भारतीय पहलवान का पहला दिन खराब, पहले ही दौर में हारे एफआईआर की प्रति अब मिलेगी ऑनलाईन, जानिए कैसे बूढादीत में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर को बनाया निशाना, आरोपियों को पकड़ा कैसे रूक पायेंगे रेल हादसे ? कपिल शर्मा ने सिद्धू के साथ मनमुटाव पर अपनी तोड़ी चुप्पी संदेश ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें बड़ी लीग में खेलना चाहिए: कांस्टेनटाइन काश कि रेल बजट तकनीक केन्द्रित होता राजस्थान ने लॉन्च की 'हैलो इंग्लिश प्रिमियम' एप, अंग्रेजी ज्ञान को बनाएगी बेहतर अतिक्रमण हटाने गए नगर परिषद के कर्मचारियों पर चले लात घूसे एटीपी रैंकिंग में एंडी मरे को पछाड़ नडाल टॉप पर "फिल्मों का बदलता ट्रेंड " सरकार ने बढ़ाई भीम कैशबैक योजना की अवधि, मार्च तक मिलेगा कैशबैक तीन तलाक मुद्दे पर कल सुप्रीम कोर्ट लेगा अहम फैसला मिताली राज का करारा जवाब, कहा- मैंने मैदान पर पसीना बहाया एक्सकेवेटर मशीन की चपेट में आने से गई मासूम की जान राष्ट्रपति ने किया लेह का दौरा, दिल्‍ली से बाहर उनकी प्रथम यात्रा इंडीज क्रिकेट बोर्ड ने दी पाक दौरे को मंजूरी, खेलेंगे T20 इंटरनेशनल मैच विपक्ष की एकता में मायावती ने डाली फुट, लालू की रैली में नहीं होगी शामिल बाइक सवार दो बदमाशों ने महज 57 सैकंड में उड़ाए 57 लाख गर्ल्स टॉयलेट में रिकॉर्डिंग के लिए छिपाया मोबाइल, कोई और नहीं बल्कि स्कूल का ही चौकीदार
US के साथ भारत ने किया 5000 करोड़ के होवित्जर तोप सौदे पर हस्ताक्षर
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 07:37:36 AM
1 of 1

नई दिल्ली। बोफोर्स घोटाले के बाद पैदा हुए गतिरोध को तोड़ते हुए भारत और अमेरिका ने बुधवार को 145 एम 777 हल्के हॉवित्जर की खरीद के लिए 5000 करोड़ रुपये के सौदे पर हस्ताक्षर किये। इन्हें चीन के साथ सीमा के निकट तैनात किया जाएगा। 1980 के दशक में हुए बोफोर्स घोटाले के बाद से तोपों की खरीद के लिए यह पहला सौदा है। सूत्रों ने बताया, ‘भारत ने आज स्वीकृति पत्र पर हस्ताक्षर किया जो इन तोपों के लिए भारत और अमेरिका के बीच अनुबंध को औपचारिक रूप देता है।’ सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने तकरीबन 5000 करोड़ रुपये की लागत से 145 हल्के हॉवित्जर तोपों की खरीद से संबंधित सौदे को हरी झंडी दे दी थी।

 

सौदे पर यहां शुरू हुई भारत-अमेरिका सहयोग समूह (एमसीजी) की दो दिवसीय बैठक में हस्ताक्षर किया गया। भारत-अमेरिका एमसीजी एक मंच है जिसकी स्थापना रणनीतिक और संचालन के स्तर पर एचक्यू इंटिग्रेटेड डिफेंस स्टाफ और अमेरिकी पैसिफिक कमान के बीच रक्षा सहयोग को बढ़ाने के लिए किया गया था। बैठक अमेरिकी सह-अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल डेविड एच बर्जर, कमांडर अमेरिकी नौसैनिक कोर बल, पैसिफिक के लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ, सीआईएससी, एचक्यू आईडीएस से मुलाकात के साथ शुरू हुई। एमसीजी बैठक की सह-अध्यक्षता एयर मार्शल ए एस भोंसले डीसीआईडीएस (ऑपरेशंस), एच क्यू आईडीएस ने की।

 

अमेरिकी रक्षा बलों का 260 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल और भारतीय पक्ष की तरफ से तीन सेनाओं के एचक्यू और एचक्यू आईडीएस के कई अधिकारी द्विपक्षीय कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं। एम 777 के मुद्दे पर सूत्रों ने बताया कि भारत ने अमेरिकी सरकार को एक अनुरोध पत्र भेजा था जिसमें तोपों की खरीद को लेकर दिलचस्पी जताई गई थी। इन तोपों को अरूणाचल प्रदेश के उंचाई वाले क्षेत्रों और चीन की सीमा से लगे लद्दाख के क्षेत्र में तैनात किया जाएगा। अमेरिका ने स्वीकृति पत्र के साथ इसका जवाब दिया था और रक्षा मंत्रालय ने जून में सौदे की शर्तों पर गौर किया और इसे मंजूरी दे दी। जहां 25 तोप भारत में तैयार अवस्था में आएंगी, वहीं शेष तोपों को महिंद्रा के साथ भागीदारी में भारत में स्थापित किए जाने वाली हथियार प्रणाली के लिए असेंबली इंटिग्रेशन एंड टेस्ट फैसिलिटी में जोडकर तैयार किया जाएगा।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: यहां पर तैयार किया जा रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा धार्मिक स्थल

यह भी पढ़े: कहीँ गधे पर तो कही बीच पर है लाइब्रेरी ... पढ़िए कुछ अजीब लाइब्रेरी

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.