धनतेरस पर खरीदारी से पहले यहां जानें सबसे शुभ मुहूर्त ‘द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज’ से बाहर हुई मल्ल‍िका दुआ PM ऑफिस में लगी आग, दमकल की 10 गाडियों ने पाया आग पर काबू आरुषि को खोने का दर्द और उसके खोने का दुख कभी नहीं जा सकता: दिनेश तलवार इंडिया के 85 फीसदी लोगों को अपनी सरकार पर भरोसा: सर्वे हेमा मालिनी के जन्मदिन पर दीपिका पादुकोण ने लॉन्च की 'बियॉन्ड द ड्रीम गर्ल' राशिफल : 17 अक्टूबर : कैसा रहेगा आपके लिए मंगलवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें बच्चे की परवरिश करते वक्त रखें इन बातों का ख्याल देश और दुनिया के इतिहास में 17 अक्टूबर की महत्वपूर्ण घटनाएं गुलाबजल से निखारे अपना सौंदर्य सिर दर्द से छुटकारा दिलाएंगे ये घरेलू नुस्खे ममता बनर्जी ने बुद्धदेव भट्टाचार्य से मुलाकात की बेंगलूरू: दो मंजिली इमारत ध्वस्त होने से सात की मौत सम्पत्ति विवाद में पिता की गोली मारकर हत्या राजस्थान: विभिन्न अपराधों में लिप्त छह सौ चौदह लोग गिरफ्तार कश्मीर में पूर्व सरपंच की हत्या, मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर Asia Cup: भारतीय महिला हॉकी टीम घोषित, रानी बनी कप्तान जीटीबी स्कूल में यौन शोषण के प्रति छात्राओं को किया जागरूक शिक्षा नहीं, भीख मांगने का दिया जाता है प्रशिक्षण दीवाली बोनस को लेकर चर्चा में रहने वाले ढोलकिया एक फिर चर्चा में, वजह जानकर रह जायेंगे हैरान-
अर्थशास्त्र नोबेल की दौड मे नहीं बना पाए राजन अपनी जगह
sanjeevnitoday.com | Monday, October 9, 2017 | 05:37:30 PM
1 of 1

नई दिल्ली।  साल 2017 में अर्थशास्त्र के क्षेत्र में दिए जाने वाले नोबेल पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है। न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर के अनुसार अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए रिटर्ड एच थेलर को चुना गया है। गौरतलब है कि अर्थशास्त्र में नोबेल जीतने वाले रिचर्ड थेलर शिकागो यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं। उन्हें ‘अर्थशास्त्र में व्यवहारिक योगदान’ के लिए भी जाना जाता है। 1945 में अमेरिका के ईस्ट ऑरेंज में पैदा हुए अर्थशास्त्री रिचर्ड थेलर को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार देने की घोषणा कर दी गई हैं।

यह भी पढ़े: शाहरुख की ये फ्लॉफ़ फिल्म अब होगी मिस्र में रिलीज

उन्हें यह पुरस्कार अर्थशास्त्र और मनोविज्ञान के अंतर को पाटने पर किए गए उनके काम के लिए दिया गया है। नोबेल पुरस्कार के निर्णायक मंडल ने एक बयान में कहा कि थेलर का अध्ययन बताता है कि किस प्रकार सीमित तर्कसंगता, सामाजिक वरीयता और स्व-नियंत्रण की कमी जैसे मानवीय लक्षण किसी व्यक्ति के निर्णय को प्रक्रियागत तौर पर प्रभावित करते हैं और इससे बाजार के लक्षण पर भी प्रभाव पड़ता है। इससे पहले आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन भी नोबेल पुरस्कार पाने वाले संभावित लोगों की लिस्ट में शामिल थे। लिस्ट में उनका नाम भी शामिल किया गया था। गौरतलब है कि क्लैरिवेट ऐनालिटिक्स अकैडमिक और साइंटिफिक रिसर्च अपने रिसर्च के आधार पर नोबेल पुरस्कार के संभावित विजेताओं की लिस्ट भी तैयार करती है। 

यह भी पढ़े: टाइगर और दिशा की लंच डेट में शामिल हुई बहन कृष्‍णा, देखे फोटो

राजन भी उन छह अर्थशास्त्रियों में से एक थे जिन्हें क्लैरिवेट ऐनालिटिक्स ने इस साल अपनी लिस्ट में शामिल किया था। कॉर्पोरेट फाइनेंस के क्षेत्र में किए गए काम के लिए राजन का नाम लिस्ट में आया था। राजन अतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की दुनिया में बड़े नाम हैं। सबसे कम उम्र (40) में पहले गैर पश्चिमी IMF चीफ बनने वाले राजन ने साल 2005 में एक पेपर प्रेजेंटेशन के बाद बड़ी प्रसिद्धि हासिल की थी।

 NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.