loading...
बच्चों के लिए बेहद खतरनाक होती हैं दिन की नींद..! Shocking: मिर्गी से बढ़ता हैं मौत का खतरा..! गजब: महिलाओं के मुकाबले पुरुष होते हैं सीखने में आगे..! भारत से होगी अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी संस्थान की शुरुआत दिल्ली: सभी 272 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी जद यु दिल्ली: सभी 272 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी जद यु काला दिवस रहा जाटों के शक्ति प्रदर्शन का दूसरा नमूना व्हाट्सएप्प के प्रयोग ने लौटा दी महिला की जान..! जानिए! नैमिषारण्य में 84 कोसी परिक्रमा का ऐतिहासिक महत्व बिना नंबर बताये रिचार्ज कराने की सुविधा देगा VODAFONE..! शादी का झांसा देकर युवती से यौन शोषण, मुकदमा दर्ज अखिलेश का वादा, चुनाव के बाद रोज पत्रकारों से मिलेंगे कलिंगा लांसर्स ने जीता एचआईएल के पांचवें संस्करण का खिताब रामजस कॉलेज में हुई हिंसा की जांच के लिए पैनल गठित PICS: सनी लियोनी अपने फिगर को लेकर हुई सतर्क.. करना चाहती है ये काम अशोक गहलोत ने कोटा विवाद को लेकर की भाजपा की निंदा, घटना के लिए बताया जिम्मेदार मारुति सुजुकी इंडिया ने रिट्ज की घरेलू व अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बिक्री रोकी स्कूल टेम्पो चालक ने नाबालिग छात्रा को बनाया दुष्कर्म का शिकार, मामला दर्ज मोटरस्पोर्ट्स : पहले दिन असगर अली और मुस्तफा को बढ़त सपा का काम नहीं, अखिलेश का झूठ बोलता है: स्मृति ईरानी
दिल्ली-एनसीआर में ठंड-कोहरे के साथ बढ़ा वायु प्रदूषण
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 10:27:42 AM
1 of 1

नई दिल्ली। बुधवार को दिल्ली-एनसीआर में ट्रिपल अटैक हुआ है। एक ओर जहां पर ठंड और जबरदस्त कोहरे ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है, वहीं दिल्ली में वायु प्रदूषण की स्थित फिर गंभीर हो गई है, जिससे यहां के लोगों का सांस लेना मुहाल हो गया है। पिछले 17 वर्षों की सबसे खतरनाक धुंध को देखते हुए दिल्ली में पिछले दिनों राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की करीब 1800 प्राथमिक स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया गया था।

स्काईमेट के मुताबिक दिल्ली के पालम इलाके में सबसे घना कोहरा रहा। यहां सुबह 6 से 7 बजे के बीच विजिबिलिटी घटकर 400 मीटर तक रह गई। आरके पुरम, साकेत, एम्स, धौलाकुआं, ईस्ट ऑफ कैलाश, नोएडा और फरीदाबाद में भी विजिबिलिटी बेहद कम थी।दिल्ली ट्रैफिक पुलिस का कहना है कि राजधानी में हवा की गुणवत्ता का स्तर 'गंभीर' बना रहेगा। कुछ इलाकों में प्रदूषण का स्तर PM 2.5 और PM 10 सामान्य से ज्यादा है।

दिल्ली में प्रदूषण के स्तर पर नजर रखने वाली एजेंसी से प्राप्त आंकड़ों से पता चलता है कि दिल्ली के आनंद विहार में करीब सुबह 8:30 बजे पार्टिकुलेट मैटर या प्रधानमंत्री 10 की सांद्रता 401 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रही, जबकि इसका सुरक्षित स्तर 100 माइक्रोग्राम है। वायु गुणवत्ता मापने के मानक पीएम 2.5 का स्तर सुरक्षित स्तर से कई गुना तक बढ़ा हुआ है। वहीं, आरकेपुरम और शादीपुर में भी स्थिति बेहद खराब है।

राजधानी के न्यूनतम तापमान में बुधवार से भी गिरावट देखने को मिली। पश्चिमी विक्षोभ और बंगाल की खाड़ी में कम दबाव वाला क्षेत्र बनने की वजह से हवा बहने के पैटर्न में बदलाव हुआ है। इसकी वजह से ह्यूमिडिटी भी बढ़ी है। इस वजह से से ही पूरे उत्तर भारत में कोहरे के हालात बने हैं। हवा में मौजूद इन प्रदूषक कणों की अत्याधिक मात्रा से ज्यादा देर संपर्क में रहने के कारण आपको सांस की गंभीर बीमारियां होने का डर रहता है।

राजधानी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता हाल के वर्षों में लगातार खराब होती रही है। इसकी एक बड़ी वजह तेजी से बढ़ते शहरीकरण को माना जा रहा है, जिससे डीजल इंडन्स, कोयला चलित विद्युत इकाई और औद्योगिक उत्सर्जन में इजाफा हुआ है। इसकी एक वजह खेतों में फसलों की पराली जलाने और लकड़ी या कोयले के चूल्हों से निकलने वाले धुएं को भी माना जाता है। मौसम विभाग की ओर से मंगलवार को जारी वॉर्निंग में बताया गया था कि दिल्ली, चंडीगढ़, हरियाणा, पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में बेहद कम से औसत कोहरा रहेगा।

यह भी पढ़े: सालभर तक गहरे पानी में डूबे रहने के बावजूद भी काम कर रहा है ये IPHONE

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप
यह भी पढ़े: दुबई के पास मिला अनोखा फल, जिस पर लिखा हुआ था कुछ ये...
यह भी पढ़े: इस नेल पॉलिश की कीमत हजारों, लाखों में नहीं बल्कि करोड़ों में... जानिए इसकी खास बातें



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.