आज का राशिफल (20 जनवरी 2017) कोयलाकर्मियों की पेंशन पर असमंजस जारी, आज होगी निर्णायक बैठक OMG: यहां पर बिल्लियों को दी जाती है सरकारी नौकरी! जानिये कम सैलेरी में कैसे करे बचत... धोनी ने युवराज के क्रिकेट करियर के तीन महत्वपूर्ण साल कर दिए खराब: योगराज सिंह OMG: पानी के प्रैशर से चलती यह 200 साल पूरानी चक्की... छपेमारी के दौरान 4384 लीटर अवैध शराब बरामद बादल परिवार ने 10 वर्ष के शासन में लूट लिया पंजाब: नवजोत सिंह सिद्दू विवाहिता की हत्या के आरोप में को ससुरालियों को जेल शनिवार को इस विधि से की गई पूजा से शनिदेव होंगे प्रसन्न..! आल्टो कार- टाटा 207 में भिड़ंत, दो की मौत UP विधानसभा चुनाव: सपा ने की 209 उम्मीदवारों की सूची जारी, शिवपाल यादव और आजम खान भी मैदान में एलएफडब्ल्यू फिनाले में जलवे बिखेरेंगी करीना किशोर ने फंदा लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया आज भारतीय क्रिकेटर ऋषि धवन फैशन डिज़ाइनर दीपाली चौहान से रचाएंगे सगाई ! दीपिका पादुकोण संग थिरके जेम्स कॉर्डन जन धन खाताधारकों को 2 लाख रु का बीमा मिलने की पूरी उम्मीद राहत फतेह अली खान के गीत में नजर आएंगे कुनाल रांची का विवेकानंद तिवारी भारत अंडर-19 क्रिकेट टीम में शामिल किशोरी की गला काटकर हत्या
PoK से आए शरणार्थियों के लिए 2000 करोड़ के पैकेज को कैबिनेट की मंजूरी
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:04:46 AM
1 of 1

नई दिल्ली। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से आए शरणार्थियों के कल्याण के लिए मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। पीओके से आए शरणार्थियों के लिए कैबिनेट ने विकास के लिए 2000 करोड़ रुपये के पैकेज को मंजूरी दी है। इसके अलावा विदेशी नागरिकों के लिए वीजा नियमों को भी उदार बनाया गया है। बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में और भी कई अहम फैसले गए लिए। सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल ने महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर की कई और जातियों को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने को मंजूरी दे दी है।

विदेशी नागरिकों खासकर उद्यमियों और सैलानियों के लिए वीजा नियमों को भी उदार बनाया गया है। जम्मू-कश्मीर सरकार ने 36,348 ऐसे परिवारों का चयन किया है, जिन्हें यह पैकेज दिया जाना है। मोटे तौर पर हर परिवार को 5.5 लाख रुपये की राशि बतौर अनुदान मिलेगी। पश्चिमी पाकिस्तान और ज्यादातर पीओके से आए शरणार्थी जम्मू, कठुआ और राजौरी जिलों के अलग-अलग हिस्सों में बस गए हैं।

हालांकि वे जम्मू-कश्मीर के संविधान के मुताबिक राज्य के स्थायी निवासियों की श्रेणी में नहीं आते। कुछ परिवार 1947 में भारत के बंटवारे के समय विस्थापित हो गए थे और अन्य परिवार 1965 तथा 1971 में पाकिस्तान के साथ युद्धों के दौरान विस्थापित हुए थे। ये लोग लोकसभा चुनाव में वोट डाल सकते हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर विधानसभा के चुनाव में वोट नहीं डाल सकते।

यह भी पढ़े : रॉल्स रॉयस जैसी 378 कारों का मालिक होते हुए भी यह ब्यक्ति करता है बाल काटने का काम..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज

यह भी पढ़े : INTERVIEW देने गया था ये कपल लेकिन हुआ वो जो कर देगा हैरान, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.