बॉडी पर इन 7 जगहों पर है तिल है तो हो सकता है ये... मोर्ने मोर्केल ने वनडे क्रिकेट करियर को लेकर चिंता की व्यक्त ड्रग रैकेट में फंसा 'बाहुबली-2' का एक्टर सुब्बाराजू, SIT ने की पूछताछ पालनहारों के भामाशाह, आधार एवं विद्यालय अध्ययन प्रमाण पत्र एस एस ओ पोर्टल पर होंगे अपडेट नगर निगम चुनाव में बीजेपी को मिली करारी हार , दिग्गजों ने दिया इस्तीफा जानिए, गर्भावस्था के दौरान होने वाले शारीरिक परिवर्तन रशियन ओपन ग्रां प्रि बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचे राहुल यादव सहकार जीवन बीमा योजना के तहत 79 वर्ष तक के किसानों को मिलेगा 10 लाख रुपये तक का बीमा कवर जल्द करे झारखंड पुलिस में ग्रेजुएट्स पदों पर आवेदन ऑस्ट्रेलिया के बेरोजगार क्रिकेटर तलाश रहे है इंडिया में रोजगार मोदी सरकार सीनियर सिटिजन के लिए नई पेंशन स्‍कीम एक साल में लें 60 हजार रुपये बैडमिंटन: भारत के समीर करेंगे यूएस ओपन की अगुआई, प्रणय- कश्यप भी शामिल ED ने मीसा भारती के CA के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट पाक सिंगर अली का निधन, दोस्त के घर मिली लाश अमित शाह ने ली मंत्रिमंडल सदस्यों की बैठक, तीन साल के कार्यकाल का लिया ब्यौरा अरबाज ने किया कंफर्म, दबंग 3 को डायरेक्ट नहीं करेंगे सब्बीर खान नोएडा: IPL खिलाडी परविंदर अवाना पर 5 बदमाशों ने किया हमला तीन दिवसीय दौरे पर जयपुर पहुंचे अमित शाह, हुआ शाही स्वागत, गूजे शाह, मोदी के नारे यूएस रियल स्टेट में निवेश करने के मामले में चीन ने भारत को पछाड़ा टेनिस पर छाए काले बादल, विंबलडन के मैचों की होगी जांच
जीएसआई के वैज्ञानिकों ने ढूंढा खजाना, 3 साल बाद मिली सफलता
sanjeevnitoday.com | Monday, July 17, 2017 | 12:15:09 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि भारतीय प्रायद्वीपों के पानी में लाखों टन के कीमती खनिज और धातु है। पहली बार लगभग 2014 में मंगलुरु, चेन्नई, मन्नार बसीन, अंडमान और निकोबार द्वीप और लक्षद्वीप के आसपास समुद्री संसाधनों को पहचाना गया था।


वैज्ञानिकों के अनुसार, जिस मात्रा में वैज्ञानिकों के हाथ लाइम मड, फोसफेट-रिच और हाइड्रोकार्बन्स जैसी चीजें मिली हैं, उससे अंदाजा लगाया जा रहा है पानी के और भीतर वैज्ञानिकों को और बड़ी सफलता मिल सकती है। तीन साल बाद जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) के वैज्ञानिकों ने 181,025 वर्ग किमी का हाई रेजॉल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है और भारतीय इकोनॉमिक जॉन के भीतर 10 हजार मिलियन टन से भी ज्यादा लाइम मड होने की संभावना है।


वैज्ञानिकों ने सुनिश्चित किया है कि मंगलुरु और चेन्नई कोस्ट में बड़ी मात्रा में फास्फेट है। वहीं तमिलनाडु के मन्नार बेसीन कोस्ट में गैस हाइड्रैट है। साथ ही अंडमान सागर में मैगनिज और लक्षद्वीप के आसपास माइक्रो-मैगनिज नोड्यूल है।


तीन अत्याधुनिक अनुसंधान जहाज समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौसतुभ और समुद्र सौदीकामा को इस मदद में लगाया गया है। जीएसआई के सुपरिंटेंडेंट जिऑलजिस्ट आशीष नाथ ने बताया कि इसका मुख्य मकसद मिनरलाइजेशन के संभावित इलाकों की पहचान करना और मरीन मिनरल सांसधनों का आकलन करना है।

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.