वरुण धवन हुए निराश, नही मिला वोटर लिस्ट में नाम लौटना पड़ा बिना मतदान एक्ट्रैस श्रद्धा कपूर पहुंची वोट डालने, फोटो क्लिक करते फोटोग्राफर के साथ हुआ कुछ ऐसा... बन गए अल्ट्रामैन, 3 दिन में 517km दौड़ लगाकर रच डाला इतिहास मिलिंद सोमन ने ये खट्टी-मीठी बातें दिलाती है बड़ी बहन की याद..! यहां लुक नही है मायने, है एक-दूसरे से बिल्कुल अलग फिर भी है साथ, ऐसे है यह कपल..! 7वां वेतन आयोग: बढ़ेगा कर्मचारियों का महंगाई भत्ता और एचआरए..! यूपी चुनाव में सबसे खूबसूरत उम्मीदवार, जो है काफी चर्चा में, तस्वीरें वायरल यहां बीमारी से पीड़ित लोगों को किडनैप कर, उनकी बॉडी पार्ट्स से बनाई जाती हैं दवाइयां..! संभल मे दस वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म, पुलिस मामला दबाने मे जुटी मुख्यमंत्री को जब स्कूली बच्चों ने ’शिक्षक’ बनकर पढ़ाया... ट्रेन से कटकर वृद्ध की मौत गोमती नदी में डूबा छात्र, हंगामा नोटबंदी राष्ट्रहित में एक बड़ा फैसला : मनोज सिन्हा संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत, दहेज हत्या का आरोप शेयर बाजार में आई तेजी, सेंसेक्स में 100 अंकों का उछाल सपा-बसपा ने राजनीति में फैलाया कीचड़, अब खिलेगा कमल: राजनाथ मुख्यमंत्री के साथ दिव्यांग बच्चों ने साझा किए अपने बड़े सपने एक साल में 82000 धनाढ्यों ने छोड़ा देश पुलिस व सीआरपीएफ ने डकैत को दबोचा विजय माल्या को भारत लाने की मुहिम तेज
देश तोडऩे का प्रयास कर रही है 'ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड'
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:06:34 PM
1 of 1

भोपाल। आजकल कुछ लोग देश को तोड़ने के सूत्र खोज रहे हैं। इस 'ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड' का एजेंडा है कि कैसे देश को नुकसान पहुंचाया जाए। इसके लिए वह हर संभव प्रयास कर रहे हैं। लेकिन, उनका सफल होना असंभव है। क्योंकि, देश के सामान्य व्यक्ति के जीवन में भी राष्ट्रीयता प्रकट होती है। सामान्य लोग देश को एकसूत्र में बांधकर रखे हुए हैं। उन सामान्य लोगों के जीवन में कैसे राष्ट्र प्रकट होता है, इसी पर लोक मंथन में विमर्श होगा। उक्‍त उद्गार लोक मंथन आयोजन समिति के महासचिव जे. नंदकुमार ने लोक मंथन की पृष्ठभूमि में 'औपचारिक मानसिकता से मुक्ति' विषय पर आयोजित मीडिया विमर्श कार्यक्रम में व्‍यक्‍त किए।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

उन्होंने कहा कि जो देश को खंडित और नष्ट करने का सपना देखते हैं, उन्हें रवीन्द्रनाथ ठाकुर का एक कथन याद करना चाहिए। धर्म, पंथ, भाषा, जाति के नाम पर आपस के संघर्ष से यह देश एक दिन खत्म हो जाएगा, इस अवधारणा का विरोध करते हुए रवीन्द्रनाथ ठाकुर कहते थे कि भारत में विभिन्न पंथ और मत के लोग आपस में लड़कर समाप्त नहीं होंगे, बल्कि वह एक होने के सूत्र खोजेंगे। श्री नंदकुमार ने बताया कि भारत में जैसी विविधता है, वैसी दुनिया के किसी देश में दिखाई नहीं देती है। बाहर से देखने पर भारत भले ही एक नहीं दिखाई देता होगा, लेकिन अंदर से यह एक सूत्र में बंधा हुआ है। देश को एक सूत्र में जोड़ने वाली कड़ी लोक है। लोक मंथन इसी लोक पर केंद्रित है। उन्होंने बताया कि लोकमंथन 'राष्ट्र सर्वोपरि' की सघन भावना से ओतप्रोत विचारकों, अध्येताओं और शोधार्थियों के लिए संवाद का मंच है, जिसमें देश के वर्तमान मुद्दों पर विचार-विमर्श और मनन-चिन्तन किया जाएगा।

जे. नंदकुमार का यह भी कहना था कि 12 से 14 नवम्बर तक आयोजित होने वाले तीन दिवसीय लोक मंथन के दो हिस्से रहेंगे- मंच और रंगमंच। इसमें ज्यादातर भागीदारी 40 वर्ष तक के युवाओं की होगी। संगोष्ठी में मंच पर भाजपा के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष एवं राज्‍यसभा सांसद एवं मध्‍यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी प्रभारी विनय सहस्‍त्रबुद्धे, मध्‍यप्रदेश राज्‍य संस्कृति मंत्री सुरेन्द्र पटवा भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रज्ञा प्रवाह के मध्यभारत प्रांत के सह संयोजक दीपक शर्मा ने किया।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.