loading...
जब तुलसीदास जी काशी में विद्वानों के मध्य बैठकर कर रहे थे भगवत्-चर्चा! फेफड़ों के कैंसर का इलाज तलाशने की दिशा में कामयाबी? 2020 तक हो पायेगा एड्स का रामबाण इलाज, यह नई दवा करेगी वायरस का खात्मा! यहाँ इंटरव्यू में लड़कियों से पूछा जाता हैं ये सवाल! कम उम्र में शारीरिक संबंध बनाने पर भुगतने पड़ सकते हैं ये खतरनाक परिणाम! Research: कई मुलाकातों और सामने वाले के व्यवहार से होता है सच्चा प्यार! जानिए महिलाएं क्यों करती हैं ऑर्गैजम का नाटक? क्या आप जानते है नाखूनों पर बने अर्ध चांद का मतलब? Alert: एड्स से भी ज्यादा खतरनाक बीमारी हैं "सेक्स सुपरबग", जानें लक्षण! खूबसूरत दिखने के लिए इस लड़की ने कर डाला अविश्वसनीय काम! आतंकवाद के जाल में फंसकर रह गयी हैं दुनिया: नरेंद्र मोदी रैसलमेनिया 33 से पहले अंडरटेकर को लेकर रोमन रेंस ने दिया ये बयान पीएम मोदी का मंत्रिमण्डल जनता की उम्मीदों पर खरा उतरा है, कांग्रेस अपने बड़बोलेपन के कारण विपक्ष में भी नहीं: राजनाथ अमेरिका: नस्लीय हमले के विरोध में भारतीय मूल के लोगों ने निकाली रैली दो घरों सहित आधा दर्जन जगहों से लाखों की चोरी एक अप्रैल तक बैंक शाखाओं के खुला रहने का बैंक यूनियन ने किया विरोध महापंचायत सामाजिक कुरीतियों को रोकने के लिए एक जुट दो महिलाओं की धारदार हथियार से हत्या BJP सांसद हुकुमदेव नारायण ने पटना एयरपोर्ट पर झाड़ा रौब, खाली बस लेकर पहुंचे प्लेन तक बड़े बडे वादे करके किसानों को गुमराह कर रही है BJP सरकार: कांग्रेस
US के साथ भारत ने किया 5000 करोड़ के होवित्जर तोप सौदे पर हस्ताक्षर
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 07:37:36 AM
1 of 1

नई दिल्ली। बोफोर्स घोटाले के बाद पैदा हुए गतिरोध को तोड़ते हुए भारत और अमेरिका ने बुधवार को 145 एम 777 हल्के हॉवित्जर की खरीद के लिए 5000 करोड़ रुपये के सौदे पर हस्ताक्षर किये। इन्हें चीन के साथ सीमा के निकट तैनात किया जाएगा। 1980 के दशक में हुए बोफोर्स घोटाले के बाद से तोपों की खरीद के लिए यह पहला सौदा है। सूत्रों ने बताया, ‘भारत ने आज स्वीकृति पत्र पर हस्ताक्षर किया जो इन तोपों के लिए भारत और अमेरिका के बीच अनुबंध को औपचारिक रूप देता है।’ सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने तकरीबन 5000 करोड़ रुपये की लागत से 145 हल्के हॉवित्जर तोपों की खरीद से संबंधित सौदे को हरी झंडी दे दी थी।

 

सौदे पर यहां शुरू हुई भारत-अमेरिका सहयोग समूह (एमसीजी) की दो दिवसीय बैठक में हस्ताक्षर किया गया। भारत-अमेरिका एमसीजी एक मंच है जिसकी स्थापना रणनीतिक और संचालन के स्तर पर एचक्यू इंटिग्रेटेड डिफेंस स्टाफ और अमेरिकी पैसिफिक कमान के बीच रक्षा सहयोग को बढ़ाने के लिए किया गया था। बैठक अमेरिकी सह-अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल डेविड एच बर्जर, कमांडर अमेरिकी नौसैनिक कोर बल, पैसिफिक के लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ, सीआईएससी, एचक्यू आईडीएस से मुलाकात के साथ शुरू हुई। एमसीजी बैठक की सह-अध्यक्षता एयर मार्शल ए एस भोंसले डीसीआईडीएस (ऑपरेशंस), एच क्यू आईडीएस ने की।

 

अमेरिकी रक्षा बलों का 260 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल और भारतीय पक्ष की तरफ से तीन सेनाओं के एचक्यू और एचक्यू आईडीएस के कई अधिकारी द्विपक्षीय कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं। एम 777 के मुद्दे पर सूत्रों ने बताया कि भारत ने अमेरिकी सरकार को एक अनुरोध पत्र भेजा था जिसमें तोपों की खरीद को लेकर दिलचस्पी जताई गई थी। इन तोपों को अरूणाचल प्रदेश के उंचाई वाले क्षेत्रों और चीन की सीमा से लगे लद्दाख के क्षेत्र में तैनात किया जाएगा। अमेरिका ने स्वीकृति पत्र के साथ इसका जवाब दिया था और रक्षा मंत्रालय ने जून में सौदे की शर्तों पर गौर किया और इसे मंजूरी दे दी। जहां 25 तोप भारत में तैयार अवस्था में आएंगी, वहीं शेष तोपों को महिंद्रा के साथ भागीदारी में भारत में स्थापित किए जाने वाली हथियार प्रणाली के लिए असेंबली इंटिग्रेशन एंड टेस्ट फैसिलिटी में जोडकर तैयार किया जाएगा।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: यहां पर तैयार किया जा रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा धार्मिक स्थल

यह भी पढ़े: कहीँ गधे पर तो कही बीच पर है लाइब्रेरी ... पढ़िए कुछ अजीब लाइब्रेरी

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.