'संयोग और वियोग' दोनों ही प्रकृति के धर्म रक्तदान के बराबर काेई दान नहीं है रघुवर दास के काल में चरमरा गई है स्वास्थ्य सुविधा निशुल्क चिकित्सा शिविर में स्कूली बच्चो का स्वास्थ्य जांचा सांसद राजेश रंजन ने कहा- शिक्षा और स्वास्थ्य का राष्ट्रीयकरण होना जरूरी खंडहर घोषित हो चुकी आवासीय बिल्डिंग से मोह नहीं त्याग कर पा रहे हैं स्वास्थ्य कर्मी अनुसूचितजाति कल्याण परिषद तहसील ठियोग ने मधान क्षेत्र की उपेक्षा पर जताई नाराजगी 12 घंटे के दौरान अस्पताल में मचा दो बार बवाल, स्वास्थ्य कर्मियों में गहराया रोष 3rd ODI: इंदौर में कंगारुओं के सामने विराट सेना की निगाहे सीरीज जीत के चौके पर अपने एक्स BF रणवीर से इस अंदाज में मिली अनुष्का, देखे फोटो हर साल 1000 खिलाडिय़ों को 5-5 लाख रुपए देने की घोषणा: खेल मंत्री प्रो कबड्डी लीग 2017: बंगाल ने बेंगलुरु बुल्स को हराया ऑस्ट्रेलिया हॉकी लीग: भारत की पुरुष और महिला 'ए' टीम हुई रवाना कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला का दाऊद को लेकर बड़ा बयान इस नए प्रोजेक्ट के लिए पत्नी संग जयपुर पहुंचे संजय दत्त, देखे फोटो शहंशापुरः पीएम ने स्वच्छता अभियान में लिया हिस्सा तीसरे वनडे के लिए वार्नर ने AUS के बल्लेबाजों को दिया मूल मंत्र Box office: दो दिन के भीतर ही फिल्म 'जय लव कुश' हुई हिट, कमाए 60 करोड़ पूर्व सेवादार गुरूदास का बडा खुलासा, गुरमीत को ब्लू फिल्म देखने का था शौक टीम में बल्लेबाजी क्रम को लेकर नहीं हूं चिंतित: रहाणे
1952 में हुआ पहला राष्ट्रपति चुनाव, आज है 15वां...
sanjeevnitoday.com | Monday, July 17, 2017 | 10:28:00 AM
1 of 1

नई दिल्ली। 14वें राष्ट्रपति के लिए रामनाथ कोविंद का मुकाबला मीरा कुमार से है. संख्याबल को देखते हुए एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की जीत तय मानी जा रही है। उनकी प्रतिद्वंदी मीरा कुमार का राजनेता के रूप में और अधिक शानदार करियर है, लेकिन कोविंद राष्ट्रपति बनने के लिए तैयार हैं। 

 

बता दे की वोटों की गिनती 20 जुलाई को दिल्ली में होगी, जहां सभी बैलेट बॉक्स लाए जाएंगे। इसी दिन नतीजों का भी ऐलान होगा। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो जाएगा। आज संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक वोट डाले जाएंगे। 

 

आपको बता दे की पहली बार राष्ट्रपति चुनाव 1952 में हुए थे, तब से लेकर अब तक इस पद के लिए ये 15वां चुनाव है। राष्ट्रपति पद के लिए 1952, 1957, 1962, 1967 और 1969 में हुए चुनावों में यह देखने में आया कि निर्वाचित होने की कोई आशा नहीं होने पर भी कुछ लोगों ने नामांकन पत्र भरे। कुछ व्यक्तियों ने तो राष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचन को हल्के ढंग से लेते हुए इसे न्यायालय में भी चुनौती दी। 

WATCH VIDEO

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.