loading...
कैलाश सत्यार्थी ने कहा- भारत में हर घंटे 11 बच्चे लापता हो जाते हैं और... सेरेना विलियम्स के होने वाले बच्चे पर अपशब्द कहना इस खिलाडी को पड़ा भारी, लगा बैन बॉक्स ऑफिस पर नहीं चला 'नूर' का जादू, पहले दिन ही रहा बुरा हाल Microsoft India ने 21 अप्रैल से सभी तरह के पितृत्व अवकाश बढ़ाए योगी सरकार ने की शिवपाल-आजम की सुरक्षा में कटौती मैंने हमेशा अपने मन मुताबिक काम किया है: गौहर खान नगर निगम के दो वार्डों में प्रत्याशियों के निधन के कारण मतदान किया स्थगित Sanjeevni Today: Top Stories of 1pm भारत को भेजे जाने वाले पैसे में आई कमी: विश्व बैंक रिपोर्ट नाती ने की मां की बुरी तरह से पिटाई, अस्पताल में भर्ती Video: 'बाहुबली 2' के इस गाने ने इंटरनेट पर मचाई धूम मेघालय में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, लोगों ने घर छोड़ स्कूल में ली शरण MCD इलेक्शन: सुस्त वोटिंग के कारण 12 बजे तक 10% से भी काम वोटिंग UP: अयोध्या परिसर में साधु के ‘त्रिशूल’ लेकर जाने पर उठे सवाल FPI ने इस महीने किये 18890 करोड़ निवेश PM नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की अहम बैठक सवाल करने वालों को सोनू ने अज़ान का वीडियो ट्वीट कर दिया मुहतोड़ जवाब नवजात शिशु उपचार सेवाओं के लिए बनेगी जिलास्तरीय विशिष्ट कार्ययोजना चूरू जिला परिषद साधारण सभा की बैठक सम्पन्न फ्लाइट लैंडिंग के वक्त बजने लगा राष्ट्रगान, फिर यात्रियों ने किया ये...
स्मृति ईरानी के खिलाफ याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:01:04 PM
1 of 1

नई दिल्ली। पटियाला हाउस की एक अदालत ने डिग्री मामले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ वह याचिका खारिज कर दी है जिसमें आरोप लगाया गया था कि ईरानी ने चुनाव आयोग को अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में झूठी जानकारी दी थी। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह ने देरी के आधार पर उस याचिका को खारिज कर दिया। स्मृति के खिलाफ शिकायत में आरोप लगाया गया था कि उन्होंने विभिन्न चुनाव लड़ने के लिए चुनाव आयोग में दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत सूचनाएं दीं।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

शिकायतकर्ता आहमेर खान ने आरोप लगाया था कि स्मृति ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव आयोग के समक्ष दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में जान-बूझकर गलत जानकारी दी और इस मुद्दे पर चिंता जताए जाने के बाद भी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया। खान की मांग थी कि जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 125 और आईपीसी के प्रावधानों के तहत यदि कोई उम्मीदवार जानबूझकर गलत जानकारी देता है तो उसे सजा दी जानी चाहिए।

अदालत ने शिकायतकर्ता की ओर से दी गई दलीलें सुनने और चुनाव आयोग एवं दिल्ली विश्वविद्यालय की ओर स्मृति की शैक्षणिक डिग्रियों के बारे में सौंपी गई रिपोर्टों के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले चुनाव आयोग की ओर से पेश हुए एक अधिकारी ने अदालत को बताया था कि स्मृति की ओर से उनकी शैक्षणिक योग्यता के बारे में दाखिल किए गए दस्तावेज मिल नहीं पा रहे हैं। बहरहाल, चुनाव आयोग ने कहा कि यह जानकारी उनकी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

अदालत के पहले के निर्देश के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय ने भी कहा था कि स्मृति के 1996 के बीए पाठ्यक्रम से जुड़े दस्तावेज नहीं मिल पा रहे हैं। साल 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान स्मृति ने अपने हलफनामे में 1996 में बीए पाठ्यक्रम करने का जिक्र किया था। अदालत ने पिछले साल 20 नवंबर को शिकायतकर्ता की वह अर्जी विचारार्थ मंजूर कर ली थी जिसमें चुनाव आयोग और दिल्ली यूनिवर्सिटी के अधिकारियों को यह निर्देश देने की मांग की गई थी कि वे स्मृति की शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेजों को पेश करें।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.