संजीवनी टुडे

News

ट्विटर अकाउंट हो आज ही करे सिक्योर इन तरीको से

Sanjeevni Today 02-12-2016 15:03:18

नई दिल्ली। सोशल में हैकिंग से जिस तरह हलचल मची हुई सब लोग चिंतित है। राहुल गाँधी के ट्विटर अकाउंट हैक होने का बाद हलचल मच गयी। इसीलिए हम आपको कुछ टिप्स दे  रहे है जिससे आप अपने अकाउंट को सिक्योर कर सकते है। 

हर जगह से लॉग इन न करें: सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने की हड़बड़ी में आप किसी भी सिस्टम से अपना अकाउंट मत खोलिए। ऐसा कर आप कॉमन सिस्टम पर किसी और को अपने अकाउंट को एक्सेस करने का राइट दे सकते हैं। लॉगइन करते समय ब्राउजर आपको सेव पासवर्ड का ऑप्शन देता। इसपर क्लिक करते ही आपका यूजर नेम और पासवर्ड ब्राउजर में सेव हो जाता है। फिर कोई भी आपका अकाउंट एक्सेस कर सकता है। अगर कभी कॉमन सिस्टम से लॉगिन की नौबत आए तो सेव पासवर्ड बॉक्स को अनचेक कर दें। ईमेल या मैसेज को अवॉइड करें: ऐसे ईमेल या ट्विटर-फेसबुक पर मिले मैसेज को अनदेखा करें जो आपसे किसी तरह के नए एक्शन को करने के लिए कहे। ये ईमेल वायरस, वीडियो वायरस या ऑडियो वारस हो सकते हैं और आपके लिए बुरा साबित हो सकता है। 

स्पैम लिंकः सोशल मीडिया पर स्पैम लिंक्स की संख्या बेहद ज्यादा है। वक्त वक्त पर ऐसे लिंक्स सामने आते रहते हैं। हाल में, फेसबुक पर ऐसा ही स्पैम सामने आया जिसमें किसी दोस्त के नाम से आपको एक लिंक भेजा जाता था। आप किसी भी अपिरिचित से लगने वाले लिंक को खोले, उससे पहले अपने दोस्त से उसकी पूछताछ जरूर कर लें। क्रोम ब्राउजर का ही इस्तेमाल करें: हमेशा क्रोम ब्राउजर का ही उपयोग करें क्योंकि क्रोम ब्राउजर फिशिंग पेज को पहचानता है। 

एंटी वायरस यूज करें और उसे हमेशा अपडेट रखें
एंटी वायरस डालें: प्रीमियम एंटी वायरस यूज करें और उसे हमेशा अपडेट रखें। समय समय पर अपने कंप्यूटर और स्मार्टफोन को उससे स्कैन करते रहें। पासवर्ड बदलते रहें: वक्त वक्त पर अपना पासवर्ड बदलते रहें। पासवर्ड का सिक्वेंस कभी आसान ना रखें, हमेशा कुछ ऐसे पासवर्ड का चुनाव करें जो लोगों की सोच से परे हैं।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

Watch Video

More From technology