चीन?
'हाईजैक' नहीं की जा सकती न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया: टीएस ठाकुर
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 10:19:28 AM
1 of 1

नई दिल्ली। भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने न्यायपालिका और सरकार के बीच खींचतान के बीच गुरुवार को कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति की प्रक्रिया 'हाईजैक' नहीं की जा सकती और न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए क्योंकि 'निरंकुश शासन' के दौरान उसकी अपनी एक भूमिका होती है।टीएस ठाकुर ने यह भी स्पष्ट किया कि न्यायपालिका न्यायाधीशों के चयन में कार्यपालिका पर निर्भर नहीं रह सकती। टीएस ठाकुर ने कहा शक्तिशाली संसद न्यायिक नियुक्तियों में शामिल होने की कोशिश करती है। एनजेएसी उसी के लिए एक कोशिश थी। 

संविधान पीठ ने एनजेएसी मामले में पाया कि जजों की नियुक्ति में कानून मंत्री और दो अन्य का होना न्यायपालिका की आजादी में खलल है। सरकार का विचार अलग है लेकिन जजों की नियुक्ति का मामला सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ना चाहिए। प्रमुख न्यायाधीश ने कहा कि न्यायपालिका के सामने बाहरी और भीतरी चुनौतियां हैं। वित्तीय मामलों की भी चुनौतियां हैं। जब हम लेकतंत्र की बात करते हैं और आजाद न्यायपालिका की बात नहीं करते तो ये ऐसा है जैसे बिना सूरज के सोलर सिस्टम।

लोकतंत्र की बात आजाद न्यायपालिका के बिना नहीं हो सकती। न्यायपालिका काम करती है क्योंकि जज काम करते हैं। जज भी इंसान हैं, उनकी भी सीमाएं हैं। जज के काम की भी आलोचना होती है। न्यायपालिका को संस्थानिक आजादी प्राप्त है। न्यायपालिका को अपने प्रशासनिक काम की आजादी होनी चाहिए। कौन से केस कौन जज सुनेंगे ये न्यायपालिका को तय करना होगा। आप ये नहीं कह सकते कि जजों की नियुक्ति एग्जीक्यूटिव करेंगे।

 कौन से मामले सुने जाए या ना सुने जाए ये न्यायपालिका तय करे न कि कोई बाहरी।जजों को उनके कार्यकाल में सुरक्षा हो। न्यायपालिका को अपने वित्तीय मामलों में आजादी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रशासन के मामलों में न्यायपालिका स्वतंत्र होनी चाहिए जिसमें अदालत के भीतर न्यायाधीशों को मामलों को सौंपना शामिल है, जब तक न्यायपालिका स्वतंत्र नहीं होगी, संविधान के तहत प्रदत्त अधिकारी 'बेमतलब' होंगे।

प्रधान न्यायाधीश ठाकुर ने यह टिप्पणी यहां 'स्वतंत्र न्यायपालिका का गढ़' विषयक 37 वें भीमसेन सचर स्मृति व्याख्यान के दौरान कही। यह टिप्पणी उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर न्यायपालिका और कार्यपालिका के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। देश के दोनों ही अंग एक-दूसरे पर न्यायाधीशों के रिक्त पद बढ़ाने के आरोप लगाने के साथ ही एक-दूसरे को 'लक्ष्मणरेखा' में रहने के लिए कह रहे हैं।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.