loading...
loading...
loading...
दैनिक राशिफल…… 25 जून, 2017 रविवार राजस्थान : पुलिस एनकाउंटर में मारा गया खूंखार गैंगस्टर आनंदपाल दी स्टेट ऑफ दी स्टेट राजस्थान कॉन्क्लेव राजस्थान को सर्वश्रेष्ठ बनाना हम सबका सपना - मुख्यमंत्री अब घर पर ही बनाये राजस्थान की राज कचोरी बारात गांव लौटे तो विवाहित जोड़ा शहीद की प्रतिमा पर लगाएं धोक श्रीगंगानगर से जल्द शुरू होगी हवाई सेवाएं, जयपुर व दिल्ली से वायु सेवा से जुडे़गें क्षेत्र के लोग महिला के दिमाग से शुतुरमुर्ग के अंडे जैसा ट्यूमर निकला इस बारिश के मौसम में बनाएं स्वीट कार्न पनीर बॉल रॉन्ग नंबर से कॉल आया और हो गया प्यार, लेकिन जब उसके घर पंहुचा तो उड़ गए होश स्वास्थ्य जांच शिविर में विभिन्न रोगों से ग्रसित 178 लोगों की जांच हुई सभी धर्म-मजहबों को सम्मान देना चाहिए हरियाणा: मुर्तजापुर के सरकारी पशु अस्पताल में पशु जांच शिविर का आयोजन भारत और विश्व के इतिहास में 25 जून की प्रमुख घटनाएं बहुत गौरवशाली रहा गोंड समाज का इतिहास: रामदुलार गोंड बड़ी सफलता: पुलिस एनकाउंटर में राजस्थान के खूंखार गैंगस्टर आनंदपाल की मौत, अन्य दो साथी अरेस्ट अनियंत्रित कार ने फुटपाथ पर सो रहे चार लोगो को कुचला आखिर मारा गया राजस्थान का कुख्यात बदमाश आनंदपाल Breaking News: पुसिस एनकाउंटर में गैंगेस्टर आनंदपाल मारा गया , मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी हुए घायल चिकित्सा विभाग द्वारा जारी स्थानान्तरण आदेश पर हाईकोर्ट द्वारा रोक गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर
7th Pay Commission: वित्त राज्यमंत्री मेघवाल ने अलाउंसेस को लेकर दिया यह बयान
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 01:45:36 PM
1 of 1

नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को वक्त पर सातवें वेतन आयोग का तोहफा दे दिया। ये अलग बात है कि कर्मचारियों को वेतन आयोग से जो वेतन में वृद्धि की उम्मीद थी वह पूरी नहीं हुई। सातवें वेतन आयोग की कई सिफारिशों पर कर्मचारियों ने आपत्ति जताई। उनमें सबसे अहम रही न्यूनतम वेतनमान को लेकर की गई वृद्धि और कई अलाउंसेस को लेकर वेतन आयोग की सिफारिशों से कर्मचारियों को सबसे ज्यादा निराशा हुई।

सरकार ने वेतन आयोग की न्यूनतम वेतन को 18000 रुपये तय करने की सिफारिश को स्वीकार किया वहीं 196 अलाउंसेस में से केवल 55 भत्तों को रखने की वेतन आयोग की सिफारिश को केंद्र सरकार ने स्वीकार कर लिया। वेतन आयोग की रिपोर्ट को सरकार द्वारा स्वीकार किए जाने के बाद कर्मचारियों ने खासी आपत्ति दर्ज कराई और साफ कर दिया कि उन्हें यह स्वीकार नहीं है। सरकार से इस लड़ाई के लिए कर्मचारी संघों ने एक संयुक्त संघ बनाया और हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे दी। 

सरकार ने कर्मचारियों की चेतावनी को गंभीरता से लिया और घोषणा की कि वह कर्मचारियों से हर आपत्ति पर बातचीत के लिए तैयार है। सरकार ने कर्मचारी संघों से चार महीने का समय मांगा जिसमें यह बातचीत की जानी थी। हाल ही में सांसद नीरज शेखर ने राज्यभा में इसी मुद्दे से जुड़ा प्रश्न संसद में उठाया। उन्होंने वित्तमंत्री से सवाल किया कि क्या वित्तमंत्री यह बताएंगे की कि वित्तमंत्री और मंत्रियों के समूह ने कर्मचारियों को यह आश्वासन दिया था। 

साथ ही इस आश्वासन में सातवें वेतन आयोग के अंतर्गत न्यूनतम वेतन और फिटमेंट फार्मूले के संशोधन की मांग पर विचार करने हेतु एक समिति गठित की जाएगी जिसे अपनी रिपोर्ट को चार माह के भीतर अंतिम रूप से प्रदान किए जाने का अधिदेश दिया जाएगा। 
यदि, हां तो समिति की वर्तमान स्थिति क्या है। साथ ही शेखर ने पूछा कि चार माह बीत जाने के बावजूद उक्त समिति द्वारा रिपोर्ट प्रस्तुत किए जाने में विलंब के क्या कारण हैं। 

वित्तमंत्रालय में इस प्रश्न के जवाब में राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि केंद्रीय मंत्रियों द्वारा राष्ट्रीय परिषद (स्टाफ पक्ष), संयुक्त परामर्शी तंत्र के प्रतिनिधियों को दिए गए आश्वासन के अनुसरण में, वरिष्ठ अधिकारियों के समूह ने इस संबंध में प्रतिनिधियों की मांगों पर चर्चा करने के लिए उनके साथ बैठकें की है। अपने अन्य प्रश्न में सांसद शेखर ने इसी मुद्दे पर पूछा कि क्या भत्तों संबंधी समिति ने अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप प्रदान कर दिया है। यदि, हां तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है और इसकी मुख्य सिफारिशें क्या हैं और यदि नहीं, तो इसके क्या कारण हैं।

वित्तमंत्रालय की ओर से मेघवाल ने सदन को बताया कि भत्तों से संबंधित समिति विभिन्न हितधारकों के साथ उनकी मांगों के संबंध में विचार-विमर्श कर रही है और अब तक राष्ट्रीय परिषद (स्टाफ पक्ष), संयुक्त परामर्शी तंत्र, कर्मचारी संघों के प्रतिनिधियों और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, गृह मंत्रालय और डाक विभाग अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श कर चुकी है।

अपनी रिपोर्ट को अंतिम रूप देने से पहले यह समिति कुछ अन्य प्रमुख मंत्रालयों और विभागों तथा हितधारकों के प्रतिनिधियों जिनके साथ अभी विचार-विमर्श किया जाना है, के साथ बातचीत कर सकती है। संसद में सरकार की ओर दिए गए इस जवाब से यह साफ हो गया है कि भत्तों को लेकर बातचीत लगभग पूरी गई है हो।

यह भी पढ़े : 68 की उम्र में कर रहा है 9वीं शादी वो भी 28 साल की लड़की से ... ऐसे शुरू हुई कहानी

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍपयह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़किया- सड़क किनारे मिनी स्कर्ट में अपना बिजनेस चला रही हैं।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.