इस तरह करेंगे एकादशी व्रत, तो अवश्य मिलेगा दिव्य फल... देश और दुनिया के इतिहास में 18 अगस्त की महत्वपूर्ण घटनाएं आकर्षक दिखने के लिए अपने नेल्स को डिफरेंट लुक कैसे दे, जानिए... कैसे जानें कि वह आपसे प्यार करता है या नहीं घर के इन सामानों की भी होती है एक्सपाइरी डेट शिविर में 500 लोगो का स्वास्थ्य जांचा अजा एकादशी पर व्रत रखकर करें भगवान विष्णु की पूजा, मिलेगी सभी कष्टों से मुक्ति नेवी ब्लू का ये मिक्स-मैच देगा आपको परफेक्ट लुक 18 अगस्त: जानिए अजा एकादशी व्रत और कथा के बारे में… पुरुषों के मुकाबले ज्यादा तेज होता है महिलाओं का दिमाग रोजाना साइकिलिंग करने से रहेगा आपका शरीर एक दम फिट ज्यादातर लोगो की पहली पसंद होती है ब्लैक कलर जानिए, अपने होने वाले पार्टनर से क्या चाहती है लड़की प्रदेश के फायदे की रिफाइनरी को केन्द्र से मिली मंजूरी, एचपीसीएल के साथ कम्पनी गठन का करार मांगो को लेकर 22 अगस्त को बैंककर्मियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल वन्य जीवों के प्रजनन हेतु माकूल है नाहरगढ़ बॉयोलॉजिकल पार्क कानून व्यवस्था को मुद्दा बनाकर कहा, भाजपा सरकार में संगठित तरीके से हो रहा अपराध बार्सिलोना में मौंत बनकर दौड़ी वैन, दो की मौत उदयपुर में बनेगा विश्वस्तरीय बर्ड पार्क, होगा पर्यटन एवं शोध के केन्द्र के रूप में विकसित मलाला को ऑक्‍सफोर्ड विश्वविद्यालय में मिला दाखिला
संतृत्प वसा युक्त भोजन से बढ़ जाता है कैंसर का खतरा
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 11:59:27 PM
1 of 1

देश में प्रोस्टेट कैंसर तीसरा सबसे प्रमुख कैंसर है, और इसके लिए विपरीत किस्म के जीन जिम्मेदार हैं, परंतु अस्वास्थ्यकर जीवनशैली भी इसमें भरपूर योगदान करता है। संतृत्प वसा युक्त भोजन से इस कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। प्रारंभिक अवस्था में प्रोस्टेट कैंसर का 100 प्रतिशत निदान संभव है। प्रोस्टेट को बढ़ने में समय लगता है, इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि पुरुष इसकी जांच समय रहते करवा लें।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल तथा आईएमए के मानद महासचिव डॉ. आर. एन. टंडन ने एक संयुक्त वक्तव्य में कहा, "ग्रामीण क्षेत्रों से शहरी क्षेत्रों की ओर पलायन बढ़ने, जीवन शैली में बदलाव, अधिक जागरूकता, और प्रभावी चिकित्सा की उपलब्धता से अनेक मामलों में प्रोस्टेट कैंसर की जांच समय से होने लगी है। इस बीमारी की वृद्धि में हम पश्चिमी देशों से कतई पीछे नहीं हैं। एक ही जगह पर घंटों तक बैठे रहने और मोटापे के कारण भी पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर होने लगा है।"


उन्होंने कहा, "संतृप्त वसा की अधिकता वाले भोजन से प्रोस्टेट कैंसर का खतरा पैदा हो सकता है। प्रोस्टेट कैंसर की सर्जरी के पश्चात, पशुओं से प्राप्त उच्च संतृप्त वसा युक्त भोजन लेने वाले पुरुषों में सामान्य पुरुषों के मुकाबले, यह रोग होने का खतरा दोहरा हो जाता है।"

डॉ. अग्रवाल ने कहा, "एक बार पुष्टि होने के बाद अगला चरण होता है इसका दवाओं और सर्जरी के जरिए इलाज कराना। आम तौर पर, दवाइयों को मिला जुलाकर दिया जाता है ताकि प्रोस्टेट ग्रंथि का आकार बढ़ने से रोका जा सके। इसे कॉम्बिेनशन थेरेपी भी कहते हैं। प्रोस्टेट कैंसर के मरीजों को ये दवाएं छह से 12 माह तक दी जाती हैं। दूसरी अवस्था होती है सर्जरी की, वह तब जब कैंसर तेजी से फैल रहा हो। आजकल तो लेसर तकनीक से भी प्रोस्टेट कैंसर को हटा दिया जाता है।"



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.