loading...
loading...
loading...
GOOGLE की सहायता से सिद्धू देंगे पंजाबी संस्कृति को बढ़ावा दूल्हे की सच्चाई का पता चला तो दुल्हन रह गई सन्न बारिश में भीगते हुए करीना की ये तस्वीरें हुई वायरल, देखें तस्वीरें सिर्फ 100 रुपए के लिए शराबी बेटे ने कर दी मां की हत्या सीरिया के मयादीन में स्थित आईएस संचालित जेल पर हमला ,60 लोगों की मौत तीन दिवसीय विदेश यात्रा पूरी कर लौटे मोदी, सुषमा ने किया एयरपोर्ट पर स्वागत शिवसेना ने बांधे मोदी की तारीफों के पुल, कहा- उनके शब्दों में निश्चित ही दम है Video: 'टॉयलेट- एक प्रेम कथा' का गाना हंस मत पगली... रिलीज यहां पर एक ऐसे बच्चे ने लिया जन्म जिसका नहीं है सिर! अपराधी लड़की ने कारोबारी को शराब पिलाकर कर दिया अचेत और फिर... 1.61% की गिरावट के साथ नैस्डेक 6146.62 पर बंद राष्ट्रपति चुनाव: सोनिया मनमोहन की मौजूदगी में मीरा कुमार ने भरा नामांकन डॉलर के मुकाबले रुपए में आई 2 पैसे की गिरावट वेनेजुएला के सुप्रीम कोर्ट पर आंतकी हमला कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार को 100 में से 1 नंबर दूंगी: मायावती ऑटो से उतरते वक्त अपराधियों ने युवती के हाथ छीना मोबाइल और फिर... जीएसटी लागू करने की तैयारी पूरी, पर्लियमेंट के सेंट्रल हॉल में हो रहा है रिहर्सल सुरक्षा व्यवस्था के लिए US देगा भारत को संसाधन और तकनीक: अमेरिकी उपराष्ट्रपति शाहरुख़ के साथ इस फिलं में काम करने से करीना ने किया इंकार, ये है वजह एक ऐसा किला जिसकी दीवारों से टपकता था खून और रात में...
गुलाब के कुछ घरेलू उपयोग
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 06:31:18 AM
1 of 1

हृदय रोग में गुलाब के फूलों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर गाय के दूध के साथ सेवन करने से हृदय विकार नष्ट होते हैं।


– सफेद चंदन, शुद्ध कस्तूरी को गुलाब के अर्क में मिलाकर नाक में बूंद-बूंद डालने से हृदय शूल नष्ट होता है।
– गुलाब के रस को कान में बूंद-बूंद डालने से कर्णशूल तुरन्त नष्ट होता है।
– गुलाब के अर्क में चंदन का तेल मिलाकर मालिश करने से शीतपित्त नष्ट होता है।
– गुलाब के अर्क में श्वेत चंदन और कुछ कपूर पीस कर माथे पर लेप करने से सिर का दर्द नष्ट हो जाता है।


– गुलाब जल में चंदन मिलाकर लेप करने से दाह नष्ट होता है।
– गुलाब के फूलों को पीसकर योनि में रखने से गर्भाशय शूल नष्ट होता हैं। इससे प्रदर रोग में भी लाभ होता है और योनि में संकोचन भी करता है। 
– गुलाब के फूलों के बीजों को प्रतिदिन खाने से दांत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं, दांतों से खून आना बंद हो जाता है।
– गुलाब के अर्क में शुद्ध रसौत, फिटकरी का फूल, सेन्धा नमक और मिश्री को समान मात्र में मिलाकर, बारीक वस्त्र में छानकर, बूंद-बूंद नेत्रों में डालने से नेत्र रोगों में बहुत लाभ होता है।


– गुलाब जल में श्वेत चंदन और बादाम की गिरी पीस कर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की सुंदरता विकसित होती है।
– गुलाब के इत्र में कपूर मिलाकर शिश्न पर लेप करने के एक घंटे बाद सहवास करने शीघ्रपतन की बीमारी नष्ट होती है।
– गुलाब के फूल, लौंग, अकरका और शीतल चीनी कूट पीस कर चूर्ण बनाकर गुलाब जल के साथ गोलियां बनाकर चूसने से मुंह की दुर्गन्ध नष्ट होती है।
– गुलाब के फूलों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर गाय के दूध से सेवन करने पर प्रदर रोग के साथ पेशाब में जलन भी नष्ट हो जाती है।
– उष्ण जल में गुलाब के सूखे फूल डालकर 10-15 मिनट तक ढक कर रखें। फिर छानकर मधु के साथ सेवन करने से कब्ज नष्ट होती है और यह प्रौढ़ स्त्री-पुरूषों के लिए शक्तिदायक भी है।
– गुलाब के जल में इलायची, गुलाब के फूल और धनिया पीसकर सेवन करने से अम्लपित की विकृति दूर होती है।

 

  



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.