loading...
एलेन बॉर्डर मेडल: लगातार दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर बने डेविड वॉर्नर टीम इंडिया में चयन बहुत बड़ी ख़ुशी बात, फिर भी निराश हैं परवेज रसूल, जानिए क्यों? भाजपा ने किया 'डिजी युवा' अभियान का शुभारंभ कश्मीर में आतंकी ठिकानों का भंडाफोड़ दिल्ली के लिए शुरू हुआ शाहरुख खान का रेल सफर भतीजे की गला रेत कर हत्या राष्ट्रपति ने किया करौली के सोनू का सम्मान मेरी एक बेहद यादगार गजल नक्श लायलपुरी ने लिखी थी: लता मंगेशकर गेंहू उपार्जन में गड़बड़ी करने वालों पर करें कड़ी कार्रवाई : शिवराज मिश्रित मार्शल आर्ट्स लीग से जुड़े टाइगर श्रॉफ सोशल मीडिया पर छा गए अमिताभ बच्चन प्रधानमंत्री ने 25 बच्चों को वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया किंग्स इलेवन पंजाब के रणनीतिकार होंगे सहवाग गोरखपुर: रेलवे स्टेशन उड़ाने की धमकी से मचा हड़कंप भाजपा को उत्तर प्रदेश में मिलेगा दो-तिहाई बहुमत : अमित शाह सलमान के बरी होने पर डेजी ने जताई ख़ुशी देश और समाज के लिए कार्य करें स्वयंसेवक : मोहन भागवत यूपी चुनाव: अखिलेश-राहुल मिलकर करेंगे 14 रैलियां दहेज के लिए विवाहिता की गला दबा कर हत्या टीम इंडिया के खिलाफ आक्रामक अंदाज में खेलना होगा: स्मिथ
यहां हाथियों के डर से घर छोड़ मचान पर रह रहे लोग
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 11:20:39 AM
1 of 1

नई दिल्ली । जंगली हाथियों के खौफ ने एक परिवार को अपना घर छोड़ पेड़ पर मचान बनाकर रहने को मजबूर कर दिया है। मामला राजधानी रांची से सटे बुंडु के गितीलडीह गांव का है, जहां पिछले कई दिनों से जंगली हाथियों का प्रकोप है। इसके बावजूद इसके वन विभाग और स्थानीय प्रशासन ने  परिवार को बचाने के लिए आगे नहीं आ रहा है। बुंडु के हुम्टा पंचायत के गितीलडीह गांव हालांकि जनजीवन सामान्य है, लेकिन नटवर लोहरा का परिवार बेहद बैचेन हैं क्योंकि परिवार के सभी सदस्य अपना घर छोड़कर पास में मौजूद पेड़ पर मचान बनाकर रहने को मजूबर है। क्योंकि जंगली हाथियों के आए दिन होने वाले उत्पात के कारण परिवार के मुखिया समेत सभी सदस्यों को अपनी जान जाने का भय है।

 

बड़ों के साथ-साथ घर के बच्चे भी जंगली हाथियों के झुंड द्वारा आए दिन घर का अनाज खा लेने और घरों को तोड़ देने के वाकये से भयभीत हैं। परिवार के मुखिया नटवर लोहार कहते हैं कि दरअसल दो साल पहले हाथियों ने घर पर हमला किया था। परिवार के मचान पर रहने का मामला सामने आने पर पंचायत के मुखिया फेकला गंझू भी जानकारी लेने मौके पर पहुंचे। उन्होंने भी कहा कि आए दिन जंगली हाथियों के उत्पात से त्रस्त ग्रामीणों के संबंध में जानकारी वह वन विभाग एवं स्थानीय बुंडु प्रखंड के अधिकारियों को देते हैं। अधिकारी इस अनसुना कर मामले में टालमटोल का रवैया अपनाए हुए हैं।


वन विभाग और सरकारी मशीनरी नाकाम


जंगली हाथियों से बुंडु प्रखंड के अधिकांश गांव और वहां के ग्रामीण प्रभावित है. पिछले कई सालों में अब तक कई मौतें भी हुई हैं। इस समस्या का कोई स्थायी समाधान ढूंढ पाने में वन विभाग और सरकारी मशीनरी नाकाम रही है। अब ग्रामीण आदिम युग की तरह जंगली जानवरों से बचने के लिए पेड़ का सहारा ले रहे हैं। हालांकि हाथियों की ताकत के सामने ये सब इंतजाम बेकार हैं।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.