ISL 2017: गोवा एफसी ने 3-2 से चेन्नईयन एफसी को चटाई धूल व्हाट्सएप पर पोस्ट डालना अधिकारी को पड़ा महंगा, गवानी पड़ी कुर्सी गांव में हो रही है राजपाल यादव की बेटी की शादी, बैंक मैनेजर है दामाद करुणामय संसार बनाने के लिए भारत-चीन को मिलकर करना होगा काम: दलाई लामा एशियन कबड्डी चैंपियनशिप: पुरुष व महिला की टीमें घोषित, हिमालय के 4 खिलाडी शामिल विश्व शौचालय दिवस : स्वच्छ भारत मिशन ने मनाया शौचालय दिवस VVS लक्ष्मण की ड्रीम टेस्‍ट टीम घोषित, जानिए टीम के 11 सदस्य बरेली पुलिस ने अपराध होने से पहले आरोपियों को किया गिरफ्तार प्रति व्यक्ति औसत GDP के लिहाज से भारत ने लगाई छलांग, पहुंचा 126 वें स्थान पर अंडर-19 एशिया कप में पाक को हराकर अफगानिस्‍तान बना चैम्पियन जिम्बाब्वे: रॉबर्ट मुगाबे की पार्टी प्रमुख पद से की छुट्टी, एमर्सन नांगाग्वा संभालेंगे कमान सरहदी नागरिकों ने राजस्थान की तर्ज पर एंट्री टैक्स को माफ करने की मांग उठाई ऐसा होगा राजस्थान पुलिस परीक्षा का पैटर्न, पढ़िए पूरी खबर आमिर व सैफ अली खान के अलावा करीना कपूर भी है लव जिहाद का शिकार मार्च 2018 तक कोई नई नियुक्ति नहीं: एसोचैम कांग्रेस और पाटीदार नेताओं के बीच आरक्षण पर बनी सहमति, आज उम्मीदवारों की पहली लिस्ट बक्सर में DM के OSD ने फंदे से लटक कर की आत्महत्या रात को मोजे पहनकर सोने से होते है ये चमत्कारी फायदे जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे को ZANU-PF पार्टी ने किया बर्खास्त अल्बर्ट आइंस्टीन के खत की होगी नीलामी, मिल सकते है 10,000 डॉलर
स्मृति ईरानी के खिलाफ याचिका खारिज
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:01:04 PM
1 of 1

नई दिल्ली। पटियाला हाउस की एक अदालत ने डिग्री मामले में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ वह याचिका खारिज कर दी है जिसमें आरोप लगाया गया था कि ईरानी ने चुनाव आयोग को अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में झूठी जानकारी दी थी। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह ने देरी के आधार पर उस याचिका को खारिज कर दिया। स्मृति के खिलाफ शिकायत में आरोप लगाया गया था कि उन्होंने विभिन्न चुनाव लड़ने के लिए चुनाव आयोग में दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत सूचनाएं दीं।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

शिकायतकर्ता आहमेर खान ने आरोप लगाया था कि स्मृति ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव आयोग के समक्ष दाखिल हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में जान-बूझकर गलत जानकारी दी और इस मुद्दे पर चिंता जताए जाने के बाद भी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया। खान की मांग थी कि जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 125 और आईपीसी के प्रावधानों के तहत यदि कोई उम्मीदवार जानबूझकर गलत जानकारी देता है तो उसे सजा दी जानी चाहिए।

अदालत ने शिकायतकर्ता की ओर से दी गई दलीलें सुनने और चुनाव आयोग एवं दिल्ली विश्वविद्यालय की ओर स्मृति की शैक्षणिक डिग्रियों के बारे में सौंपी गई रिपोर्टों के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया था। इससे पहले चुनाव आयोग की ओर से पेश हुए एक अधिकारी ने अदालत को बताया था कि स्मृति की ओर से उनकी शैक्षणिक योग्यता के बारे में दाखिल किए गए दस्तावेज मिल नहीं पा रहे हैं। बहरहाल, चुनाव आयोग ने कहा कि यह जानकारी उनकी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

अदालत के पहले के निर्देश के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय ने भी कहा था कि स्मृति के 1996 के बीए पाठ्यक्रम से जुड़े दस्तावेज नहीं मिल पा रहे हैं। साल 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान स्मृति ने अपने हलफनामे में 1996 में बीए पाठ्यक्रम करने का जिक्र किया था। अदालत ने पिछले साल 20 नवंबर को शिकायतकर्ता की वह अर्जी विचारार्थ मंजूर कर ली थी जिसमें चुनाव आयोग और दिल्ली यूनिवर्सिटी के अधिकारियों को यह निर्देश देने की मांग की गई थी कि वे स्मृति की शैक्षणिक योग्यता के दस्तावेजों को पेश करें।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.