संजीवनी टुडे

News

कांग्रेस के नये 'सरताज' बनने का राहुल का रास्ता साफ

Sanjeevni Today 04-12-2017 23:32:53

नई दिल्ली। राहुल गांधी के नामांकन भरने के साथ ही निर्विरोध कांग्रेस का अध्यक्ष बनने का रास्ता साफ हो गया है। राहुल के मुकाबले इस पद के लिए नामांकन के आखिरी दिन किसी दूसरे ने पर्चा दाखिल नहीं किया है। ऐसे में कांग्रेस के नए सरताज के रूप में राहुल के नाम का ऐलान औपचारिकता रह गई है। अब नामांकन वापसी के आखिरी दिन 11 दिसंबर को राहुल को कांग्रेस का नया निर्वाचित अध्यक्ष घोषित किया जाएगा। पार्टी के सभी दिग्गज नेताओं, मुख्यमंत्रियों, पूर्व सीएम और प्रदेश इकाईयों की ओर से राहुल के पक्ष में नामांकन दाखिल कर कांग्रेस ने राहुल के नेतृत्व को सर्वसम्मति से कबूल करने का संदेश देने का भी प्रयास किया।

कांग्रेस के नए-पुराने दिग्गजों से लेकर कार्यकर्ताओं के जबरदस्त उत्साह के बीच राहुल के पर्चा भरने के साथ ही पार्टी मुख्यालय में नए नेतृत्व के आने की गूंज साफ सुनाई देने लगी। कुर्ता-पायजामा के साथ चाकलेट रंग की जैकेट में माथे पर तिलक के साथ राहुल सुबह साढे़ दस बजे के बाद जैसे ही पार्टी मुख्यालय पहुंचे तो 24 अकबर रोड पर नेताओं-कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। इसके बाद राहुल ने पार्टी कार्यालय में तमाम नामांकन सेटों पर हस्ताक्षर कर कांग्रेस अध्यक्ष पद की उम्मीदवारी के लिए अपनी स्वीकृति दी।

ये भी पढ़े: Video: इस एक्टर के अन्नपूर्णा स्टूडियो में लगी आग, दो तेलुगू फिल्मों के सेट हुए खाक

कांग्रेस मुख्यालय में नामांकन के आखिरी दिन पर्चा भरने पहुंचे राहुल के समर्थन में नामांकन पत्र के 89 सेट दाखिल किए गए। पहले सेट पर निर्वतमान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ मोतीलाल वोरा,अहमद पटेल, शीला दीक्षित और कमलनाथ सरीखे दिग्गजों ने राहुल की उम्मीदवारी का समर्थन किया। सोनिया गांधी इस मौके पर वहां मौजूद नहीं थीं मगर इन नेताओं ने नामांकन का पहला सेट संगठन चुनाव के निर्वाचन अधिकारी मुल्लापल्ली रामचंद्रन को सौंपा। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया, और सुशील कुमार शिंदे सरीखे दिग्गजों ने दूसरे नामांकन सेट पर राहुल की उम्मीदवारी का समर्थन और अनुमोदन किया। पार्टी संविधान के अनुसार अध्यक्ष पद के नामांकन पत्र पर समर्थन और अनुमोदन के लिए प्रदेश कांग्रेस के दस डेलीगेट के हस्ताक्षर अनिवार्य हैं। सुबह 11 बजे राहुल पूर्व पीएम मनमोहन और दूसरे वरिष्ठ नेताओं के साथ नामांकन पत्र का दूसरा सेट निर्वाचन पदाधिकारी के पास जमा कराने खुद पहुंचे। तीसरे सेट को भी राहुल की मौजूदगी में ही गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खडगे, आनंद शर्मा आदि ने दाखिल किया।

कार्यसमिति,वरिष्ठ नेताओं और एआसीसी पदाधिकारियों की ओर से नामांकन के पांच सेट दाखिल किए गए। एके एंटनी, डा कर्ण सिंह और जर्नादन द्विवेदी सरीखे वरिष्ठ नेताओं ने चौथे नामांकन सेट के जरिए राहुल की उम्मीदवारी का समर्थन किया। बीके हरिप्रसाद, राजीव शुक्ला, सलमान खुर्शीद, पीएल पुनिया जैसे नेताओं ने एआइसीसी की ओर से पांचवें नामांकन सेट पर हस्ताक्षर किए। इसके बाद राज्य इकाईयों की ओर से बारी-बारी से राहुल की उम्मीदवारी के समर्थन में पर्चे दाखिल किए गए। पार्टी मुख्यालय पहुंचने से पहले राहुल ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से उनके घर जाकर मुलाकात की तो पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का आशीर्वाद लेने उनके सरकारी आवास भी गए। प्रणव दा ने माथे पर तिलक और फूल लगा राहुल को अपनी शुभकामनाएं दी।

ये भी पढ़े: VIDEO: रोहिणी कोर्ट में हुई फायरिंग में कैदी की मौत, हमलावर ने किया सरेंडर

नामांकन के लिए करीब तीन घंटे पार्टी मुख्यालय में राहुल की मौजूदगी के दौरान बाहर मीडिया से मुखातिब हो रहे पार्टी नेता गांधी परिवार की अगली पीढ़ी के नेतृत्व में अपने भरोसे का खुलकर इजहार करते रहे। कांग्रेस की कमान थामने वाले राहुल नेहरू-गांधी परिवार के छठे सदस्य होंगे। मोतीलाल नेहरू, जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और सोनिया गांधी के बाद राहुल कांग्रेस की सियासत और विरासत को आगे बढ़ाएंगे। वैसे कांग्रेस के इतिहास में सबसे लंबे समय तक अध्यक्ष रहने का रिकार्ड भी सोनिया गांधी के नाम ही है। सोनिया ने मार्च 1998 में सीताराम केसरी से कांग्रेस अध्यक्ष की कमान ली थी और इस तरह उनका कार्यकाल लगभग पौने बीस वर्ष का है। नामांकन पत्रों की जांच का काम मंगलवार को होगा और राहुल के अलावा किसी का नामांकन नहीं होने की वजह से उनकी जीत तय है। मगर चुनाव प्रक्रिया का पालन करने की जरूरत के मद्देनजर इसकी घोषणा 5 दिसंबर की बजाय 11 दिसंबर को की जाएगी क्योंकि उसी दिन नाम वापसी का आखिरी दिन है।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

Watch Video

More From national