शशिकला को संभालनी चाहिए अन्नाद्रमुक की कमान : पन्नीरसेल्वम HOCKEY: इंग्लैंड भी नही रोक सका भारत का विजयी अभियान, 5-3 से परास्त BIRTHDAY PARTY: स्टनिंग लुक में नजर आई नव्या पिस्टल दिखाकर महिला से मारपीट और गैंगरेप पर्रिकर ने मॉरीशस को पूर्ण सहयोग का दिया आश्वासन ऐसा क्या कारण था जो कटप्पा ने बाहुबली को मारा तेलंगाना में करीब 82 लाख रूपये के नए नोट जब्त पंजाब: बेरवाला गांव के जंगल में मिली मिसाइल,मचा हड़कंम एयर इंडिया फंसे यात्रियों को निकालने के लिए आज रात दो उड़ानें करेगी संचालित नहीं मिली एम्बुलेंस, मजबूरन हाथ रिक्शे से लाना पड़ा शव life Ok शो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ बंद नहीं होगा भारत को तीन साल में मिलेगी राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप: वायुसेनाध्यक्ष खेल मंत्री ने सोनीपत में नए कुश्ती हाल का उद्घाटन किया.. नोटबंदी भ्रष्टाचार ख़त्म करने का अचूक हथियार: मोदी खरीददारी करने गयी महिला से छेड़छाड़, आरोपी फरार तेंदुए की कीमती खाल की तस्करी के आरोप में एक गिरफ्तार गुरदासपुर के छावनी इलाके में तलाशी अभियान 'ओके जानू' 13 जनवरी, 2017 को सिल्वर स्क्रीन पर होगी रिलीज स्पेशल टीम ने कुख्यात सूरज गिरोह के 9 गुर्गों को किया गिरफ्तार जम्मू कश्मीर में ले घूमने का मजा, सुरक्षा की चिंता न करें : महबूबा
24 साल बाद आया हर्षद मेहता शेयर घोटाले का फैसला
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 11:51:47 AM
1 of 1

नई दिल्ली। 24 साल पहले बहुचर्चित हर्षद मेहता शेयर घोटाले में 24 साल बाद फैसला सुनाया गया। मुंबई की विशेष अदालत ने हर्षद मेहता के भाई सुधीर मेहता समेत 6 आरोपियों को 700 करोड़ रुपये के घोटाले का दोषी करार दिया। बैंक के वरिष्ठ अधिकारी और स्टॉक ब्रोकर भी करोड़ों के इस घोटाले में शामिल थे। इंडियन 1,990 साल इकोनॉमी के लिए 92 से का समय बड़े बदलाव का वक्त था। देश ने उदारवादी इकोनॉमी की तरफ चलना शुरू ही किया था कि एक ऐसा घोटाला सामने आया, जिसने शेयरों की खरीद-बिक्री की प्रकिया में ऐतिहासिक परिवर्तन किए। हर्षद मेहता इस घोटाले के जिम्मेदार थे। हर्षद मेहता ने बैंकिंग के नियमों का फायदा उठाकर बैंकों को बिना बताए उनके करोड़ों रुपयों को शेयर मार्केट में लगा दिया था।

घोटाले के मुख्य आरोपी हर्षद मेहता की 2002 मौत हो में गई थी, जिसके बाद उसके खिलाफ केस को बंद कर दिया गया। एक अंग्रेजी अख़बार के अनुसार जस्टिस शालिनी फनसालकर जोशी ने दोषियों की इस दलील को खारिज कर दिया कि वे करीब दशकों से मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या से जूझते रहे हैं, लिहाजा उन्हें माफ कर दिया जाए। जज ने अपने फैसले में कहा की यह सच है कि इस मामले में अपराध 24 साल पहले यानी साल 1992 में हुआ था। इन 24 सालों में आरोपियों को मानसिक और शारीरिक कष्टों को सहना पड़ा।

जज ने आगे कहा कि इसके बावजूद अपराध की गंभीरता को भी समझना होगा। अदालत ने कहा कि अपराध बहुत ही गंभीर श्रेणी का है, ये नेशनल बैंक से धोखाधड़ी के जरिए करोड़ों रुपये निकालने का मामला है। आरोपियों के इस कृत्य (घोटाले) की वजह से देश की अर्थव्यवस्था डगमगा गई थी। जिसके बाद अदालत ने हर्षद मेहता के भाई सुधीर और दीपक मेहता को दोषी करार दिया। साथ ही अदालत ने नेशनल हाउसिंग बैंक के अधिकारी सी। रविकुमार, सुरेश बाबू और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अधिकारी आर। सीतारमन और स्टॉक ब्रोकर अतुल पारेख को भी मामले में दोषी करार दिया। 

कोर्ट ने उन्हें धोखाधड़ी, जालसाजी, आपराधिक विश्वासघात से जुड़ी धाराओं और भ्रष्टाचार निवारक कानून के तहत दोषी ठहराया। दोषियों को 6 महीने से 4 साल तक की सजा सकती है हो। इसके साथ ही अदाल ने दोषियों पर 11.95 लाख का जुर्माना भी लगाया है। मामले में 3 आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया। बरी होने वालों में हर्षद मेहता का एक और कजिन हितेन मेहता भी है जो घोटाले के समय महज 19 साल का था। फिलहाल दोषियों की अपील पर अदालत ने अपने फैसले को 8 हफ्तों के लिए आगे बढ़ा दिया है। दोषियों ने शीतकालीन अवकाश और नोटबंदी का हवाला देते हुए जुर्माने की रकम के लिए समय की मांग करते हुए समय मांगा था।

यह भी पढ़े : लापरबाही के कारण बिल्ली की मौत, महिला ने डॉक्टर पर ठोका ढाई करोड़ का मुकदमा..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.