करीब 160 किलोमीटर गलत रूट पर चली गई ट्रेन, जाना था महाराष्ट्र पहुंच गई मध्यप्रदेश इस भिखारिन ने मंदिर को दान दिए इतने पैसे, जिसे सुन हर कोई रह गया दंग OMG: पब्लिकसिटी पाने के लिए अर्शी खान ने बोले इतने झूट, मां ने किया खुलासा 50वां शतक लगाते ही टॉप टेस्ट रैंकिंग में शामिल हुए कोहली हार्दिक ने कहा, अगले ढाई साल तक कोई भी पार्टी नहीं करूंगा ज्वाइन दक्षिण कश्मीर के शोपियां अस्पताल से ATM मशीन चोरी एसएमएस भेजने के मामले में सबसे बड़ा है यह बैंक फल खाने से बच्चों की तबियत हुई खराब, 4 बच्चों की हालत नाजुक पद्मावती को लेकर CM योगी बोलें- भंसाली भी धमकी देने वाले समूहों की तरह दोषी पेटीएम अधिकारी बनकर धोखाधड़ी करने वाला शख्स हुआ गिरफ्तार IPL में क्रिकेटरों की नीलामी, टीम मालिकों में मतभेद भाजपा प्रत्याशी के दफ्तर के सामने युवक की गोली मारकर कर दी हत्या पहली भारतीय महिला डाॅक्टर रुखमाबाई को Google ने दिया सम्मान 'चायवाले' ट्वीट पर भड़के परेश रावल, कहा- बार-वाला से बेहतर है हमारा चायवाला खून से सने पहाड़ियों में मिले 3 बच्चों के शव, जानिए पूरा मामला प्रद्युम्न हत्याकांड मामले में आज आरोपी स्टूडेंट्स की कोर्ट में होगी पेशी मैक्सवेल और फिंच का बेथ मूनी ने तोड़ा रिकॉर्ड 'पद्मावती' की रिलीज डेट टलने से 'फिरंगी' के साथ इन फिल्मों की भी लगी लॉटरी सैंसेक्स में हुई बढ़ोतरी, निफ्टी 10350 के स्तर पर खुले में शौच करने वालों की शिक्षक करेंगे निगरानी
अस्पताली कचरों से अंजान बना हुआ है विभाग
sanjeevnitoday.com | Monday, July 17, 2017 | 02:42:37 AM
1 of 1

भदोही। सरकारे जनता को उत्कृष्ट एवं नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा रही हैं वहीं दूसरी तरफ चिकित्सालयों से निकलने वाले अस्पताली कचरों (अपशिष्ठ) से होने वाली हानि से विभाग पूरी तरह अंजान बना हुआ है। कचरे के प्रबंधन के लिए वैज्ञानिक तौर तरीके न अपनाए गए तो इससे निकलने वाले विकिरण का दुष्प्रभाव एक स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है।

सरकार ने राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की स्थापना कर जहां गरीबों को नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की दिशा में गंभीर कदम उठाया है तो वहीं योजना मद से एंबुलेंस, भरपूर दवाएं तथा जच्चा-बच्चा के बेहतर स्वास्थ्य की दिशा में भी विभाग बेहग सतर्कता बरत रहा है। सीएचसी, पीएचसी सहित एमबीएस जैसे सरकारी अस्पतालों पर करोड़ों रूपये तो खर्च किए जा रहे है वहीं विभागीय स्तर से लापरवाही भी देखने को मिल रही हैं।

बताते चलें कि अधिकांश फीसद अस्पताल घनी आबादी वाले क्षेत्रों में स्थित हैं। मरीजों के आपरेशन तथा उनके जख्म की साफ-सफाई के बाद निकले अस्पताली कचरे के प्रबंधन की दिशा में ठोस कदम नहीं उठाए जाते। हालात कुछ ऐसे हैं कि अस्पताली कचरे इधर उधर फेंक दिए जाते हैं। 


विशेषज्ञों की रिपोर्ट पर यकीन करें तो उक्त कचरे से उत्पन्न होने वाले विकिरण से अल्सर, कैंसर तथा फेफड़े संबंधी रोगों का खतरा बना रहता है। विडंबना तो यह है कि सरकारी के साथ साथ अधिकतर निजी अस्पतालों में भी कचरा प्रबंधन के विशेष उपाय नहीं किए गए हैं। यही कारण है कि अस्पताल के पीछे तथा अगल बगल मरहम पट्टी वाले अपशिष्ठ देखे जाते हैं। इस मामले में संबंधित विभाग की उदासीनता ¨चता का विषय है। इस बाबत महाराजा बलवंत ¨सह राजकीय अस्पताल के सीएमएस डा.आरपी कुशवाहा का कहना है कि शासन द्वारा निर्धारित मानकों के अनुरूप अस्पताली कचरे को नष्ट किया जाता है। इससे विकिरण जैसी किसी तरह की आशंका नहीं है।

WATCH VIDEO

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.