भविष्यवाणी- वन-डे सीरीज को टीम इंडिया 4-1 के अंतर से जीतेगी 2022 तक नक्सलवाद और आतंकवाद ख़त्म हो जाएंगे: राजनाथ सिंह अब आपके स्मार्टफोन से खुलेगा सूटकेस का ताला 2022 तक खत्म होगा आतंकवाद और नक्सलवाद: राजनाथ सिंह कुक के दोहरे शतक से इंग्लैंड मजबूत, सचिन के रिकॉर्ड पर मड़राया खतरा सोहा के घर हुआ बेबी शावर का सेलिब्रेशन, भतीजे तैमूर पर टिकी सबकी नज़रें कालाधन नहीं ईमानदारी का पैसा चाहिए: अमित शाह Night Shift में काम करना आपके स्वास्थ्य के लिए हो सकता है हानिकारक मासूम बच्ची का वीडियो देखकर विराट-शिखर ने दिया इमोशनल संदेश वेस्ट बंगाल ज्यूडिशियल डिपार्टमेंट ने नॉन ऑफिशियल मैरिज ऑफिसर पदों के लिए भर्ती गोरखपुर में पीड़ित परिवारों से मिले राहुल, CM योगी बोले - पिकनिक स्‍पॉट न बनाएं अक्षय की पत्नी ट्विंकल ने की 'टॉयलेट...पार्ट 2' की शूटिंग शुरू, देखें PHOTO युवाओं की आकांक्षा भारत का भविष्य तय करेगी: डॉ जितेंद्र सिंह यहां पर नजर आया श्रीलंका में पाया जाने वाला उड़ने वाला सांप गोरखपुर के पीड़ित परिवारों से मिले राहुल गाँधी इस शख्स की कमाई इतनी कि चाह कर भी नहीं कर पाता खर्च! मोस्ट वांटेड क्रिमिनल गदऊ पासी पर बढ़ी इनाम की धनराशि Asus Rog Strix लैपटॉप आकर्षित लुक व बेहतरीन फीचर के साथ फ़िल्मी दुनिया से दूर हैं 'मोहब्बतें गर्ल', परिवार के साथ कर रहीं लाइफ एन्जॉय पाक ने आतंकी बुरहान को बताया नेशनल हीरो, 'आजादी ट्रेन' में लगाए पोस्टर
मिर्गी आने पर हो सकता है मौत का खतरा।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 06:41:12 AM
1 of 1

वाशिंगटन। अक्सर इंसान इस बारे में नही सोचते की उन्हे किस तरह सोना चाहीये। उनकी सोने की स्थिति के बारे में अंदाजा भी नही लगाया जा सकता की उनकी सोने की स्थिति सकारात्मक है या नकारात्मक। पेट के बल सोने से पेट के बल सोने वाले मिर्गी से ग्रस्त मरीजों में आकस्मिक मौत का खतरा अधिक है। यह शिशुओं की आकस्मिक मृत्यु के लक्षणों के समान है। यह बात एक शोध में सामने आई है। मिर्गी मस्तिष्क संबंधी बीमारी है जिसमें मरीज को बार-बार दौरे पड़ते हैं। विश्व भर में लगभग पांच करोड़ लोग इससे पीड़ित हैं।
 
इलिनोइस में शिकागो विश्वद्यिालय के जेम्स ताओ ने कहा... 
अनियंत्रित मिर्गी में मौत का मुख्य कारण आकस्मिक मृत्यु है और आमतौर पर यह सोने के दौरान ही होती है। इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 25 अध्ययनों की समीक्षा की, जिसमें शामिल 253 आकस्मिक मृत्यु के मामलों में लोगों की शारीरिक स्थिति को दर्ज किया गया। इस अध्ययन में पाया गया कि पेट के बल सोने की स्थिति के मामलों में 73 प्रतिशत लोगों की मौत हो गई, जबकि 27 प्रतिशत लोगों के सोने की स्थिति अलग थी। शिशुओं के मामलों की तरह ही वयस्कों में अक्सर दौरे के बाद जागने की क्षमता नहीं होती। विशेष रूप से सामान्य दौरे में। अध्ययन में मिर्गी से आकस्मिक मौत से बचाव के लिए एक महत्वपूर्ण रणनीति को बताया गया है। 'कमर के बल सोना ही यह महत्वपूर्ण रणनीति है। कलाई घड़ी और बेड अलार्म के इस्तेमाल से सोने के दौरान इस तरह की मृत्यु से बचाव में मदद मिल सकती है। यह अध्ययन ऑनलाइन जर्नल न्यूरोलॉजी में प्रकाशित हुआ है।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े....पकडे गए फिल्मों को लीक करने वाले मुन्नाभाई

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.