छह पैसे मजबूत होकर 64.27 रुपए प्रति डॉलर पर हुआ बंद नवरात्र के मौके पर जगमगा उठे माता मंदिर, इस अवसर पर पीएम मोदी और सीएम योगी 9 दिन का रखेंगे उपवास भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा मैच आज 1.30 बजे से होगा प्रसारित अरविंद केजरीवाल चेन्नई दौरे पर, कमल हासन से आज करेंगे मुलाकात 'केदारनाथ' की शूटिंग के लिए सारा अली खान के नखरे देख आप भी रह जाएंगे हैरान नवरात्रि 2017: आज से शारदीय नवरात्र प्रारंभ, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा एवं कलश स्थापना विधि (गुरुवार, 21 सितंबर) एक झलक पेट्रोल-डीजल के दामों पर US में राहुल गांधी ने एक बार फिर बेरोजगारी और सांप्रदायिकता के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना राशिफल : 21 सितंबर : कैसा रहेगा आपके लिए गुरुवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास में 21 सितंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं आंखो की रौशनी को कमज़ोर होने से बचाता है केला किसी कार्य को करते समय जल्दी थक जाने का ये हो सकता है कारण... चावल से जुड़े ये तथ्य जानकर हैरान रह जायेंगे आप स्किन के लिए बहुत फायदेमंद होता है लाल चंदन हमें कई तरह की बीमारियों से बचाता है नारियल तेल बेटा मां से रोज करता था बलात्कार, मां ने दूसरे बेटे से करवा दिया कत्ल इंटरव्यू के समय इन बातों का रखें ध्यान शिविर में 126 मरीजों का स्वास्थ्य जांचा एशियाई शेरनी महक का ऑपरेशन के बाद स्वास्थ्य में आया सुधार मंत्रिमंडल ने दंतचिकित्‍सक विधेयक, 2017 को दी मंजूरी
मरीजों की मौत के बाद भी नींद में हैं स्वास्थ्य विभाग
sanjeevnitoday.com | Sunday, August 13, 2017 | 01:10:47 AM
1 of 1

कासगंज। जिले में जिला चिकित्सालय सहित अन्य सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता में तो पास हो गए, लेकिन यहां आग जैसी दुर्घटनाओं में बचाव के कोई इंतजाम नहीं हैं। जिला अस्पताल पर भी केवल दो ही अग्निशमन सिलेंडर लगे हुए हैं वे भी एक्सपायर हैं। मरीजों की जान को लेकर स्वास्थ्य विभाग बेपरवाह है।

गोरखपुर में ऑक्सीजन की उपलब्धता न होने पर बच्चों की मौत की घटना के बाद अमर उजाला ने ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता एवं आग से बचाव के इंतजाम की जांच पड़ताल की। जिला अस्पताल में कुल छह ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध पाए गए। यहां आग की स्थिति से निपटने के लिए केवल दो अग्निशमन उपकरण मौजूद थे जो एक्सपायर रहे।

यह भी पढ़े: यहां पर 3 युवाओं ने एक दूसरे के साथ रचाया विवाह

एक अग्निशमन यंत्र वर्ष 2002 का था, जबकि दूसरा अग्निशमन यंत्र 2008 का। किसी भी आग संबंधी दुर्घटना की स्थिति में निपटना मुश्किल हो सकता है। क्योंकि आग की दुर्घटना का प्रकोप ऑक्सीजन मिलते ही और तेज हो जाता है। जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी हालत बेहद खराब हैं।

पटियाली के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर छह, सोरों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर तीन ऑक्सीजन सिलेंडर मिले। आग से निपटने का कोई इंतजाम नहीं था। पूर्व में अस्पतालों में हुईं आग की दुर्घटनाओं से भी स्वास्थ्य विभाग ने सबक नहीं लिया है।

सीएमओ डा. रंगजी दुबे का कहना है कि जिले में सभी चिकित्सालयों पर पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था है। प्रतिमाह 12 से 14 सिलेंडरों की खपत होती है। सभी एंबुलेंस में भी ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध हैं। ऑक्सीजन सप्लायर का कोई पुराना बकाया नहीं है। जबकि अग्निशमन उपकरणों के के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा। उन्होंने बताया नवीन जिला चिकित्सालय भवन में सभी व्यवस्थाएं की जा रहीं हैं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.