loading...
31 मार्च से पहले तमिलनाडु के शख्स ने घोषित की 246 करोड़ की ब्लैकमनी, PMGKY योजना के तहत भरना होगा 45% टैक्स बहाई क्या करते हैं - भक्तिमय जीवन LIVE धर्मशाला टेस्ट: भारत ने 6 विकेट के नुकसान पर बनाए 243 रन आटा फैक्ट्री में लगी आग, आग से फैक्ट्री पूरी खाक, दमकलों ने 7 घंटे में आग पर पाया काबू एंटी रोमियो स्क्वॉड: निर्दोष युवक-युवतियों को परेशान करने वाले पुलिसकर्मियों पर सख्त हुये CM योगी LIVE धर्मशाला टेस्ट: भारत को अश्विन के रूप में लगा छठा झटका, स्कोर 224/06 कांग्रेस के दो पूर्व सांसदों की संपत्ति हो सकती है ज़ब्त LIVE धर्मशाला टेस्ट: भारत को रहाणे के रूप में लगा पांचवा झटका, स्कोर 219/05 नबालिग से 2 साल तक 8 शिक्षको ने किया रेप, कई बार खिलाई गर्भनिरोधक गोलियां, फिर हो गया कैंसर अमेरिका के नाइट क्लब में फायरिंग, 1 की मौत 13 घायल Time पत्रिका के 100 सर्वाधिक प्रभावशाली लोगों में शामिल हुए PM मोदी शॉपिंग मोल या रेस्टोरेंट के बाहर कुछ इस तरह स्पॉट हुईं मलाइका, देखें तस्वीरें राजस्थान खनिज के क्षेत्र में बनेगा मॉडल स्टेट: सुरेन्द्र पाल MCD चुनाव: मुस्लिम आबादी क्षेत्रों में AIMIM 50 सीटों पर खड़े करेगी अपने उम्मीदवार Video: भारतीय फिल्म का यूट्यूब पर सबसे ज्यादा देखा जाने वाला ट्रेलर बना 'बाहुबली 2' का ये ट्रेलर हैमिल्टन टेस्ट: दक्षिण अफ्रीका 314 पर हुई ऑल आउट, न्यूजीलैंड ने बनाए 67/0 दुबई के रियल्टी बाजार में सबसे आगे है भारतीय इन्वैस्टर्स इस फैशन ब्रांड के लिए प्रियंका ने करवाया फ़ोटोशूट, देखें तस्वीरें चीन से सुरक्षा संतुलन बनाने के लिए अमेरिका भारत को दे सकता है F-16 लड़ाकू विमान मानव तस्करी मामले में राजस्थान का दूसरा नंबर
स्मृति ईरानी के खिलाफ याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:01:04 PM
1 of 1

नई दिल्ली। पटियाला हाउस की एक अदालत ने डिग्री मामले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ वह याचिका खारिज कर दी है जिसमें आरोप लगाया गया था कि ईरानी ने चुनाव आयोग को अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में झूठी जानकारी दी थी। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह ने देरी के आधार पर उस याचिका को खारिज कर दिया। स्मृति के खिलाफ शिकायत में आरोप लगाया गया था कि उन्होंने विभिन्न चुनाव लड़ने के लिए चुनाव आयोग में दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत सूचनाएं दीं।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

शिकायतकर्ता आहमेर खान ने आरोप लगाया था कि स्मृति ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव आयोग के समक्ष दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में जान-बूझकर गलत जानकारी दी और इस मुद्दे पर चिंता जताए जाने के बाद भी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया। खान की मांग थी कि जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 125 और आईपीसी के प्रावधानों के तहत यदि कोई उम्मीदवार जानबूझकर गलत जानकारी देता है तो उसे सजा दी जानी चाहिए।

अदालत ने शिकायतकर्ता की ओर से दी गई दलीलें सुनने और चुनाव आयोग एवं दिल्ली विश्वविद्यालय की ओर स्मृति की शैक्षणिक डिग्रियों के बारे में सौंपी गई रिपोर्टों के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले चुनाव आयोग की ओर से पेश हुए एक अधिकारी ने अदालत को बताया था कि स्मृति की ओर से उनकी शैक्षणिक योग्यता के बारे में दाखिल किए गए दस्तावेज मिल नहीं पा रहे हैं। बहरहाल, चुनाव आयोग ने कहा कि यह जानकारी उनकी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

अदालत के पहले के निर्देश के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय ने भी कहा था कि स्मृति के 1996 के बीए पाठ्यक्रम से जुड़े दस्तावेज नहीं मिल पा रहे हैं। साल 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान स्मृति ने अपने हलफनामे में 1996 में बीए पाठ्यक्रम करने का जिक्र किया था। अदालत ने पिछले साल 20 नवंबर को शिकायतकर्ता की वह अर्जी विचारार्थ मंजूर कर ली थी जिसमें चुनाव आयोग और दिल्ली यूनिवर्सिटी के अधिकारियों को यह निर्देश देने की मांग की गई थी कि वे स्मृति की शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेजों को पेश करें।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.