महाराष्ट्र BMC चुनावः पंकजा मुंडे ने की इस्तीफा देने की घोषणा विश्व महिला शतरंज के सेमीफाइनल में पहुंची हरिका LIVE Ind vs Aus 1st Test: भारतीय गेंदबाजी के सामने ऑस्ट्रेलिया ने टेके घुटने, पारी सिमटने के करीब VIDEO: भोजपुरी डांस को बदला खुलेआम अश्लीलता में .. पृथ्वी से लेकर आकाश और जल से लेकर अग्नि... हर तत्व में विराजमान हैं शिव चंडीगढ़ में आईटी पार्क के पास सड़क किनारे 8 फीट लम्बा अजगर मिला! बहराइच में LIVE मोदी: अखिलेश को PM का जवाब- मैं गधे की तरह देश के लिए करता हूं काम शरण चाहने वाले 18 अफगान नागरिकों को जर्मनी से वापस भेजा काबुल B.D.P.O. ऑफिस में मुख्यमंत्री का स्वच्छ हरियाणा अभियान पूरी तरह फेल! VIDEO: इन हॉलीवुड एक्ट्रेसेस ने पहनी ऐसी ड्रेस, जिसे देख आप को भी आजाएगी हंसी US से बाहर जॉब देने की तैयारी कर रही दिग्गज फर्म्स के प्रतिनिधियों से चर्चा करेंगे ट्रंप पनामागेट मामले में पाक पीएम नवाज शरीफ पर शीर्ष अदालत में सुनवाई, सभी दलों के नेता मौजूद पत्थरों के शहर चंडीगढ़ की खूबसूरती में चार चांद लगायेंगी सात कलाकृतियां! देखिये VIDEO, कैसे बोल रहा है यूपी में अखिलेश का काम? LIVE INDvsAUS: ऑस्ट्रेलिया को लगा चौथा झटका, स्कोर 153/4 जानिए, राहुल ने की इस तरह PM मोदी से मुलाकात की एक्टिंग इस साल भारतीय कंपनियों में हो सकती है 9.5% वेतन वृद्धि Video: सरसो के खेत में बाहें फैलाये किसका इन्तजार कर रही है माहिर खान हाफ पैंट और गंजी में दंडवत करते हुए विधानसभा पहुंचे BJP विधायक यूपी चुनाव 2017: आज बहराइच और बस्ती में जनसभा को संबोधित करेंगे पीएम मोदी
मिर्गी आने पर हो सकता है मौत का खतरा।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 06:41:12 AM
1 of 1

वाशिंगटन। अक्सर इंसान इस बारे में नही सोचते की उन्हे किस तरह सोना चाहीये। उनकी सोने की स्थिति के बारे में अंदाजा भी नही लगाया जा सकता की उनकी सोने की स्थिति सकारात्मक है या नकारात्मक। पेट के बल सोने से पेट के बल सोने वाले मिर्गी से ग्रस्त मरीजों में आकस्मिक मौत का खतरा अधिक है। यह शिशुओं की आकस्मिक मृत्यु के लक्षणों के समान है। यह बात एक शोध में सामने आई है। मिर्गी मस्तिष्क संबंधी बीमारी है जिसमें मरीज को बार-बार दौरे पड़ते हैं। विश्व भर में लगभग पांच करोड़ लोग इससे पीड़ित हैं।
 
इलिनोइस में शिकागो विश्वद्यिालय के जेम्स ताओ ने कहा... 
अनियंत्रित मिर्गी में मौत का मुख्य कारण आकस्मिक मृत्यु है और आमतौर पर यह सोने के दौरान ही होती है। इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 25 अध्ययनों की समीक्षा की, जिसमें शामिल 253 आकस्मिक मृत्यु के मामलों में लोगों की शारीरिक स्थिति को दर्ज किया गया। इस अध्ययन में पाया गया कि पेट के बल सोने की स्थिति के मामलों में 73 प्रतिशत लोगों की मौत हो गई, जबकि 27 प्रतिशत लोगों के सोने की स्थिति अलग थी। शिशुओं के मामलों की तरह ही वयस्कों में अक्सर दौरे के बाद जागने की क्षमता नहीं होती। विशेष रूप से सामान्य दौरे में। अध्ययन में मिर्गी से आकस्मिक मौत से बचाव के लिए एक महत्वपूर्ण रणनीति को बताया गया है। 'कमर के बल सोना ही यह महत्वपूर्ण रणनीति है। कलाई घड़ी और बेड अलार्म के इस्तेमाल से सोने के दौरान इस तरह की मृत्यु से बचाव में मदद मिल सकती है। यह अध्ययन ऑनलाइन जर्नल न्यूरोलॉजी में प्रकाशित हुआ है।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.