जन्मदिन पर बेटे के साथ ताल से ताल मिलती नजर आई संजय दत्त की पत्नी मान्यता धोखाधड़ी कर 73 लाख रुपये हड़पे महिला विश्वकप 2017 : क्या मिताली राज की शेरनियां ला पायेगी विश्व कप? फिल्मों की दुनिया में आने के लिए करीना की 'जब वी मेट' ने किया आकर्षित: अनुष्‍का 30 किलो गांजे के साथ दो तस्करो को किया गिरफ्तार राशिफल : 23 जुलाई : कैसा रहेगा आपके लिए रविवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास के 23 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं युवक ने की महिला से छेड़छाड़, मामला दर्ज छेड़छाड़ की रिपोर्ट न लिखने पर इंस्पेक्टर के विरुद्ध मुकदमा दर्ज सफेद हाथी साबित हो रहा है औद्योगिक सुरक्षा एवं स्वास्थ्य निदेशालय स्वास्थ्य विभाग की देखरेख में हो बच्चों का टीकाकरण रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा- झारखंड राज्य को स्वास्थ्य के क्षेत्र में नंबर वन बनाएंगे समाज में संकुचित सोच ही नारी की सबसे बड़ी दुश्मन: गीता सहारण नागरिकों को खुद को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने की जरूरत स्वास्थ्य विभाग ने तीन निजी अस्पतालों पर छापा मारा शांति मानवता का मुख्य धर्म व युवा देश की रीढ़ की हड्डी हैं स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ लगाए मुर्दाबाद के नारे स्वास्थ्य विभाग ने फूड प्वाइज¨नग की आशंका जताई पाक ने सीमा पर फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 2 जवान शहीद वीडियो: योग टीचर पर कहर बनकर टुटा नारियल का पेड़, हुई मौत
देश तोडऩे का प्रयास कर रही है 'ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड'
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:06:34 PM
1 of 1

भोपाल। आजकल कुछ लोग देश को तोड़ने के सूत्र खोज रहे हैं। इस 'ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड' का एजेंडा है कि कैसे देश को नुकसान पहुंचाया जाए। इसके लिए वह हर संभव प्रयास कर रहे हैं। लेकिन, उनका सफल होना असंभव है। क्योंकि, देश के सामान्य व्यक्ति के जीवन में भी राष्ट्रीयता प्रकट होती है। सामान्य लोग देश को एकसूत्र में बांधकर रखे हुए हैं। उन सामान्य लोगों के जीवन में कैसे राष्ट्र प्रकट होता है, इसी पर लोक मंथन में विमर्श होगा। उक्‍त उद्गार लोक मंथन आयोजन समिति के महासचिव जे. नंदकुमार ने लोक मंथन की पृष्ठभूमि में 'औपचारिक मानसिकता से मुक्ति' विषय पर आयोजित मीडिया विमर्श कार्यक्रम में व्‍यक्‍त किए।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

उन्होंने कहा कि जो देश को खंडित और नष्ट करने का सपना देखते हैं, उन्हें रवीन्द्रनाथ ठाकुर का एक कथन याद करना चाहिए। धर्म, पंथ, भाषा, जाति के नाम पर आपस के संघर्ष से यह देश एक दिन खत्म हो जाएगा, इस अवधारणा का विरोध करते हुए रवीन्द्रनाथ ठाकुर कहते थे कि भारत में विभिन्न पंथ और मत के लोग आपस में लड़कर समाप्त नहीं होंगे, बल्कि वह एक होने के सूत्र खोजेंगे। श्री नंदकुमार ने बताया कि भारत में जैसी विविधता है, वैसी दुनिया के किसी देश में दिखाई नहीं देती है। बाहर से देखने पर भारत भले ही एक नहीं दिखाई देता होगा, लेकिन अंदर से यह एक सूत्र में बंधा हुआ है। देश को एक सूत्र में जोड़ने वाली कड़ी लोक है। लोक मंथन इसी लोक पर केंद्रित है। उन्होंने बताया कि लोकमंथन 'राष्ट्र सर्वोपरि' की सघन भावना से ओतप्रोत विचारकों, अध्येताओं और शोधार्थियों के लिए संवाद का मंच है, जिसमें देश के वर्तमान मुद्दों पर विचार-विमर्श और मनन-चिन्तन किया जाएगा।

जे. नंदकुमार का यह भी कहना था कि 12 से 14 नवम्बर तक आयोजित होने वाले तीन दिवसीय लोक मंथन के दो हिस्से रहेंगे- मंच और रंगमंच। इसमें ज्यादातर भागीदारी 40 वर्ष तक के युवाओं की होगी। संगोष्ठी में मंच पर भाजपा के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष एवं राज्‍यसभा सांसद एवं मध्‍यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी प्रभारी विनय सहस्‍त्रबुद्धे, मध्‍यप्रदेश राज्‍य संस्कृति मंत्री सुरेन्द्र पटवा भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रज्ञा प्रवाह के मध्यभारत प्रांत के सह संयोजक दीपक शर्मा ने किया।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.