loading...
loading...
loading...
पाकिस्तान में पहली बार इस हिंदी फिल्म का बनेगा रीमेक दुनिया भर में कई कंपनियों पर साइबर हमला, सबसे बुरा असर यूक्रेन पर खड़े ट्रक में अनियंत्रित होकर घुसी कार, 5 लोग घायल सिक्किम से सेना हटाओ, नहीं तो कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू नहीं होगी: चीन Video: 'जग्गा जासूस' की शूटिंग के दौरान रणबीर को हिम्मत देती नजर आई कैटरीना तस्करी के मामले में आरोपी को10 साल की कैद, 1 लाख 5 हजार का जुर्माना महागठबंधन और राष्ट्रपति चुनावों को लेकर नेताओ ने पार्टी प्रवक्ताओं को दी फालतू बयान ना देने की सलाह मानसरोवर यात्रा के लिए चीन ने रखी भारत के सामने शर्त, कहा- पहले सिक्किम से हटे भारतीय सैनिक चोरो ने की 7 घरों से 7 लाख की चोरी फाइनेंसियल ईयर में निफ्टी पहुंच सकता है10,300 से 10,400 के स्तर पर: HDFC सिक्युरिटीज आज अंतिम दिन राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार दाखिल करेगी नामांकन 100 दिन पूरे: विपक्ष का योगी सरकार पर हमला, कहा- सब अखिलेश का किया धरा है नया कुछ नहीं है युवती की संदिग्ध हालात में हुई मृत्यु वित्त मंत्री ने की बिटकॉइन पर अंतर- मंत्रालय बैठक इस 'इंटरकोर्स' शब्दों को लेकर विवादों में फंसी 'जब हैरी मेट सेजल' नशे पर रोकथाम: 'ब्रेथ एनालाइजर' के जरीय हो रही है स्कूल बसों के ड्राइवर खल्लासियों की जांच दुष्कर्म मामले पर हुई मारपीट, 5 युवक घायल सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल टेररिस्ट घोषित किया जाना अनुचित: पाक मोदी- ट्रंप मुलाकात से बौखलाया चीन, कहा- अमेरिका से मिलकर चीन के मुकाबले खड़े होने की भारत की कोशिश विफल राजस्थान में मानसून का प्रवेश, पंजाब हरियाणा में अगले 3 दिनों में मानसून पहुंचने के आसार: मौसम विभाग
छोटे बच्चे भी पकड़ लेते है झूठ, इस तरह हुआ खुलासा
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 05:39:30 AM
1 of 1

नई दिल्ली। छोटे बच्चे भी दूसरे की झूठी बातों को समझ सकते हैं। एक नए अध्ययन के अनुसार महज ढाई साल के बच्चे भी लोगों के झूठ, धोखेबाजी और बहानेबाजी को पहचान लेते हैं।
शोधकर्ताओं ने 140 से ज्यादा बच्चों की क्षमताओं का परीक्षण करने के बाद यह दावा किया है। उन्होंने बच्चों की इस क्षमता का पता लगाने के लिए एक विशेष तरीका अपनाया।


उन्होंने बच्चों के सामने कुछ गलत धारणाएं रखीं। उन्हें अनुमान था कि इसे समझने के लिए बच्चों का ज्यादा विकसित होना जरूरी था। साथ ही उन्हें कई सूचनाओं की जरूरत होगी। लेकिन नतीजों ने दिखाया कि बच्चे पूर्वानुमान के विपरीत ज्यादा विकसित साबित हुए। उन्होंने प्रस्तुत की गई धारणाओं में की गई फेरबदल को पहचान लिया। हालांकि वे इसे प्रदर्शित कर पाने में सक्षम नहीं थे। सिंगापुर की नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता सेटोह पी पी ने कहा, युवा बच्चों के माता-पिता और शिक्षकों को इस बारे में जागरूक रहना चाहिए कि बच्चे झूठ को पकड़ लेते हैं। 

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.