MRP स्टीकर लगाने समय अवधि में की बढ़ोतरी राफेल युद्धक विमान सौदे से नाराज कांग्रेस ने मोदी सरकार पर सवालों से किया हमला मुख्यमंत्री ने की वित्त मंत्री से मुलाकात, वर्तमान अफीम नीति में बदलाव के लिए जताया आभार इस्लामिक स्टेट इराक और सीरिया में गवां चुका है 95 फीसदी हिस्सा: गठबंधन सेना राजदेव हत्याकांड : SC ने तेज प्रताप की वायरल तस्वीरों पर सीबीआई से मांगी रिपोर्ट जापान में एक ट्रेन के तय समय से पहले चलने पर रेलवे ने जारी किया माफ़ी नामा आलू डालो, सोना निकलेगा, राहुल गांधी के वायरल वीडियो की सच्चाई, देखें वीडियो BJP नेता शिव कुमार के बाद घायल लड़की ने भी तोडा दम GST से पहले के सामान को नई MRP स्टिकर के साथ बेचने की समयसीमा 31 दिसंबर तक बढ़ी शाहरुख को एयरपोर्ट तक ड्रॉप करने आईं बनर्जी, गाड़ी से उतर कर छुए पैर सेंसर बोर्ड की मार, टल सकती है फिल्म 'पद्मावती' की रिलीज डेट कुलभूषण मामला, पत्नी से मिलने के प्रस्ताव पर हम भारत के जवाब का इन्तजार कर रहे हैं: पाकिस्तान पालक का जूस सेहत के लिए है लाभदायक मोदी विश्व के एकमात्र ऐसे नेता जो कर सकते है चीन से सामना: अमेरिकी विशेषज्ञ Movie Review: हमारी ज़िंदगी जैसी है 'तुम्हारी सुलू' चुनाव आयोग का फैसला, शरद को लगा झटका 'तीर' नीतीश कुमार का... यहां यौन सम्बन्ध बनाने वालो के लिए भी मिल रही है Ambulance तेजस्वी यादव ने राहुल गांधी का शुक्रिया अदा कर किया ट्वीट जानिए, पानी की बोतल पर क्यों लिखी जाती है EXPIRY DATE? गुजरात चुनाव: BJP उम्‍मीदवारों की लिस्‍ट जारी, किसको कहां से मिला टिकट, जानिए
मरीजों की मौत के बाद भी नींद में हैं स्वास्थ्य विभाग
sanjeevnitoday.com | Sunday, August 13, 2017 | 01:10:47 AM
1 of 1

कासगंज। जिले में जिला चिकित्सालय सहित अन्य सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता में तो पास हो गए, लेकिन यहां आग जैसी दुर्घटनाओं में बचाव के कोई इंतजाम नहीं हैं। जिला अस्पताल पर भी केवल दो ही अग्निशमन सिलेंडर लगे हुए हैं वे भी एक्सपायर हैं। मरीजों की जान को लेकर स्वास्थ्य विभाग बेपरवाह है।

गोरखपुर में ऑक्सीजन की उपलब्धता न होने पर बच्चों की मौत की घटना के बाद अमर उजाला ने ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता एवं आग से बचाव के इंतजाम की जांच पड़ताल की। जिला अस्पताल में कुल छह ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध पाए गए। यहां आग की स्थिति से निपटने के लिए केवल दो अग्निशमन उपकरण मौजूद थे जो एक्सपायर रहे।

यह भी पढ़े: यहां पर 3 युवाओं ने एक दूसरे के साथ रचाया विवाह

एक अग्निशमन यंत्र वर्ष 2002 का था, जबकि दूसरा अग्निशमन यंत्र 2008 का। किसी भी आग संबंधी दुर्घटना की स्थिति में निपटना मुश्किल हो सकता है। क्योंकि आग की दुर्घटना का प्रकोप ऑक्सीजन मिलते ही और तेज हो जाता है। जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी हालत बेहद खराब हैं।

पटियाली के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर छह, सोरों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर तीन ऑक्सीजन सिलेंडर मिले। आग से निपटने का कोई इंतजाम नहीं था। पूर्व में अस्पतालों में हुईं आग की दुर्घटनाओं से भी स्वास्थ्य विभाग ने सबक नहीं लिया है।

सीएमओ डा. रंगजी दुबे का कहना है कि जिले में सभी चिकित्सालयों पर पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था है। प्रतिमाह 12 से 14 सिलेंडरों की खपत होती है। सभी एंबुलेंस में भी ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध हैं। ऑक्सीजन सप्लायर का कोई पुराना बकाया नहीं है। जबकि अग्निशमन उपकरणों के के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा। उन्होंने बताया नवीन जिला चिकित्सालय भवन में सभी व्यवस्थाएं की जा रहीं हैं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.