आशिकी-3 में आलिया-सिद्धार्थ करेंगे रोमांस अमिताभ ने किया बहू ऐश्वर्या की सुसाइड की बात को नजर अंदाज। जमीन विवाद को लेकर मारपीट प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान शाहरूख एक बुरी लत, जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते: आदित्य आईएसएल में विदेशी खिलाड़ियों के बीच भारतीयों ने भी बिखेरी चमक.. डोनाल्ड ट्रम्प विश्व की समस्याओं को सुलझाने में सक्षम : माइक पेंस विजय के शार्ट पिच गेंदों पर आउट होने को तवज्जो नहीं दें: कुंबले परीक्षा में फेल होने से दुखी छात्रा ने की आत्महत्या सलमान और शाहरुख कर सकते है एक साथ काम जल-स्वावलम्बन अभियान केे दूसरे चरण में नगरीय क्षेत्र भी होंगे प्रदेश के सभी पुस्तकालयों का 31 मार्च तक हो जायेगा डिजिटलाईजेशन इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया गया: बीसीसीआई चार बच्चो को बेचने के आरोपी की जमानत खारिज राजस्थान में मार्च तक हर शहरी निकाय होगा कैश लैस जबरन घर में घुसकर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार बिकने से बची चार नाबालिग बच्चियां, दलाल गिरफ्तार आस्ट्रेलिया ने बड़ी जीत से श्रृंखला पर कब्जा किया.. अंतर्राज्यीय डकैती गिरोह: आठ सदस्य गिरफ्तार उपहार मामले में अंसल बंधुओं को नोटिस
30 तक जमा कालाधन करें, जमाकर्ता से नही पूछ सकते धन के सोर्स के बारे में सवाल
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:48:03 PM
1 of 1

नई दिल्ली। अगर आपके पास भी पुराने 500 या 1000 के नोट में कालाधन है तो 30 नवंबर से पहले इसे टैक्‍स और जुर्माने के साथ जमा करा दें। इसके बाद ये नोट वैसे भी बेकार हो जाएंगे, इससे अच्छा उसे बैंक में जमा कर दें। बैंक आपसे ये भी नहीं पूछ सकती कि ये धन आपने कहां से आया है।

इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (IBA) ने आय घोषणा योजना (IDS) के तहत पैसे जमा कराने वाले लोगों ने धन के सोर्स के बारे में नहीं पूछने के लिए कहा है। आईबीए ने बैंकों से कहा कि इस तरह का भुगतान बिना किसी बाधा के स्वीकार किया जाए और जमाकर्ता से धन के सोर्स के बारे में नहीं पूछा जाए। आईडीएस देश के भीतर रखे कालेधन को कर दायरे में लाने के लिये शुरू की गई योजना है जिसमें लोगों द्वारा अघोषित संपत्ति द्वारा ब्यौरा दिया जाता है। इस योजना के तहत टैक्स और जुर्माने के तौर पर सरकार को 45 प्रतिशत राशि मिलेगी।

कुछ लोगों ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से शिकायत की थी कि बैंक उनके टैक्स और जुर्माने की राशि को नहीं स्वीकार कर रहे हैं। इसके बाद इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (आईबीए) ने इस बारे में अपने सभी सदस्यों को पत्र लिखा है। इसमें सीबीडीटी द्वारा आरबीआई को भेजे गए परिपत्र का हवाला दिया गया है। इसके अनुसार एक घोषणाकर्ता ने शिकायत की है कि बेंगलुरू की एक बैंक शाखा ने कर व जुर्माने की राशि स्वीकार करने से इनकार कर दिया।

सरकार ने कालेधन की घोषणा के लिए आईडीएस की पेशकश थी जिसकी अवधि 30 सितंबर को समाप्त हो गई। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार इस योजना के तहत 64,275 लोगों ने 65,250 करोड़ रुपये की घोषणा की। इससे सरकार को टैक्स आदि के रूप में 30000 करोड़ रुपये मिलेंगे। सीबीडीटी ने जिक्र किया है इस योजना के तहत कर, अधिभार व जुर्माने की कीम से 25 प्रतिशत राशि का भुगतान 30 नवंबर 2016 तक किया जाना है।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.