2001 में भारत पर एटमी हमले का था प्लान, पर जवाबी कार्यवाही से डर रहे थे मशर्रफ हरमनप्रीत ने खोला राज, क्यों मारती है लम्बे-लम्बे हिट ए जेंटलमैन' का दूसरा गाना 'बात बन जाए' जारी हुआ अब्दुल कलाम पुण्य तिथि विशेष : जब आपका दस्तखत ऑटोग्राफ बन जाए तो समझो आप सफल ... PORN STAR की इन बातों के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग! आखिर पता चल ही गया बरमूडा ट्रैंगल का रहस्य चीन पहुंचे डोभाल, डोकलाम पर होगी बात, रणनीति बनाने में जुटा है भारत संजय दत्त की फिर बड़ी मुश्किलें, दोबारा जा सकते है जेल यहां पर बोतल में कंडोम लगाकर बनाई जाती है शराब! कर्मचारियों के शरीर में लगेगी ये अनोखी चिप, कैसे होगी मददगार जानिए... LIVE INDvsSL: श्रीलंका बैकफुट पर, आधी टीम पेवेलियन लोटी, स्कोर 150 पार पुण्य तिथि विशेष : जानिए, शोले के 'गब्बर' का सफर हार्दिक पांड्या ने बनाया रिकॉर्ड, नहीं है किसी भारतीय के नाम इस अनोखी शादी के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे दंग! JDU में बगावत के सुर शुरू, राहुल-शरद यादव की मुलाकात से फिर बिगड़ सकता है बिहार का गणित पगड़ी की वजह से नहीं मिला सिख छात्र को दाखिला, परिवार ने दी चुनौती एयरटेल ने जियो को टक्कर देने के लिए लॉन्च किया है धमाकदार ऑफर जिस गड्ढ़े को लोग समझ रहे थे खरगोश का बिल, वह निकली एक रहस्यमयी गुफा! अश्लील वीडियो बनाकर पूर्व एयर होस्टेस से किया तीन महीने तक दुष्कर्म LIVE INDvsSL: उपुल तरंगा-मैथ्यूज के बीच हुई अर्धशतकीय साझेदारी, स्कोर 100 के पार
शोध: 55 घंटे काम करने वाले लोगों को हो सकता है दिल के दौरे का खतरा
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 11:26:07 AM
1 of 1

लंदन। एक शोध में पता चला है कि ऐसे लोग जो सप्ताह में 35 से 40 घंटे काम करते हैं, उनकी तुलना में 55 घंटे काम करने वालों में आट्रियल फाइब्रलेशन के होने की संभावना करीब 40 फीसदी होती है। 


आपको बता दे की यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफेसर मिका किविमाकी ने कहा, "उन लोगों में अतिरिक्त 40 फीसदी जोखिम बढ़ना एक गंभीर खतरा है, जिन्हें पहले ही दूसरे कारकों जैसे ज्यादा उम्र, पुरुष, मधुमेह, उच्च रक्त चाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, मोटापा धूम्रपान व शारीरिक गतिविधि नहीं करने से दिल के रोगों का ज्यादा खतरा है या जो पहले ही दिल के रोगों से पीड़ित हैं।"


किविमाकी ने कहा, "यह उन प्रक्रियाओं में से एक हो सकता है जिसे पहले के अध्ययनों में लंबे समय तक काम करने वालों में स्ट्रोक के खतरे की संभावना बताई गई है। आट्रियल फाइब्रलेशन स्ट्रोक के विकास व स्वास्थ्य पर दूसरे प्रतिकूल असर डालता है। इसमें हार्ट फेल्योर व स्ट्रोक से जुड़े डेमेंशिया शामिल हैं।" इस शोध का प्रकाशन 'यूरोपियन हार्ट जनरल' में किया गया है। 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.