B' day special: सिमी ग्रेवाल ने मनाया 70वां जन्मदिन, जामनगर के महाराजा से था अफेयर क्यों नहीं आ रहे है ATM से 200 रुपये के नोट? ये रहा जवाब कादर खान ना बोलते ना चलते, तस्वीर वायरल BSF ने सुचेतगढ़ इलाके से पाकिस्तानी घुसपैठिये को किया गिरफ्तार इस शिव मंदिर की मूर्तियों को छूने से डरते है लोग उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच कभी भी हो सकता है परमाणु युद्ध : किम इन यॉन्ग हर महीने लाखों रुपए कमाती है 8 साल की ये लड़की मुख्यमंत्री राजे ने की, अजमेर से अन्नपूर्णा रसोई के दूसरे चरण की शुरुआत बच्चो के ट्विटर पर बने फर्जी अंकाउट को लेकर भड़के सचिन इस अनोखी शादी के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग! Park में खेलते हुए लड़के को मिला दुनिया का दुर्लभ ब्राउन डायमंड B'day special: 47वें जन्मदिन पर कुंबले को नहीं किया कोहली ने विश संतोषी की मां कोईली देवी ने कहा -"मेरी बेटी भूख से मर रही थी और वो आधार मांग रहे थे" अनोखा गांव: यहां पर सिर्फ प्लास्टिक की बोतलों से बने हुए है घर ट्रक ड्राइवर ने 35 ओवर के मैच में 40 छक्के जड़कर बनाया तिहरा शतक पनामा पेपर लीक मामले को सामने लाने वाली पत्रकार की हुई मौत ताजमहल भारतीय मजदूरों के खून-पसीने से बना है: CM योगी 21 और 22 अक्टूबर 2017 को मनाई जाएगी युगावतार बहाउल्लाह के जन्म की 200वी वर्षगांठ विराट-अनुष्का की ये तस्वीर देख थम जाएंगी आप की निगाहे कैदी ने हाथ की नस काटकर जान देने का किया प्रयास
गुलाब के कुछ घरेलू उपयोग
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 06:31:18 AM
1 of 1

हृदय रोग में गुलाब के फूलों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर गाय के दूध के साथ सेवन करने से हृदय विकार नष्ट होते हैं।


– सफेद चंदन, शुद्ध कस्तूरी को गुलाब के अर्क में मिलाकर नाक में बूंद-बूंद डालने से हृदय शूल नष्ट होता है।
– गुलाब के रस को कान में बूंद-बूंद डालने से कर्णशूल तुरन्त नष्ट होता है।
– गुलाब के अर्क में चंदन का तेल मिलाकर मालिश करने से शीतपित्त नष्ट होता है।
– गुलाब के अर्क में श्वेत चंदन और कुछ कपूर पीस कर माथे पर लेप करने से सिर का दर्द नष्ट हो जाता है।


– गुलाब जल में चंदन मिलाकर लेप करने से दाह नष्ट होता है।
– गुलाब के फूलों को पीसकर योनि में रखने से गर्भाशय शूल नष्ट होता हैं। इससे प्रदर रोग में भी लाभ होता है और योनि में संकोचन भी करता है। 
– गुलाब के फूलों के बीजों को प्रतिदिन खाने से दांत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं, दांतों से खून आना बंद हो जाता है।
– गुलाब के अर्क में शुद्ध रसौत, फिटकरी का फूल, सेन्धा नमक और मिश्री को समान मात्र में मिलाकर, बारीक वस्त्र में छानकर, बूंद-बूंद नेत्रों में डालने से नेत्र रोगों में बहुत लाभ होता है।


– गुलाब जल में श्वेत चंदन और बादाम की गिरी पीस कर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की सुंदरता विकसित होती है।
– गुलाब के इत्र में कपूर मिलाकर शिश्न पर लेप करने के एक घंटे बाद सहवास करने शीघ्रपतन की बीमारी नष्ट होती है।
– गुलाब के फूल, लौंग, अकरका और शीतल चीनी कूट पीस कर चूर्ण बनाकर गुलाब जल के साथ गोलियां बनाकर चूसने से मुंह की दुर्गन्ध नष्ट होती है।
– गुलाब के फूलों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर गाय के दूध से सेवन करने पर प्रदर रोग के साथ पेशाब में जलन भी नष्ट हो जाती है।
– उष्ण जल में गुलाब के सूखे फूल डालकर 10-15 मिनट तक ढक कर रखें। फिर छानकर मधु के साथ सेवन करने से कब्ज नष्ट होती है और यह प्रौढ़ स्त्री-पुरूषों के लिए शक्तिदायक भी है।
– गुलाब के जल में इलायची, गुलाब के फूल और धनिया पीसकर सेवन करने से अम्लपित की विकृति दूर होती है।

 

  



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.