आज का राशिफल (18 जनवरी 2017) सुल्तान कुतबुद्दीन ऐबक का इतिहास ये है ऐसा देश जहां मर्द करते है महिलाओ की गुलामी.. जानिये बंदर को भी टीवी देखने में आता है मजा... भारत के महान शहीदों और वीरो से संबंधित जानकारी और तथ्य ...तो जियो यूजर्स को 31 मार्च 2017 के बाद भी मिल सकती है फ्री सेवा इसलिए लिया भगवान श्री गणेश ने विकट अवतार बाप रे! इतनी ठंड की बर्फ में लोमड़ी तक जम गई... OMG यह है अजीबोगरीब परम्परा : यहाँ हजारों लोगों के बीच भस्म हुआ मंदिर... रिकार्ड बनाकर भी न्यूजीलैंड से हारा बांग्लादेश डि'विलियर्स ने अटकलों पर लगाया विराम, नहीं लेंगे किसी भी फॉर्मेट से सन्यास भूमि अधिग्रहण के खिलाफ हिंसक आंदोलन, फायरिंग में एक की मौत 9 बाइक चोर आठ बाइक के साथ रंगे हाथ पकडे गए... हार्दिक ने सरकार को ललकारा, कहा- आरक्षण नहीं देंगे तो छीन कर लेंगे ट्रेलर रिलीज : बोल्डनेस का सबूत देती है 'माया' रिश्वत लेते महिला कर्मी रंगेहाथ गिरफ्तार भारत अकेले शांति के रास्ते पर नहीं चल सकता: मोदी नहीं रहे चांद पर जाने वाले आखिरी व्यक्ति एक वीडियो ने रातों-रात बना दिया स्टार पाक सिंगर को... साईकिल को मिला हाथ का साथ, यूपी में महागठबंधन का फार्मूला तय: कांग्रेस 80, सपा 280 व आरएलडी को 20 सीटें
नोटबंदी का विरोध 125 करोड देशवासियों का विरोध है : जितेंद्र सिंह
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 08:07:49 PM
1 of 1

नई दिल्ली।   राज्यमंत्री जितेन्द्रसिंह ने सोमवार को कहा कि राजग सरकार को घेरने की संयुक्त रणनीति पर विपक्षी दलों में मतभेद सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि यह विरोध लोगों के लिए नहीं था बल्कि ऐसा लगता है कि यह देश। 

वित्त राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि विपक्षी दल बंटे हुए हैं। पहले उन्हें आपस में एकता कायम करनी चाहिए। लोग सरकार के कदम का समर्थन कर रहे हैं, लेकिन विपक्षी दल इस मुद्दे पर बंटे हुए हैं।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि उन्होंने (कांग्रेस पार्टी) किसी आह्वान या भारत बंद का समर्थन नहीं किया है। 

कुछ विपक्षी दल भी यहां एकत्र हुए और उन्होंने प्रधानमंत्री  की संसद के बाहर की गई टिप्पणी पर उनसे माफी मांगने के लिए दबाव डालने का फैसला किया। मोदी ने कहा था कि विपक्षी दल नोटबंदी विपक्षी दल नोटबंदी का विरोध करके काले धन का समर्थन कर रहे हैं।   

कांग्रेस  नेता जयराम रमेश ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘धमाका’ राजनीति में भरोसा रखते हैं और बड़े नोटों को बंद करने का फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि उन्हें उत्तर प्रदेश में कुछ संभावनाएं दिखाई दीं जहां अगले साल चुनाव होने हैं. उन्होंने दावा किया कि विदेशों में जमा कालेधन को वापस लाने के प्रधानमंत्री के बड़े चुनावी वादे को पूरा करने में सरकार की नाकामी को ढकने के लिए 1000 और 500 रुपये के नोटों को बंद किया गया है। 

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.