मंत्री जी चुरू के लोक देवता गोगा जी के मेले में पहुंचे, पहनी सांपों की माला MNP में अब नहीं होगी देरी, ट्राई बदलेगा नियम कुदरत का खेल: दिल की धड़कन 3 साल से बंद, फिर भी जिन्दा! राहुल गाँधी तुम्हारे पुरखे चले गए RSS की शिकायत करते-करते: बीजेपी तेलुगु सुपरस्टार नंदामुरी बालाकृष्ण को आया गुस्सा, जड़ा फैन को थप्पड़ सीकर में फौजी पर तेज धारदार हथियार से किया हमला, मौके पर ही मौत अखिलेश यादव पुलिस हिरासत से रिहा, कई जिलों में उग्र प्रदर्शन अमेरिकी कंपनियों को पसंद नहीं 'मेक इन अमेरिका' : ट्रंप इस बच्चे के शरीर पर अपने आप लग जाती है आग चंद्रशेखर को राजस्थान का संगठन महामंत्री बनाया एनएचएआई ने इलेक्ट्रोनिक टोल संग्रह के लिए फास्ट टैग की उपलब्धता सुगम करने के लिए उठाए कदम रोजाना 4 कप कॉफी का सेवन त्वचा कैंसर से रखता है दूर सड़को पर नमाज नहीं रोक सकता तो थानों में जन्माष्टमी क्यों रोकूं: योगी उत्तर प्रदेश मे कैदियों को रिहा करने की योजना तैयार, परिजनों को देख भर आई आंखें कतर के मुसलमान भी जा सकते है हज, सऊदी अरब ने खोला बॉर्डर महिलाएं भी अपराध करने में पुरषो से कम नहीं, अंजाम देने में माहिर दिमाग को स्वस्थ और तरोताजा बनाए रखने के लिए रोजाना करे ये काम... पूर्व राष्ट्रपति की बेटी को 1 रुपए किराये पर मिली थी जमीन, कांग्रेस सरकार फिर कठघरे में BF से छुटकारा पाने के लिए GF ने अपनाया ये अनोखा तरीका... पैनासोनिक ने लॉन्च किया Panasonic Eluga i2 Activ स्मार्ट फीचर्स के साथ
गुलाब के कुछ घरेलू उपयोग
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 06:31:18 AM
1 of 1

हृदय रोग में गुलाब के फूलों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर गाय के दूध के साथ सेवन करने से हृदय विकार नष्ट होते हैं।


– सफेद चंदन, शुद्ध कस्तूरी को गुलाब के अर्क में मिलाकर नाक में बूंद-बूंद डालने से हृदय शूल नष्ट होता है।
– गुलाब के रस को कान में बूंद-बूंद डालने से कर्णशूल तुरन्त नष्ट होता है।
– गुलाब के अर्क में चंदन का तेल मिलाकर मालिश करने से शीतपित्त नष्ट होता है।
– गुलाब के अर्क में श्वेत चंदन और कुछ कपूर पीस कर माथे पर लेप करने से सिर का दर्द नष्ट हो जाता है।


– गुलाब जल में चंदन मिलाकर लेप करने से दाह नष्ट होता है।
– गुलाब के फूलों को पीसकर योनि में रखने से गर्भाशय शूल नष्ट होता हैं। इससे प्रदर रोग में भी लाभ होता है और योनि में संकोचन भी करता है। 
– गुलाब के फूलों के बीजों को प्रतिदिन खाने से दांत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं, दांतों से खून आना बंद हो जाता है।
– गुलाब के अर्क में शुद्ध रसौत, फिटकरी का फूल, सेन्धा नमक और मिश्री को समान मात्र में मिलाकर, बारीक वस्त्र में छानकर, बूंद-बूंद नेत्रों में डालने से नेत्र रोगों में बहुत लाभ होता है।


– गुलाब जल में श्वेत चंदन और बादाम की गिरी पीस कर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की सुंदरता विकसित होती है।
– गुलाब के इत्र में कपूर मिलाकर शिश्न पर लेप करने के एक घंटे बाद सहवास करने शीघ्रपतन की बीमारी नष्ट होती है।
– गुलाब के फूल, लौंग, अकरका और शीतल चीनी कूट पीस कर चूर्ण बनाकर गुलाब जल के साथ गोलियां बनाकर चूसने से मुंह की दुर्गन्ध नष्ट होती है।
– गुलाब के फूलों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर गाय के दूध से सेवन करने पर प्रदर रोग के साथ पेशाब में जलन भी नष्ट हो जाती है।
– उष्ण जल में गुलाब के सूखे फूल डालकर 10-15 मिनट तक ढक कर रखें। फिर छानकर मधु के साथ सेवन करने से कब्ज नष्ट होती है और यह प्रौढ़ स्त्री-पुरूषों के लिए शक्तिदायक भी है।
– गुलाब के जल में इलायची, गुलाब के फूल और धनिया पीसकर सेवन करने से अम्लपित की विकृति दूर होती है।

 

  



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.