ओवैसी ने भाजपा पर मुसलमानों से भेदभाव का लगाया आरोप सिंगापुर पर्यटन की बेस्ट प्रेक्टिसेज साझा करने के लिये दो दिवसीय कार्यशाला की हुई शुरूआत मतदाताओं को पैसा बांटते हुए राकांपा के 13 कार्यकर्ता गिरफ्तार RBI नहीं जानता कितने खातों में जमा हुए 2.5 लाख से ज्यादा आईएस के खिलाफ लड़ाई में इराक को पूरा समर्थन देगा अमेरिका विधि विज्ञान प्रयोगशाला को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का उत्कृष्ट केन्द्र बनाने के प्रयास : गृहमंत्री छत्तीसगढ़: दो छात्रों और दो शिक्षकों वाला स्कूल उपराज्यपाल ने वायु प्रदूषण पर दिए सख्त निर्देश सीआरपीएफ के कमांडिंग अधिकारी 'चेतन चीता' की हालत में सुधार बैंक कर्मचारी ने फांसी लगाकर दी जान पाक सरकार ने हाफिज को दिया झटका, 44 हथियारों के लाइसेंस किये रद्द महिला आर्थिक सशक्तिकरण पर यूएन हाईलेवल पैनल की रिपोर्ट VIDEO: जानिए कैसे बनें जियो की प्राइम मेंबरशिप का हिस्सा लखनऊ और नागपुर को 15 दिन में मिली मेट्रो, तो फिर पटना पीछे क्यों? रियल एस्‍टेट सेक्‍टर का भविष्‍य किफायती आवास में निहित है: वेंकैया नायडू हाफिज को आतंकी बताकर बुरे फंसे पाक रक्षामंत्री, पाक नेताओं ने बताया 'भारत का प्रवक्‍ता' चौथे चरण के प्रचार का शोरगुल थमा, 12 जनपदों की 53 सीटों के लिये गुरूवार को मतदान VIDEO: जियो को टक्कर देने के लिए एकजुट हो सकती है ये कंपनियां मनपा मतदान से गायब रहा बॉलीवुड, कई सितारों ने डाले वोट VIDEO:रिलायंस JIO ग्राहकों के लिए खास ऑफर प्राइम मेंबर्स की घोषणा, जानिए 10 मुख्य बातें
US के साथ भारत ने किया 5000 करोड़ के होवित्जर तोप सौदे पर हस्ताक्षर
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 07:37:36 AM
1 of 1

नई दिल्ली। बोफोर्स घोटाले के बाद पैदा हुए गतिरोध को तोड़ते हुए भारत और अमेरिका ने बुधवार को 145 एम 777 हल्के हॉवित्जर की खरीद के लिए 5000 करोड़ रुपये के सौदे पर हस्ताक्षर किये। इन्हें चीन के साथ सीमा के निकट तैनात किया जाएगा। 1980 के दशक में हुए बोफोर्स घोटाले के बाद से तोपों की खरीद के लिए यह पहला सौदा है। सूत्रों ने बताया, ‘भारत ने आज स्वीकृति पत्र पर हस्ताक्षर किया जो इन तोपों के लिए भारत और अमेरिका के बीच अनुबंध को औपचारिक रूप देता है।’ सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने तकरीबन 5000 करोड़ रुपये की लागत से 145 हल्के हॉवित्जर तोपों की खरीद से संबंधित सौदे को हरी झंडी दे दी थी।

 

सौदे पर यहां शुरू हुई भारत-अमेरिका सहयोग समूह (एमसीजी) की दो दिवसीय बैठक में हस्ताक्षर किया गया। भारत-अमेरिका एमसीजी एक मंच है जिसकी स्थापना रणनीतिक और संचालन के स्तर पर एचक्यू इंटिग्रेटेड डिफेंस स्टाफ और अमेरिकी पैसिफिक कमान के बीच रक्षा सहयोग को बढ़ाने के लिए किया गया था। बैठक अमेरिकी सह-अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल डेविड एच बर्जर, कमांडर अमेरिकी नौसैनिक कोर बल, पैसिफिक के लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ, सीआईएससी, एचक्यू आईडीएस से मुलाकात के साथ शुरू हुई। एमसीजी बैठक की सह-अध्यक्षता एयर मार्शल ए एस भोंसले डीसीआईडीएस (ऑपरेशंस), एच क्यू आईडीएस ने की।

 

अमेरिकी रक्षा बलों का 260 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल और भारतीय पक्ष की तरफ से तीन सेनाओं के एचक्यू और एचक्यू आईडीएस के कई अधिकारी द्विपक्षीय कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं। एम 777 के मुद्दे पर सूत्रों ने बताया कि भारत ने अमेरिकी सरकार को एक अनुरोध पत्र भेजा था जिसमें तोपों की खरीद को लेकर दिलचस्पी जताई गई थी। इन तोपों को अरूणाचल प्रदेश के उंचाई वाले क्षेत्रों और चीन की सीमा से लगे लद्दाख के क्षेत्र में तैनात किया जाएगा। अमेरिका ने स्वीकृति पत्र के साथ इसका जवाब दिया था और रक्षा मंत्रालय ने जून में सौदे की शर्तों पर गौर किया और इसे मंजूरी दे दी। जहां 25 तोप भारत में तैयार अवस्था में आएंगी, वहीं शेष तोपों को महिंद्रा के साथ भागीदारी में भारत में स्थापित किए जाने वाली हथियार प्रणाली के लिए असेंबली इंटिग्रेशन एंड टेस्ट फैसिलिटी में जोडकर तैयार किया जाएगा।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: यहां पर तैयार किया जा रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा धार्मिक स्थल

यह भी पढ़े: कहीँ गधे पर तो कही बीच पर है लाइब्रेरी ... पढ़िए कुछ अजीब लाइब्रेरी

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.