loading...
मोसुल में आत्मघाती विस्फोट, एक मरा महमूद मदनी का बड़ा बयान, जिस घर में न हो शौचालय, वहां मौलवी न पढ़ें निकाह कुख्यात अपराधी सनातन मड़ैया गिरफ्तार शिखा की शानदार गेंदबाजी ने दिलाई भारत को लगातार तीसरी जीत तम्मा तम्मा अगेन बादशाह के साथ किम जोंग के भाई की हत्या में उ. कोरिया का हाथ: दक्षिण कोरिया बाबुल के घर से विदा होने के बाद सीधे पोलिंग बूथ पहुंची दुल्हन आतंकवाद के खात्मे के लिए जयपुर से वाघा बॉर्डर तक 'हुंकार दौड़' रंगदारी मामले में आरोपी नक्सली गिरफ्तार मेकअप के दौरान कुछ एेसी दिखती है बॉलीवुड एक्ट्रैसेस, देखें तस्वीरें डोनाल्ड ट्रंप के बाद व्हाइट हाउस के अधिकारी राज शाह ने भी की मीडिया की आलोचना सोशल मीडिया पर धोनी के समर्थन में आये प्रशंसक OMG: ये है दुनिया की सबसे खतरनाक जेल, जहां एक-दूसरे को मारकर खा जाते हैं कैदी यूपी विस चुनाव 2017 : तीसरे चरण का मतदान समाप्त, 55 से 60 फीसदी के बीच रहा मतदान सीपीडब्ल्यूडी में कॉर्पोरेट वर्क कल्चर योजना के विरोध में उतरे कर्मचारी दरगाह हमले के बाद पाकिस्तान ने आतंवादियो पर तेज की कार्यवाही श्रीलंका ने दूसरे टी-20 में ऑस्ट्रेलिया को 2 विकेट से हराया VIDEO: करिश्मा कपूर के बॉयफ्रेंड से मिले पापा रणधीर कपूर नेत्रहीन टी-20 विश्व कप विजेता भारतीय टीम को सम्मानित करेंगे गोयल सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कबीर का निधन, अपोलो अस्पताल ने की पुष्टि
3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 05:34:36 AM
1 of 1

नई दिल्ली। देश में तीन तलाक के विरोध का विरोध यू तो काफी दिनों से होता आ रहा है, महिलाएं भी इसके विरोध में खड़ी हैं और स्वयं के लिए न्याय और समानता की गुहार करती नजर आ रही हैं, सरकार की तरफ से पहले ही कहा जा चुका है कि यह कुप्रथा समाज के लिए एक बोझ है इससे समाज में  लिंग भेद बढ़ता है। इसी सिलसिले में एक नए मामले में एक मुस्लिम महिला ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को खून से खत लिखकर अपने लिए न्याय की मांग की है। खत में महिला ने लिखा है कि तीन तलाक को देश से प्रभावी तरीके से समाप्त किया जाए।

तीन तलाक कानून को खत्म किया जाए,
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को लिखे खत में महिला ने लिखा है कि देश से तीन तलाक कानून  को खत्म किया जाए, देश में ऐसा कानून होना चाहिए जिससे लोगों को समानता मिले, लिंग भेद ना हो। मेरे पति ने मुझे तलाक दे दिया है, मैं ऐसे किसी भी कानून को नहीं मानती जिसके कारण मेरी और मेरी चार साल के बच्ची की जिंदगी तबाह हो गई है, अगर मुझे इंसाफ नहीं दिया जा सकता है तो मुझे अपनी जान देने की अनुमति दी जाए।

मामले के अनुसार शबाना नाम की औरत की 25 मई 2011 को हुई, पति का नाम टीपू है। शबाना बताती है कि वो नर्सिंग कर चुकी है, पर उसका पति उसे खेतों मंे काम करवाना वाहता था, जब वह ऐसा करने से मना करती तो वो उसे मारता भी था, उसे दहेज के लिए प्रताडित किया जाता रहा। बाद में पति ने किसी और से शादी कर ली, जिसके बाद शबाना ने इसकी रिपोर्ट पुलिस में दर्ज करवाई, और बाद में काफी बातें बढ़ी जिसके बाद टीपू ने उसे तलाक दे दिया। ऐसे में उसका और उसकी चार साल की बेटी तहजीब की जिंदगी बर्बाद सी हो गई है। महिला ने खून से लिखे खत में लिखा है कि मुझे यह तलाक ना तो मंजूर है और ना ही मैं तलाक के इस नियम को मानती हूं। देश से ऐसे कानून को समाप्त किया जाए और मुझे और मेरी बेटी को न्याय मिले।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.