loading...
89वें ऑस्कर अवॉर्ड्स में फिर से छायेंगी देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा! साल से सर्वश्रेष्ठ कप्तान चुने गए कोहली ठाकरे परिवार के दरबार में रामगोपाल वर्मा इतिहास: केरल के प्रसिद्ध समाज सुधारकों में से एक थे मन्नत्तु पद्मनाभन! काबुल ने सीमा के आंशिक तौर पर खुलने की उम्मीद: उमर जखीलवाल B'day Special: उर्वशी रौतेला के जन्मदिन पर देखें हॉट Pics 7वां वेतन आयोग: राजस्थान के सरकारी कर्मचारियों को लाभ देने के लिए समिति का गठन इस बार बरसाना की लठामार होली में जगमगाएगी लाठियों की मार! चीन के झेजियांग तट पर नाव डूबने से 13 लोग हुए लापता, बचाव के लिए बुलाई गई आर्मी ओला-उबर को टक्कर देगी ये Cab MTV के रियलिटी शो "रोडीज़ राइजिंग" में जज की भूमिका निभाएंगे हरभजन सिंह: VIDEO छोटे पर्दे पर कमबैक करंगे ये अभिनेता , होस्ट करेंगे इस शो को उत्तरकाशी में पॉलीथिन पर एक मार्च से लगेगा प्रतिबंध! Live INDvsAUS: स्टीव ओकीफे के सामने विराट सेना हुई ढेर, ऑस्ट्रेलिया ने जीता 333 रनों से मैच 8 मार्च को आएगा अजमेर दरगाह ब्लास्ट का फैसला Video: विशाल भारद्वाज की फिल्म 'रंगून' की हल्की शुरुआत! असली ब्रांडेड कंपनियों के नाम से चलता है नकली सामानों का गोरखधंधा! मणिपुर की चुनावी सभा में कांग्रेस के शासन को पीएम ने बताया भ्रष्ट चीन के एक बड़े होटल में लगी आग, तीन लोगों की हुई मौत भारतीय टीम के पास है टेस्ट क्रिकेट में इतिहास रचने का मौका
स्मृति ईरानी के खिलाफ याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:01:04 PM
1 of 1

नई दिल्ली। पटियाला हाउस की एक अदालत ने डिग्री मामले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ वह याचिका खारिज कर दी है जिसमें आरोप लगाया गया था कि ईरानी ने चुनाव आयोग को अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में झूठी जानकारी दी थी। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह ने देरी के आधार पर उस याचिका को खारिज कर दिया। स्मृति के खिलाफ शिकायत में आरोप लगाया गया था कि उन्होंने विभिन्न चुनाव लड़ने के लिए चुनाव आयोग में दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत सूचनाएं दीं।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

शिकायतकर्ता आहमेर खान ने आरोप लगाया था कि स्मृति ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव आयोग के समक्ष दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में जान-बूझकर गलत जानकारी दी और इस मुद्दे पर चिंता जताए जाने के बाद भी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया। खान की मांग थी कि जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 125 और आईपीसी के प्रावधानों के तहत यदि कोई उम्मीदवार जानबूझकर गलत जानकारी देता है तो उसे सजा दी जानी चाहिए।

अदालत ने शिकायतकर्ता की ओर से दी गई दलीलें सुनने और चुनाव आयोग एवं दिल्ली विश्वविद्यालय की ओर स्मृति की शैक्षणिक डिग्रियों के बारे में सौंपी गई रिपोर्टों के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले चुनाव आयोग की ओर से पेश हुए एक अधिकारी ने अदालत को बताया था कि स्मृति की ओर से उनकी शैक्षणिक योग्यता के बारे में दाखिल किए गए दस्तावेज मिल नहीं पा रहे हैं। बहरहाल, चुनाव आयोग ने कहा कि यह जानकारी उनकी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

अदालत के पहले के निर्देश के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय ने भी कहा था कि स्मृति के 1996 के बीए पाठ्यक्रम से जुड़े दस्तावेज नहीं मिल पा रहे हैं। साल 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान स्मृति ने अपने हलफनामे में 1996 में बीए पाठ्यक्रम करने का जिक्र किया था। अदालत ने पिछले साल 20 नवंबर को शिकायतकर्ता की वह अर्जी विचारार्थ मंजूर कर ली थी जिसमें चुनाव आयोग और दिल्ली यूनिवर्सिटी के अधिकारियों को यह निर्देश देने की मांग की गई थी कि वे स्मृति की शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेजों को पेश करें।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.