देश और दुनिया के इतिहास में 22 अगस्त की महत्वपूर्ण घटनाएं जानिये किस तरह के लड़कों की तरफ ज्यादा आकर्षित होती हैं लड़कियां मुहासों से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय 22 अगस्त राशिफल : जानिए कैसा रहेगा आपके लिए मंगलवार का दिन प्रत्येक नागरिक को किसी भी धर्म को अपनाने की पूर्ण स्वतंत्रता शीघ्र ही शुरू होगी ‘यूनिवर्सल स्क्रीनिंग’ स्वास्थ्य योजना स्वास्थ्य केन्द्र के भवन निर्माण हेतु स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र भारतीय पहलवान का पहला दिन खराब, पहले ही दौर में हारे एफआईआर की प्रति अब मिलेगी ऑनलाईन, जानिए कैसे बूढादीत में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर को बनाया निशाना, आरोपियों को पकड़ा कैसे रूक पायेंगे रेल हादसे ? कपिल शर्मा ने सिद्धू के साथ मनमुटाव पर अपनी तोड़ी चुप्पी संदेश ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें बड़ी लीग में खेलना चाहिए: कांस्टेनटाइन काश कि रेल बजट तकनीक केन्द्रित होता राजस्थान ने लॉन्च की 'हैलो इंग्लिश प्रिमियम' एप, अंग्रेजी ज्ञान को बनाएगी बेहतर अतिक्रमण हटाने गए नगर परिषद के कर्मचारियों पर चले लात घूसे एटीपी रैंकिंग में एंडी मरे को पछाड़ नडाल टॉप पर "फिल्मों का बदलता ट्रेंड " सरकार ने बढ़ाई भीम कैशबैक योजना की अवधि, मार्च तक मिलेगा कैशबैक तीन तलाक मुद्दे पर कल सुप्रीम कोर्ट लेगा अहम फैसला
यहां हाथियों के डर से घर छोड़ मचान पर रह रहे लोग
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 11:20:39 AM
1 of 1

नई दिल्ली । जंगली हाथियों के खौफ ने एक परिवार को अपना घर छोड़ पेड़ पर मचान बनाकर रहने को मजबूर कर दिया है। मामला राजधानी रांची से सटे बुंडु के गितीलडीह गांव का है, जहां पिछले कई दिनों से जंगली हाथियों का प्रकोप है। इसके बावजूद इसके वन विभाग और स्थानीय प्रशासन ने  परिवार को बचाने के लिए आगे नहीं आ रहा है। बुंडु के हुम्टा पंचायत के गितीलडीह गांव हालांकि जनजीवन सामान्य है, लेकिन नटवर लोहरा का परिवार बेहद बैचेन हैं क्योंकि परिवार के सभी सदस्य अपना घर छोड़कर पास में मौजूद पेड़ पर मचान बनाकर रहने को मजूबर है। क्योंकि जंगली हाथियों के आए दिन होने वाले उत्पात के कारण परिवार के मुखिया समेत सभी सदस्यों को अपनी जान जाने का भय है।

 

बड़ों के साथ-साथ घर के बच्चे भी जंगली हाथियों के झुंड द्वारा आए दिन घर का अनाज खा लेने और घरों को तोड़ देने के वाकये से भयभीत हैं। परिवार के मुखिया नटवर लोहार कहते हैं कि दरअसल दो साल पहले हाथियों ने घर पर हमला किया था। परिवार के मचान पर रहने का मामला सामने आने पर पंचायत के मुखिया फेकला गंझू भी जानकारी लेने मौके पर पहुंचे। उन्होंने भी कहा कि आए दिन जंगली हाथियों के उत्पात से त्रस्त ग्रामीणों के संबंध में जानकारी वह वन विभाग एवं स्थानीय बुंडु प्रखंड के अधिकारियों को देते हैं। अधिकारी इस अनसुना कर मामले में टालमटोल का रवैया अपनाए हुए हैं।


वन विभाग और सरकारी मशीनरी नाकाम


जंगली हाथियों से बुंडु प्रखंड के अधिकांश गांव और वहां के ग्रामीण प्रभावित है. पिछले कई सालों में अब तक कई मौतें भी हुई हैं। इस समस्या का कोई स्थायी समाधान ढूंढ पाने में वन विभाग और सरकारी मशीनरी नाकाम रही है। अब ग्रामीण आदिम युग की तरह जंगली जानवरों से बचने के लिए पेड़ का सहारा ले रहे हैं। हालांकि हाथियों की ताकत के सामने ये सब इंतजाम बेकार हैं।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.