आखिर क्या हुआ भारत के विराट को, बरसे अंपायर पर.. ये शो वापस लाएगा मशहूर ITEM GIRL राखी सावंत ! शिक्षा आर्थिक संवृद्धि की पहली शर्त : मनमोहन सिंह निम्मो का पहला लुक जारी, जरूर देखे जूनियर और सीनियर हाकी में एकरूपता चाहते हैं कोच IPL 2017 में नहीं होंगे KKR के गेंदबाजी कोच वसीम अकरम केरल के CM को हुई असुविधा के लिए MP के शीर्ष अधिकारियों को खेद शशिकला को संभालनी चाहिए अन्नाद्रमुक की कमान : पन्नीरसेल्वम HOCKEY: इंग्लैंड भी नही रोक सका भारत का विजयी अभियान, 5-3 से परास्त BIRTHDAY PARTY: स्टनिंग लुक में नजर आई नव्या पिस्टल दिखाकर महिला से मारपीट और गैंगरेप पर्रिकर ने मॉरीशस को पूर्ण सहयोग का दिया आश्वासन ऐसा क्या कारण था जो कटप्पा ने बाहुबली को मारा तेलंगाना में करीब 82 लाख रूपये के नए नोट जब्त पंजाब: बेरवाला गांव के जंगल में मिली मिसाइल,मचा हड़कंम एयर इंडिया फंसे यात्रियों को निकालने के लिए आज रात दो उड़ानें करेगी संचालित नहीं मिली एम्बुलेंस, मजबूरन हाथ रिक्शे से लाना पड़ा शव life Ok शो ‘बहू हमारी रजनीकांत’ बंद नहीं होगा भारत को तीन साल में मिलेगी राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप: वायुसेनाध्यक्ष खेल मंत्री ने सोनीपत में नए कुश्ती हाल का उद्घाटन किया..
PoK से आए शरणार्थियों के लिए 2000 करोड़ के पैकेज को कैबिनेट की मंजूरी
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:04:46 AM
1 of 1

नई दिल्ली। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से आए शरणार्थियों के कल्याण के लिए मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। पीओके से आए शरणार्थियों के लिए कैबिनेट ने विकास के लिए 2000 करोड़ रुपये के पैकेज को मंजूरी दी है। इसके अलावा विदेशी नागरिकों के लिए वीजा नियमों को भी उदार बनाया गया है। बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में और भी कई अहम फैसले गए लिए। सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल ने महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर की कई और जातियों को ओबीसी की केंद्रीय सूची में शामिल करने को मंजूरी दे दी है।

विदेशी नागरिकों खासकर उद्यमियों और सैलानियों के लिए वीजा नियमों को भी उदार बनाया गया है। जम्मू-कश्मीर सरकार ने 36,348 ऐसे परिवारों का चयन किया है, जिन्हें यह पैकेज दिया जाना है। मोटे तौर पर हर परिवार को 5.5 लाख रुपये की राशि बतौर अनुदान मिलेगी। पश्चिमी पाकिस्तान और ज्यादातर पीओके से आए शरणार्थी जम्मू, कठुआ और राजौरी जिलों के अलग-अलग हिस्सों में बस गए हैं।

हालांकि वे जम्मू-कश्मीर के संविधान के मुताबिक राज्य के स्थायी निवासियों की श्रेणी में नहीं आते। कुछ परिवार 1947 में भारत के बंटवारे के समय विस्थापित हो गए थे और अन्य परिवार 1965 तथा 1971 में पाकिस्तान के साथ युद्धों के दौरान विस्थापित हुए थे। ये लोग लोकसभा चुनाव में वोट डाल सकते हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर विधानसभा के चुनाव में वोट नहीं डाल सकते।

यह भी पढ़े : रॉल्स रॉयस जैसी 378 कारों का मालिक होते हुए भी यह ब्यक्ति करता है बाल काटने का काम..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुनिया के सबसे ठंडे महाद्वीप में पानी नहीं बल्कि बहता है खून, छिपे हैं कई राज

यह भी पढ़े : INTERVIEW देने गया था ये कपल लेकिन हुआ वो जो कर देगा हैरान, VIDEO



0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.