आज से 3 दिन बैंक बंद, अब यहा भी नहीं चलेंगे 500 के पुराने नोट नाईजीरिया में आत्मघाती 2 बम धमाके, 45 की मौत राजस्थान हाईकोर्ट ने रद्द किया गुर्जरों समेत 5 जातियो का आरक्षण इन सुविधाओं के साथ जल्द लॉन्च होगी हमसफर PAK को अमेरिका से मिलेगी 40 करोड डॉलर की मदद, रखी ये शर्त भोपाल जेल ब्रेक में शहीद की बेटी की शादी में पहुंचे सीएम शिवराज जूनियर हॉकी विश्व कप: इंग्लैंड के खिलाफ जीत की लय बरकरार रखने उतरेगा भारत जारी है 'ओके जानू' का फर्स्ट लुक POSTER OMG: 20 गाड़ियां आपस में टकराई, बाल-बाल बचे अभय चौटाला भ्रष्टाचार के आरोपों में साउथ कोरिया की राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग पास महात्मा गांधी सीरीज के तहत 500 के नए नोट जारी करेगा रिजर्व बैंक लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर 14 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में होंगी सुनवाई आयकर विभाग ने बैंक में छापेमारीकर जब्त किए 44 फर्जी खातों से 100 करोड़ डोनाल्ड ट्रंप की जीत के पीछे रूसी हैकिंग तो नहीं, ओबामा ने दिए जांच के आदेश शशिकला ने दी अपने परिवार को पार्टी और सरकार से दूर रहने की हिदायत Sanjeevni Today: Top Stories of 9am 130 रूपए की गिरावट के साथ सोना 28,580 पर पहुंचा नोटबंदी के बाद सरकार ने किया बड़ा ऐलान, जल्द आएंगे प्लास्टिक के नए नोट जॉर्ज क्लूनी और पत्नी अमल अलमुद्दीन के तलाक की खबरों ने कर दिया सबको हैरान भारतीय सीमा के बेहद करीब चीनी सेना ने शुरू किया बड़ा सैन्य अभ्यास
देश तोडऩे का प्रयास कर रही है 'ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड'
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:06:34 PM
1 of 1

भोपाल। आजकल कुछ लोग देश को तोड़ने के सूत्र खोज रहे हैं। इस 'ब्रेकिंग इंडिया ब्रिगेड' का एजेंडा है कि कैसे देश को नुकसान पहुंचाया जाए। इसके लिए वह हर संभव प्रयास कर रहे हैं। लेकिन, उनका सफल होना असंभव है। क्योंकि, देश के सामान्य व्यक्ति के जीवन में भी राष्ट्रीयता प्रकट होती है। सामान्य लोग देश को एकसूत्र में बांधकर रखे हुए हैं। उन सामान्य लोगों के जीवन में कैसे राष्ट्र प्रकट होता है, इसी पर लोक मंथन में विमर्श होगा। उक्‍त उद्गार लोक मंथन आयोजन समिति के महासचिव जे. नंदकुमार ने लोक मंथन की पृष्ठभूमि में 'औपचारिक मानसिकता से मुक्ति' विषय पर आयोजित मीडिया विमर्श कार्यक्रम में व्‍यक्‍त किए।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

उन्होंने कहा कि जो देश को खंडित और नष्ट करने का सपना देखते हैं, उन्हें रवीन्द्रनाथ ठाकुर का एक कथन याद करना चाहिए। धर्म, पंथ, भाषा, जाति के नाम पर आपस के संघर्ष से यह देश एक दिन खत्म हो जाएगा, इस अवधारणा का विरोध करते हुए रवीन्द्रनाथ ठाकुर कहते थे कि भारत में विभिन्न पंथ और मत के लोग आपस में लड़कर समाप्त नहीं होंगे, बल्कि वह एक होने के सूत्र खोजेंगे। श्री नंदकुमार ने बताया कि भारत में जैसी विविधता है, वैसी दुनिया के किसी देश में दिखाई नहीं देती है। बाहर से देखने पर भारत भले ही एक नहीं दिखाई देता होगा, लेकिन अंदर से यह एक सूत्र में बंधा हुआ है। देश को एक सूत्र में जोड़ने वाली कड़ी लोक है। लोक मंथन इसी लोक पर केंद्रित है। उन्होंने बताया कि लोकमंथन 'राष्ट्र सर्वोपरि' की सघन भावना से ओतप्रोत विचारकों, अध्येताओं और शोधार्थियों के लिए संवाद का मंच है, जिसमें देश के वर्तमान मुद्दों पर विचार-विमर्श और मनन-चिन्तन किया जाएगा।

जे. नंदकुमार का यह भी कहना था कि 12 से 14 नवम्बर तक आयोजित होने वाले तीन दिवसीय लोक मंथन के दो हिस्से रहेंगे- मंच और रंगमंच। इसमें ज्यादातर भागीदारी 40 वर्ष तक के युवाओं की होगी। संगोष्ठी में मंच पर भाजपा के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष एवं राज्‍यसभा सांसद एवं मध्‍यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी प्रभारी विनय सहस्‍त्रबुद्धे, मध्‍यप्रदेश राज्‍य संस्कृति मंत्री सुरेन्द्र पटवा भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन प्रज्ञा प्रवाह के मध्यभारत प्रांत के सह संयोजक दीपक शर्मा ने किया।

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.