‘गोलमाल अगेन’ को लेकर लोगों ने दिया ये Compliment, अजय ने दिए कुछ ऐसे मजेदार जवाब वीरेंद्र सहवाग के ‘दर्जी’ बुलाने पर रॉस टेलर ने दिया कुछ ऐसा जवाब... छेड़खानी के डर से लोकल ट्रेन से कूद गई छात्रा 'मर्सल' के GST वाले सीन से राजनीतिक में मची हलचल, रजनीकांत ने की तारीफ श्रीलंका के खिलाफ 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय का ऐलान प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंन्द्र योजना का लाभ उठाकर आप कमा सकते है 30 से 35 हजार मैं फक्कड़ हूं लेकिन दुनिया के खातिर अपनी लाइफस्टाइल नहीं छोड़ सकती: राधे मां बेकाबू होकर ब्रिज से नीचे गिरी बाइक, छात्र की हुई मौत फिल्म प्रमोशन के दौरान राजकुमार राव की टूटी टांग, पहुंचे अस्पताल जन्मदिन पर प्रभास ने फैंस को दिया ये खास तोहफा युवक के मुंह में तमंचा ठूंसकर मार दी गई गोली राजधानी एक्सप्रेस का टिकट कन्फर्म नहीं हुआ तो रेलवे देगा फ्लाइट का टिकट! भारतीय डॉक्टर एेसे कर रहा ISIS की हेल्प, खोज में जुटीं जांच एजेंसियां बिलकिस बानो गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार से 4 हफ्तों में मांगी विस्तार रिपोर्ट देवी षष्ठी माता और भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए की जाती है छठ पूजा मोहसिन रजा ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिलाने के लिए मांगी विधिक राय राजस्थान सरकार के विवादित बिल पर हंगामा, कांग्रेस ने मुंह पर काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन ...तो इसलिए न्यूजीलैंड से पराजित हुई टीम इंडिया क्या सचमुच युद्ध की कोई साजिश रच रहा था चीन? अब 50,000 से ज्यादा कैश ट्रांजेक्शन पर आवश्यक है ओरिजिनल ID
मिर्गी आने पर हो सकता है मौत का खतरा।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 06:41:12 AM
1 of 1

वाशिंगटन। अक्सर इंसान इस बारे में नही सोचते की उन्हे किस तरह सोना चाहीये। उनकी सोने की स्थिति के बारे में अंदाजा भी नही लगाया जा सकता की उनकी सोने की स्थिति सकारात्मक है या नकारात्मक। पेट के बल सोने से पेट के बल सोने वाले मिर्गी से ग्रस्त मरीजों में आकस्मिक मौत का खतरा अधिक है। यह शिशुओं की आकस्मिक मृत्यु के लक्षणों के समान है। यह बात एक शोध में सामने आई है। मिर्गी मस्तिष्क संबंधी बीमारी है जिसमें मरीज को बार-बार दौरे पड़ते हैं। विश्व भर में लगभग पांच करोड़ लोग इससे पीड़ित हैं।
 
इलिनोइस में शिकागो विश्वद्यिालय के जेम्स ताओ ने कहा... 
अनियंत्रित मिर्गी में मौत का मुख्य कारण आकस्मिक मृत्यु है और आमतौर पर यह सोने के दौरान ही होती है। इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 25 अध्ययनों की समीक्षा की, जिसमें शामिल 253 आकस्मिक मृत्यु के मामलों में लोगों की शारीरिक स्थिति को दर्ज किया गया। इस अध्ययन में पाया गया कि पेट के बल सोने की स्थिति के मामलों में 73 प्रतिशत लोगों की मौत हो गई, जबकि 27 प्रतिशत लोगों के सोने की स्थिति अलग थी। शिशुओं के मामलों की तरह ही वयस्कों में अक्सर दौरे के बाद जागने की क्षमता नहीं होती। विशेष रूप से सामान्य दौरे में। अध्ययन में मिर्गी से आकस्मिक मौत से बचाव के लिए एक महत्वपूर्ण रणनीति को बताया गया है। 'कमर के बल सोना ही यह महत्वपूर्ण रणनीति है। कलाई घड़ी और बेड अलार्म के इस्तेमाल से सोने के दौरान इस तरह की मृत्यु से बचाव में मदद मिल सकती है। यह अध्ययन ऑनलाइन जर्नल न्यूरोलॉजी में प्रकाशित हुआ है।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.