सीएम को अचानक देख गदगद हुआ योगी परिवार, शादी की बधाई, गांव को विकास के लिए 10 करोड़ बांग्लादेश अदालत ने नारायणगंज हत्याकांड मामले में 26 लोगों को दी सजा-ए-मौत जवानों को खराब खाना संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा हाईकोर्ट ऑस्ट्रेलियन ओपन: मरे, निशिकोरी, वीनस और मुगुरुजा दूसरे दौर में आपरेशन मुस्कान के तहत राजस्थान की छह लड़कियां बरामद आग लगने की घटनाओं के प्रति 'जीरो टॉलरेंस' की नीति चाहती है सरकारः नड्डा 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' अभियान के लिए जिला झुंझुनू को राष्ट्रीय पुरस्कार राजा ठाकुर हत्याकांड के आरोपी की जमानत हाईकोर्ट से खारिज विधानसभा सत्र उपराज्यपाल के पद की गरिमा का अपमान: विजेंद्र गुप्ता सिख विरोधी दंगों पर चार हफ्ते में स्टेटस रिपोर्ट दे केंद्रःसुप्रीम कोर्ट गोवाः भाजपा ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई : रघुवर दास 'खुल्लम खुल्ला' की सफलता की दुआ मांगने तिरूपति पहुंचे ऋषि कपूर उप्रः भाजपा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, 149 के नाम पर मुहर मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे के विरुद्ध मामला दर्ज दिल्ली विस का दो दिवसीय सत्र मंगलवार से, हंगामा के आसार भाजपा ने उत्तराखंड के लिए 64 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की सरकार की तीसरी वर्षगांठ पर 'अच्छा काम, ठोस परिणाम' विकास प्रदर्शनी हलफनामा न सौंपने पर चीफ जस्टिस नाराज, दस राज्यों के सचिव तलब नेताजी का चेहरा ही सपा की पहचान: अखिलेश
3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 05:34:36 AM
1 of 1

नई दिल्ली। देश में तीन तलाक के विरोध का विरोध यू तो काफी दिनों से होता आ रहा है, महिलाएं भी इसके विरोध में खड़ी हैं और स्वयं के लिए न्याय और समानता की गुहार करती नजर आ रही हैं, सरकार की तरफ से पहले ही कहा जा चुका है कि यह कुप्रथा समाज के लिए एक बोझ है इससे समाज में  लिंग भेद बढ़ता है। इसी सिलसिले में एक नए मामले में एक मुस्लिम महिला ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को खून से खत लिखकर अपने लिए न्याय की मांग की है। खत में महिला ने लिखा है कि तीन तलाक को देश से प्रभावी तरीके से समाप्त किया जाए।

तीन तलाक कानून को खत्म किया जाए,
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को लिखे खत में महिला ने लिखा है कि देश से तीन तलाक कानून  को खत्म किया जाए, देश में ऐसा कानून होना चाहिए जिससे लोगों को समानता मिले, लिंग भेद ना हो। मेरे पति ने मुझे तलाक दे दिया है, मैं ऐसे किसी भी कानून को नहीं मानती जिसके कारण मेरी और मेरी चार साल के बच्ची की जिंदगी तबाह हो गई है, अगर मुझे इंसाफ नहीं दिया जा सकता है तो मुझे अपनी जान देने की अनुमति दी जाए।

मामले के अनुसार शबाना नाम की औरत की 25 मई 2011 को हुई, पति का नाम टीपू है। शबाना बताती है कि वो नर्सिंग कर चुकी है, पर उसका पति उसे खेतों मंे काम करवाना वाहता था, जब वह ऐसा करने से मना करती तो वो उसे मारता भी था, उसे दहेज के लिए प्रताडित किया जाता रहा। बाद में पति ने किसी और से शादी कर ली, जिसके बाद शबाना ने इसकी रिपोर्ट पुलिस में दर्ज करवाई, और बाद में काफी बातें बढ़ी जिसके बाद टीपू ने उसे तलाक दे दिया। ऐसे में उसका और उसकी चार साल की बेटी तहजीब की जिंदगी बर्बाद सी हो गई है। महिला ने खून से लिखे खत में लिखा है कि मुझे यह तलाक ना तो मंजूर है और ना ही मैं तलाक के इस नियम को मानती हूं। देश से ऐसे कानून को समाप्त किया जाए और मुझे और मेरी बेटी को न्याय मिले।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.