बॉडी पर इन 7 जगहों पर है तिल है तो हो सकता है ये... मोर्ने मोर्केल ने वनडे क्रिकेट करियर को लेकर चिंता की व्यक्त ड्रग रैकेट में फंसा 'बाहुबली-2' का एक्टर सुब्बाराजू, SIT ने की पूछताछ पालनहारों के भामाशाह, आधार एवं विद्यालय अध्ययन प्रमाण पत्र एस एस ओ पोर्टल पर होंगे अपडेट नगर निगम चुनाव में बीजेपी को मिली करारी हार , दिग्गजों ने दिया इस्तीफा जानिए, गर्भावस्था के दौरान होने वाले शारीरिक परिवर्तन रशियन ओपन ग्रां प्रि बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचे राहुल यादव सहकार जीवन बीमा योजना के तहत 79 वर्ष तक के किसानों को मिलेगा 10 लाख रुपये तक का बीमा कवर जल्द करे झारखंड पुलिस में ग्रेजुएट्स पदों पर आवेदन ऑस्ट्रेलिया के बेरोजगार क्रिकेटर तलाश रहे है इंडिया में रोजगार मोदी सरकार सीनियर सिटिजन के लिए नई पेंशन स्‍कीम एक साल में लें 60 हजार रुपये बैडमिंटन: भारत के समीर करेंगे यूएस ओपन की अगुआई, प्रणय- कश्यप भी शामिल ED ने मीसा भारती के CA के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट पाक सिंगर अली का निधन, दोस्त के घर मिली लाश अमित शाह ने ली मंत्रिमंडल सदस्यों की बैठक, तीन साल के कार्यकाल का लिया ब्यौरा अरबाज ने किया कंफर्म, दबंग 3 को डायरेक्ट नहीं करेंगे सब्बीर खान नोएडा: IPL खिलाडी परविंदर अवाना पर 5 बदमाशों ने किया हमला तीन दिवसीय दौरे पर जयपुर पहुंचे अमित शाह, हुआ शाही स्वागत, गूजे शाह, मोदी के नारे यूएस रियल स्टेट में निवेश करने के मामले में चीन ने भारत को पछाड़ा टेनिस पर छाए काले बादल, विंबलडन के मैचों की होगी जांच
डोकलाम सीमा विवाद पर बौखलाया चीन, कहा-भारत पीछे नहीं हटने पर उठानी पड़ेगी शर्मिंदगी
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 11:20:51 AM
1 of 1

नई दिल्ली। सिक्किम के डोकलाम क्षेत्र में भारत की कठोर रुख से चीन की बौखलाहट बढ़ती जा रही है। चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने शनिवार को एक कमेंट्री में लद्दाख को पाकिस्तान का हिस्सा बताया। इसमें धमकी भी दी गई कि अगर भारत ने डोकलाम से सेना नहीं हटाई तो उसे शर्मिंदगी का सामना करना पड़ सकता है। रिपोर्ट में स्पष्ट किया गया कि सिक्किम गतिरोध पर वार्ता की कोई गुंजाइश नहीं है। गतिरोध का एकमात्र हल है कि भारत डोकलाम क्षेत्र से अपनी सेना वापस बुलाए।

चीन की स्टेट काउंसिल के तहत काम करने वाली और आधिकारिक प्रेस एजेंसी शिन्हुआ के एक लेख में कहा गया है कि चीन के लिए सीमा रेखा ही बॉटम लाइन थी। भारत को मौजूदा स्थिति को पिछले दो मौकों की तरह नहीं देखना चाहिए जहां 2013 और 2014 में लद्दाख के पास दोनों देशों की सेनाएं आमने सामने खड़ी हो गई थीं। दक्षिणी पूर्वी कश्मीर के इस हिस्से में भारत, पाकिस्तान और चीन की सीमाएं तकरीबन मिलती हैं। राजनयिक प्रयासों से दोनों सेनाओं के बीच संघर्ष को सुलझा लिया गया था।  लेकिन इस बार पूरा मामला अलग है।

लेख में विदेश सचिव एस जयशंकर के हालिया बयान का भी जिक्र है, जिसे सकारात्मक दिखाया गया है।  यह कहता है, 'जैसा कि एक पुरानी चीनी कहावत है, शांति सबसे कीमती चीज है। यह नोट करने वाली बात है कि भारत के विदेश सचिव सुब्रह्मण्यम जयशंकर ने हाल ही में सिंगापुर में इस मसले पर सकारात्मक टिप्पणी की, जयशंकर ने कहा कि भारत और चीन को अपने मतभेदों को विवाद नहीं बनाना चाहिए। चीन, भारत से इसी तरह के और सकारात्मक कदमों की अपेक्षा करता है। उसने लद्दाख क्षेत्र को भी विवादित बताने के साथ पाकिस्तान से जोड़ने का प्रयास करते हुए सीमा विवाद को नई दिशा देने की कोशिश की है। इसमें लद्दाख के साथ कश्मीर को भी जोड़ा गया।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.